Friday, July 30, 2021
Homeदेश-समाज43 की मौत के बाद फैक्ट्री मालिक रेहान के ख़िलाफ़ FIR दर्ज, पुलिस ने...

43 की मौत के बाद फैक्ट्री मालिक रेहान के ख़िलाफ़ FIR दर्ज, पुलिस ने किया गिरफ्तार, पूछताछ जारी

"आईपीसी की धारा 304 के तहत FIR दर्ज की गई है। मामला अब क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर कर दिया गया है। सुबह 5.22 बजे एक इमारत में आग लगने की सूचना पुलिस को मिली थी। आग बुझाने के लिए फायर टेंडरों को मौके पर भेजा गया।"

रविवार को दिल्ली की अनाज मंडी इलाक़े में तड़के एक सामान बनाने वाली फैक्ट्री में आग लगने से 43 लोगों की मौत हो गई। इस घटना के संबंध में एक FIR दर्ज की गई है और मामले को आगे की जाँच के लिए अपराध शाखा में स्थानांतरित कर दिया गया है। खबर के अनुसार फैक्ट्री मालिक रेहान को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

ख़बर के अनुसार, प्लॉट के मालिक मोहम्मद रहीम हैं, जिन्होंने इसे दस साल पहले ख़रीदा था। बाद में, उन्होंने इसे अपने तीन बेटों: रेहान, शान ई-लाही और इमरान के बीच समान रूप से बाँट दिया था। आज सुबह जो आग लगी थी वो रेहान के कारखाने के हिस्से में लगी थी। अब, कारखाने के मालिक के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 304 (10 साल की अधिकतम कारावास के साथ ग़ैरइरादन हत्या) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

दिल्ली पुलिस पीआरओ एमएस रंधावा ने कहा,

“आईपीसी की धारा 304 के तहत FIR दर्ज की गई है। मामला अब क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर कर दिया गया है। सुबह 5.22 बजे एक इमारत में आग लगने की सूचना पुलिस को मिली थी। आग बुझाने के लिए फायर टेंडरों को मौके पर भेजा गया। बचाव अभियान में, हमने लगभग 60 लोगों को बचाया लेकिन दुर्भाग्य से 43 लोगों ने अपनी जान गँवा दी।”

उन्होंने कहा, “आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगी। आग लगने के बाद उठे धुएँ के कारण परिसर में बहुत सारा प्लास्टिक था। अधिकतर मौतें धुएँ के कारण श्वासावरोध के कारण हुईं। हमने अधिकांश घायलों को एलएनजेपी अस्पताल और लेडी हार्डिंग अस्पताल में ट्रांसफर कर दिया है।”

इसके अलावा, यह भी बताया गया कि चार मंज़िला इमारत में दिल्ली अग्निशमन सेवा से आग की निकासी नहीं है और इसके परिसर में कोई अग्नि सुरक्षा उपकरण भी स्थापित नहीं किया गया था। अधिकारियों ने कहा कि दमकल विभाग और भीड़भाड़ वाले इलाक़े में से किसी भी इकाई के पास अनापत्ति प्रमाणपत्र (NOC) नहीं था, जिससे बचाव कार्य और मुश्किल हो गया।

आज सुबह आग लगने पर 50 से अधिक लोग इमारत के अंदर थे। आग लगने की सूचना मिलने पर 15 फायर टेंडरों को घटनास्थल पर भेजा गया, लेकिन बाद में आग की चपेट में आने के कारण 10-12 और फायर टेंडर भेजे गए। अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की कि आग को पूरी तरह से बुझा दिया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान: चुनाव में कर्जमाफी का वादा… अब मुकर गई कॉन्ग्रेसी सरकार, किसानों को मिल रहे कुर्की के नोटिस

प्रदेश में तमाम किसान हैं जिन्होंने 1 लाख रुपए से लेकर साढ़े 3 लाख रुपए तक लोन लिया था, और अब उनके पास नोटिस गए हैं। बैंक उन्हें कुर्की के नोटिस भेज रहा है।

सिद्धू के नाम ऑडियो, कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता की आत्महत्या: कहा – ‘पार्टी को 30 साल दिए, शादी भी नहीं… कोई फायदा नहीं’

ऑडियो के मुताबिक किसी प्लॉट संबंधी एक मामले में बाजवा को फँसाने की तैयारी चल रही थी, इसी से आहत होकर उन्होंने आत्महत्या का फैसला किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,980FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe