Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजकश्मीर पर छलका गौहर खान का दर्द, लोगों ने घाटी के 30 साल का...

कश्मीर पर छलका गौहर खान का दर्द, लोगों ने घाटी के 30 साल का इतिहास बता कर दिया शांत

लोगों ने गौहर खान से पूछा, "जब कश्मीरी पंडितों को अपने ही देश में शरणार्थी बना दिया गया था तब तुम कहा थीं और कहाँ था ये दुख-दर्द।"

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 का पावर खत्म के बाद विशेष गिरोह के लोगों द्वारा अलग-अलग तरीके से इस फैसले पर विरोध जताया जा रहा है। राजनेता से लेकर पत्रकार इस पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इस सूची में कई बॉलीवुड सितारों का नाम भी शामिल हैं। जिसमें हालिया नाम बिग-बॉस सेलेब्रिटी गौहर खान का है।

गौहर ने अपने हालिया ट्वीट में कश्मीर के लोगों के प्रति चिंता जताई है। उन्होंने कश्मीर में लगी पाबंदियों के बीच अनुच्छेद 370 हटाने का पर्याय पूछा है। जिसके बाद उनका ये ट्वीट सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

गौहर खान ने अपने ट्वीट में कहा, “हमारे देश की करीब 80 लाख से ज्यादा आबादी बाहर की दुनिया से किसी भी तरह का संपर्क नहीं कर पा रही है। क्या अनुच्छेद 370 हटाने और कश्मीर को हमारे साथ मिलाने का यही मूल कारण था? कश्मीर की पूरी जनता को संपर्क रहित बनाकर हम उन्हें एक साथ लाने का आत्मविश्वास कैसे ला सकते हैं?”


गौहर के इस ट्वीट के बाद यूजर्स ने उन्हें उनके ट्वीट पर जमकर घेरा। लोगों ने उनसे पूछा, “जब कश्मीरी पंडितों को अपने ही देश में शरणार्थी बना दिया गया था तब तुम कहा थीं और कहाँ था ये दुख-दर्द।”

एक यूजर ने उन्हें समझाने का भी प्रयास किया कि जिस परेशानी से भारत पिछले 70 सालों से गुजरा है उसे सही होने में कुछ समय लगेगा। प्रधानमंत्री मोदी अपने कर्तव्य पूर्ण रूप से निभा रहे हैं, हमें अपने देश की सरकार पर विश्वास करना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe