Tuesday, November 30, 2021
Homeदेश-समाजसील मकान का ताला तोड़ने के लिए AAP MLA हाजी इशराक पर मामला दर्ज

सील मकान का ताला तोड़ने के लिए AAP MLA हाजी इशराक पर मामला दर्ज

घटना का वीडियो सामने आने के बाद विधायक हाजी इशराक और मकान मालिक के खिलाफ़ मुकदमा दर्ज किया गया। इशराक ने सीलिंग तोड़ने की बात कबूली है।

आम आदमी पार्टी के विधायक हाजी इशराक पर सीलिंग तोड़ने के आरोप में मामला दर्ज हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नगर निगम ने ब्रह्मपुरी इलाके में एक मकान को सील किया था, जिसका ताला हाजी इशराक ने रविवार को तोड़ दिया।

घटना का वीडियो सामने आने के बाद विधायक हाजी इशराक और मकान मालिक के खिलाफ़ मुकदमा दर्ज किया गया। आजतक की खबर के मुताबिक इशराक ने उनसे बातचीत में इस बात को स्वीकारा कि सीलिंग उन्होंने ही तोड़ी है। लेकिन अपनी इस हरकत को वह गलत नहीं मानते।

ताजा रिपोर्ट के अनुसार सीलमपुर के ब्रह्मपुरी इलाके में ईडीएमसी ने फिर से इस घर को सील कर दिया है। इस बार घर के तीन मालों में हुए अवैध निर्माण को भी तोड़ दिया है।

बता दें कि बीते रविवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया था जिसमें हाजी इशराक खान, मकान मालिक के साथ खुद सील तोड़ते हुए दिखाई दे रहे थे। वीडियो वायरल होने के बाद मीडिया से बातचीत में इशराक ने बताया था कि जिस मकान की सीलिंग तोड़ी गई है, वहाँ पर सीलिंग लगाना गलत था। जिस मकान पर सील लगाई गई थी उसके पड़ोस में रहने वाले एक पुलिस वाले ने मकान मालिक से घूस माँगी थी, जो मकान मालिक ने नहीं दी। इसलिए पुलिस वाले ने नगर निगम के साथ मिलकर मकान सील करवा दिया।

वहीं, मकान मालिक सिंह त्यागी की मानें तो वह 40 वर्ष से उस जगह पर रह रहा था, लेकिन बीते 2 साल से घूस न मिलने से उसका पड़ोसी उसे परेशान करने लगा। मकान मालिक की मानें तो उसका घर अवैध निर्माण नहीं है। उसने कई बार अधिकारियों से गुहार भी लगाई थी, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। इस बीच उसने अपनी दिक्कत इलाके के विधायक हाजी इशराक को बताई और उन्होंने खुद आकर मकान पर लगी सीलिंग को हटा दिया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe