Sunday, July 3, 2022
Homeदेश-समाज9 साल के बेटे के लिए 'इलाज या इच्छामृत्यु' चाहती थी माँ, फरियाद पर...

9 साल के बेटे के लिए ‘इलाज या इच्छामृत्यु’ चाहती थी माँ, फरियाद पर सुनवाई से पहले गोद में तोड़ दिया दम

“हमने उसके इलाज के लिए लगभग 4 लाख रुपए खर्च कर दिए। हमने उसका इलाज तिरुपति, वेल्लोर और तमिलनाडु के कई शहरों में कराया। हम कई बड़े डॉक्टरों से भी मिले, लेकिन हर्षवर्धन की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ।"

इकलौती संतान, उम्र: 9 साल और एक दुर्लभ बीमारी। फरियाद लेकर अदालत का चक्कर काटती माँ। एक दिन अचानक से बेटा माँ की गोद में दम तोड़ देता है। अब कल्पना कीजिए उस माँ के दर्द का। यह दर्द है आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले के चौडेपल्ली मंडल के बिरजेपल्ली गाँव की एक माँ का। 

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक जी. मणि और जी. अरुणा का 9 साल का बेटा हर्षवर्धन खून से जुड़ी एक दुर्लभ बीमारी से ग्रसित था। हर्षवर्धन जब चार साल का था, तब उसका एक्सीडेंट हुआ था। उसके बाद से अक्सर उसकी नाक से खून आ जाया करता था। इसके बाद दम्पति को बेटे की दुर्लभ बीमारी का पता चला।

परिवार के पास संसाधन बेहद सीमित थे। बावजूद उन्होंने इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ी। पेशे से किसान जी. मणि ने अपनी जमीन का कुछ हिस्सा भी बेच दिया। जी. अरुणा कहती हैं, “हमने उसके इलाज के लिए लगभग 4 लाख रुपए खर्च कर दिए। हमने उसका इलाज तिरुपति, वेल्लोर और तमिलनाडु के कई शहरों में कराया। हम कई बड़े डॉक्टरों से भी मिले, लेकिन हर्षवर्धन की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ।”

अरुणा को किसी रिश्तेदार ने सलाह दिया कि उन्हें स्थानीय कोर्ट में आवेदन देना चाहिए कि या तो सरकार उनके बेटे हर्षवर्धन के इलाज में सहायता करे या फिर कोर्ट उसे इच्छामृत्यु की अनुमति दे। दो दिनों तक वह बेटे को लेकर याचिका दायर करने को लिए कोर्ट के चक्कर लगाती रहीं। मंगलवार (01 जून 2021) को भी अरुणा पुंगनूर कोर्ट में आवेदन लेकर ही आईं थी। लेकिन एक बार फिर वह आवेदन नहीं दे सकीं।

इसके बाद घर लौटने के लिए वह एक ऑटो रिक्शा में सवार हुईं। इसी दौरान अचानक फिर से हर्षवर्धन की नाक से खून आने लगा और थोड़ी ही देर में उसने माँ की गोद में ही दम तोड़ दिया। अरुणा ने कहा, “मैंने सोचा था कि कोर्ट में जाकर अपने बेटे को शायद बचा पाऊँ, लेकिन इससे पहले कि न्यायपालिका मेरी सहायता करती, मेरे बेटे ने मेरी गोद में ही दम तोड़ दिया।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

8 लोग थे निशाने पर, एक डॉक्टर को वीडियो बना माँगनी पड़ी थी माफ़ी: उमेश कोल्हे के गले पर 5 इंच चौड़ा, 7 इंच...

उमेश कोल्हे के गले पर जख्म 5 इंच चौड़ा, 5 इंच लंबा और 5 इंच गहरा था। साँस वाली नली, भोजन निगलने वाली नली और आँखों की नसों पर भी वार किए गए थे।

सिर कलम करने में जिस डॉ युसूफ का हाथ, वो 16 साल से था दोस्त: अमरावती हत्याकांड में कश्मीर नरसंहार वाला पैटर्न, उदयपुर में...

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या में उनका 16 साल पुराना वेटेनरी डॉक्टर दोस्त यूसुफ खान भी शामिल था। उसी ने कोल्हे की पोस्ट को वायरल किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,752FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe