Monday, August 15, 2022
Homeदेश-समाज7 बांग्लादेशी घुसपैठियों को कर्नाटक से किया गया गिरफ्तार, सभी के पास से फर्जी...

7 बांग्लादेशी घुसपैठियों को कर्नाटक से किया गया गिरफ्तार, सभी के पास से फर्जी आधार कार्ड बरामद: जाँच में जुटी पुलिस

, "सभी 7 लोगों ने पूछताछ में बताया है कि वे गैर कानूनी तरीके से भारत में दाखिल हुए थे। ये सभी एक ब्रोकर के जरिए कर्नाटक पहुँच गए थे। इनके पास से इनके बांग्लादेशी नागरिक होने के दस्तावेज भी बरामद हुए हैं।"

कर्नाटक के रामनगर जिले के बसवनपुरा गाँव में पुलिस ने मंगलवार (12 जुलाई, 2022) को एक गारमेंट फैक्ट्री में छापा मार कर यहाँ काम कर रहे 7 बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में कर्नाटक पुलिस का कहना है कि यह सभी आरोपित गैर कानूनी तरीके से मई के महीने में बांग्लादेश से भारत में दाखिल हुए थे। इसके पास से फेक आधार कार्ड भी बरामद हुए हैं।

ANI की रिपोर्ट के अनुसार, रामनगर के एसपी के. संतोष बाबू ने मामले में जानकारी देते हुए बताया, “रामनगर ग्रामीण पुलिस ने फर्जी आईडी प्रूफ के साथ यहाँ रह रहे और काम कर रहे सात बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया। वे एक गारमेंट फैक्ट्री में काम करते थे। उनके पास ओडिशा, पश्चिम बंगाल और असम के आईडी कार्ड मिले हैं।”

रामनगर के एसपी, के. संतोष बाबू के मुताबिक, “सभी 7 लोगों ने पूछताछ में बताया है कि वे गैर कानूनी तरीके से भारत में दाखिल हुए थे। ये सभी एक ब्रोकर के जरिए कर्नाटक पहुँच गए थे। इनके पास से इनके बांग्लादेशी नागरिक होने के दस्तावेज भी बरामद हुए हैं।”

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, भारत में दाखिल होने के बाद एक ब्रोकर के जरिए सभी 7 लोगों ने अलग-अलग एड्रेस पर अपने नकली आधार कार्ड बनवाए थे। जून के पहले हफ्ते में यह लोग कर्नाटक के डोड्डाबल्लापुर जिला पहुँचे और फिर वहाँ से बेंगलुरु के पास वाले जिले रामनगर चले गए। इसके बाद रामनगर की एक गारमेंट फैक्ट्री में काम करने लगे। बताया जा रहा है कि इन लोगों ने इसी इलाके में एक घर भी किराए पर ले लिया था। वहीं पुलिस को अब उस ब्रोकर की भी तलाश है, जिसने इन सभी को रामनगर पहुँचने में मदद की थी।

वहीं पुलिस अब गारमेंट फैक्ट्री के मालिक की भी जाँच कर रही है कि आखिर उसने इन्हें कैसे नौकरी दे दी। इसके साथ ही पुलिस इस एंगल से भी जाँच कर रही है कि यह लोग क्या सिर्फ नौकरी के लिए ही कर्नाटक आए थे या फिर किसी साजिश के तहत यहाँ नौकरी कर रहे थे। उन्होंने बताया कि इन सभी लोगों को बेंगलुरु के डिटेंशन सेंटर में जल्द ही शिफ्ट किया जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वे नहीं रहे… क्योंकि वे हिन्दू थे: अपनी नवजात बेटी को भी नहीं देख पाए गौ प्रेमी किशन भरवाड

27 वर्षीय हिंदू युवक किशन भरवाड़ को कट्टरपंथी मुस्लिमों ने 25 जनवरी 2022 को केवल हिंदू होने के कारण मार डाला था। वजह वही क्योंकि वे हिन्दू थे।

‘3 घंटे में ख़त्म कर देंगे’: मुकेश अंबानी के परिवार को हत्या की धमकी, ‘रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल’ को 8 फोन कॉल्स के बाद मुंबई...

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन उद्योगपति मुकेश अंबानी के परिवार को जान से मारने की धमकी मिली है। मुंबई पुलिस ने शुरू की जाँच। आए थे 8 फोन कॉल्स।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,977FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe