Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाज'बैड कैरेक्टर' पर AAP विधायक अमानतुल्लाह खान को राहत देने से हाई कोर्ट...

‘बैड कैरेक्टर’ पर AAP विधायक अमानतुल्लाह खान को राहत देने से हाई कोर्ट का इनकार, दिल्ली पुलिस से भी माँगा जवाब

अमानतुल्लाह खान के वकील ने अदालत से गुहार लगाते हुए कहा कि इस मामले में जानकारी सीधे मीडिया में प्रसारित कर दी गई जिससे विधायक के परिवार का नाम खराब हुआ।

आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक अमानतुल्लाह खान (Amanatullah Khan) को दिल्ली हाई कोर्ट ने अं​तरिम राहत देने से इनकार किया है। खान ने इस साल मार्च में अपने खिलाफ हिस्ट्रीशीट खोलने को चुनौती दी थी। इसमें उसके ​चरित्र को खराब (बैड कैरेक्टर) घोषित किया गया था। इस संबंध में अदालत ने बुधवार (1 जून 2022) को सुनवाई के बाद दिल्ली पुलिस से भी जवाब माँगा है।

अब इस मामले की अगली सुनवाई 28 जुलाई को होगी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक AAP विधायक के वकील सुफियान सिद्दीकी ने कहा कि दिल्ली पुलिस द्वारा हिस्ट्रीशीट खोलना कानूनी प्रक्रिया का दुरुपयोग है। उन्होंने कोर्ट से कहा, “दिल्ली पुलिस ने अमानतुल्लाह खान पर हुई कार्रवाई की जानकारी दुर्भावनावश सीधे मीडिया में प्रसारित कर दी। इससे विधायक के परिवार वालों का नाम खराब हुआ।”

आप विधायक के वकील की दलीलों को सुनने के बाद जस्टिस सुधीर कुमार जैन ने दिल्ली पुलिस को स्टेट्स रिपोर्ट दाखिल करने के निर्देश दिए। वहीं अमानतुल्लाह खान ने 1 जून के एक ट्वीट में कहा है, “दिल्ली पुलिस ने मुझे बैड कैरेक्टर (BC) घोषित कर बदनाम करने की जो कोशिश की थी, उसके खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में मेरे द्वारा दायर याचिका पर आज हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी कर जवाब माँगा है।”

गौरतलब है कि शाहीन बाग़ और मदनपुर खादर में MCD द्वारा चलाए जा रहे अतिक्रमण विरोधी अभियान के दौरान आप विधायक ने हंगामा किया था। पुलिसकर्मियों का आरोप है कि इस हंगामे के दौरान उन पर पथराव भी किया गया था। पुलिस ने अमानतुल्लाह खान को इस मुख्य आरोपी बनाते हुए केस दर्ज किया था। विधायक की गिरफ्तारी भी हुई थी। बाद में उसे साकेत कोर्ट से जमानत मिल गई थी। इसके बाद दिल्ली पुलिस ने सरकारी काम में बाधा डालने के आरोप में अमानतुल्लाह को BC (बैड कैरेक्टर) घोषित कर दिया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -