Thursday, May 23, 2024
Homeदेश-समाजपत्नी के साथ न्यूयॉर्क जा रहे थे अशनीर ग्रोवर, दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके गए:...

पत्नी के साथ न्यूयॉर्क जा रहे थे अशनीर ग्रोवर, दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके गए: भारतपे में फ्रॉड से जुड़ा है मामला, होनी है पूछताछ

दिल्ली पुलिस की जाँच के मुताबिक इन आठ फर्मों पर आरोप है कि इन्होंने गलत इन्होंने भारतपे से HR सर्विसेज के लिए झूठे इनवॉइस के जरिए पैसे निकाले हैं। 

भारतपे के पूर्व प्रबंध निदेशक अशनीर ग्रोवर और उनकी पत्नी माधुरी जैन को गुरुवार (16  नवंबर, 2023) की शाम को इंदिरा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर रोक दिया गया, जब वे न्यूयॉर्क के लिए रवाना हो रहे थे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, “अश्नीर और उनकी पत्नी न्यूयॉर्क में छुट्टियाँ मनाने जा रहे थे और दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने उन्हें रोक लिया।” दरअसल अशनीर ग्रोवर पर भारतपे में मामले में कथित धोखाधड़ी के आरोप हैं।  वहीं आर्थिक अपराध से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि भारत पे मामले में दोनों के खिलाफ चल रही है। उनके खिलाफ एक लुकआउट सर्कुलर जारी किया गया है।

संयुक्त पुलिस आयुक्त (ईओडब्ल्यू) सिंधु पिल्लई ने इस मामले में जानकारी देते हुए बताया, “उन्हें सुरक्षा जाँच से पहले ही हिरासत में लिया गया था और उन्हें अपने दिल्ली आवास पर लौटने और अगले सप्ताह ईओडब्ल्यू कार्यालय में जाँच में शामिल होने के लिए कहा गया।”

दिल्ली हाई कोर्ट में जमा स्टेट्स रिपोर्ट में पुलिस ने कहा कि ग्रोवर की पत्नी माधुरी जैन से जुड़ी 8 HR फर्म्स ने भारतपे से 7.6 करोड़ रुपए की साइफनिंग की है। ये सभी 8 फर्म माधुरी जैन के रिश्तेदारों से जुड़े हुए हैं। इनमें उनके पिता सुरेश जैन और भाई श्वेतांक जैन भी शामिल हैं। दिल्ली पुलिस की जाँच के मुताबिक इन आठ फर्मों पर आरोप है कि इन्होंने गलत इन्होंने भारतपे से HR सर्विसेज के लिए झूठे इनवॉइस के जरिए पैसे निकाले हैं। बता दें कि माधुरी जैन पहले भारतपे की डायरेक्टर ऑफ पे रह चुकी हैं। 

बता दें कि भारतपे में कथित थोखाधड़ी को लेकर, फाउंडर अशनीर ग्रोवर और कैपिटलमाइंड फाउंडर दीपक शेनॉय के बीच बहस सोशल मीडिया एक्स पर एक दिन पहले ही बुधवार को शुरू हो गई थी। ये छींटाकशी उस रिपोर्ट के बाद हुई है, जिनमें ग्रोवर और उनके परिवार से जुड़ी कंपनियों पर भारतपे से फंड चुराने के आरोप लगे हैं। इस मामले में दिल्ली पुलिस की इकोनॉमिक विंग द्वारा दिल्ली हाई कोर्ट में दाखिल की गई स्टेट्स रिपोर्ट में ये फंड साइफनिंग के आरोप सामने आए हैं। 

दीपक शेनॉय से तकरार

इस मामले में दीपक शेनॉय ने लिखा, “अशनीर ग्रोवर ने रिक्रूटमेंट सर्विसेज के नाम पर अपने परिवार के पास फंड की साइफनिंग की, ये पैसे निकालने का बहुत जाना-पहचाना तरीका है। इसे बहुत बेवकूफी के साथ अंजाम दिया गया- उन्होंने बैकडेट पर उन बैंक अकाउंट्स के साथ इन्वॉइस बनाए, जो उस तारीख को खुले भी नहीं थे।”

उन्होंने आगे लिखा, ‘उस समय के हिसाब से करीब 53 करोड़ का ऐसी कंपनियों में भुगतान किया गया था। ये कंपनियाँ GST तक जमा नहीं कर रही थीं। जिसके चलते ये पूरा भंडाफोड़ हुआ। मैं सोचता हूँ कि स्टार्टअप्स के इन्वेस्टर्स को कम से कम एक पॉलिसी बनानी चाहिए, जिसके तहत कहा जाए कि रिक्रूटमेंट रिलेटेड पेमेंट्स और फाउंडर्स से संबंधों का साल में एक बार इंडिपेंडेंट रिव्यू जरूर किया जाएगा। इस तरह पैसा बाहर निकालना बहुत आम है।”

अशनीर ग्रोवर ने दिया रिएक्शन

वहीं इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए अशनीर ग्रोवर ने अपना पुराना ट्वीट फिर से शेयर किया, जिसमें उन्होंने दावा किया था कि अंत में वे निर्दोष साबित होंगे। 

 जवाब में दीपक शेनॉय ने ग्रोवर को अमेरिका स्थित एनर्जी कंपनी एनरॉन का मामला याद दिलाया, जिसमें फाउंडर को 24 साल की जेल हुई थी।  उन्होंने लिखा, ‘एनरॉन का स्किलिंग भी जेल जाने से पहले किसी को ‘Ass**le’ बोल रहा था। जब तक पूरा मामला नहीं खुला जाता, अपने वक्त का मजा लो।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने बहिष्कार किया’: बोले PM मोदी – इन्होंने भारतीयों पर मढ़ा...

प्रधानमंत्री ने स्पष्ट ऐलान किया कि अब यह देश न आँख झुकाकर बात करेगा और न ही आँख उठाकर बात करेगा, यह देश अब आँख मिलाकर बात करेगा।

कॉन्ग्रेस नेता को ED से राहत, खालिस्तानियों को जमानत… जानिए कौन हैं हिन्दुओं पर हमले के 18 इस्लामी आरोपितों को छोड़ने वाले HC जज...

नवंबर 2023 में जब राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी चरम पर थी, जब जस्टिस फरजंद अली ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार मेवाराम जैन को ED से राहत दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -