Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजसावन की सोमवारी पर शिव मंदिर में भजन बजाने पर विवाद, पुजारी की पीट-पीटकर...

सावन की सोमवारी पर शिव मंदिर में भजन बजाने पर विवाद, पुजारी की पीट-पीटकर हत्या का दावा: बिहार पुलिस बोली- हार्ट अटैक से हुई मौत

पुजारी के शिष्य विकास कुमार के अनुसार बाजा बंद करवाने आए लोगों से उसका ही विवाद हुआ था। बीच-बचाव करने के लिए पुजारी आए तो इनलोगों ने उन पर हमला कर दिया। रौशन कुमार नाम के एक स्थानीय व्यक्ति के अनुसार पहले विकास कुमार के साथ मारपीट की गई। जब पुजारी बचाने आए तो उनकी भी पिटाई कर दी गई।

बिहार के वैशाली जिले के एक शिव मंदिर में सावन की दूसरी सोमवारी (17 जुलाई 2023) पर भजन बजाने को लेकर विवाद हो गया। दावा किया जा रहा है कि भजन को लेकर आपत्ति जताने वालों ने 68 साल के पुजारी की पीट-पीटकर हत्या कर दी। लेकिन बिहार पुलिस का कहना है कि पुजारी की मौत हार्ट अटैक से हुई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामला भगवानपुर थाना क्षेत्र के गाँव असतपुर सतपुरा का है। यहाँ के शिव मंदिर में सोमवार को भजन बज रहा था। तभी कुछ लोग बाजा बंद करवाने के लिए मंदिर में आ गए। इनलोगों की आपत्ति पर पुजारी शिवनारायण गिरी ने साउंड कम कर दी। लेकिन विरोध करने वाले लोग बाजा पूरी तरह से बंद करवाने पर अमादा थे। कथित तौर पर इससे इनकार करने पर विरोध करने वाले लोग पुजारी की पिटाई करने लगे।

पुजारी के शिष्य विकास कुमार के अनुसार बाजा बंद करवाने आए लोगों से उसका ही विवाद हुआ था। बीच-बचाव करने के लिए पुजारी आए तो इनलोगों ने उन पर हमला कर दिया। रौशन कुमार नाम के एक स्थानीय व्यक्ति के अनुसार पहले विकास कुमार के साथ मारपीट की गई। जब पुजारी उसे बचाने आए तो उनकी भी पिटाई कर दी गई, जिससे उनकी मौत हो गई।

अन्य ग्रामीण भी पिटाई से ही मौत का दावा कर रहे हैं। घटना की सूचना मिलने पर भगवानपुर थाना की पुलिस मौके पर पहुँची और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए हाजीपुर सदर अस्पताल भेज दिया। पुलिस का कहना है कि यह प्रथम दृष्टया हार्ट अटैक से मौत का मामला लग रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के असल कारणों का पता चल पाएगा। दैनिक भास्कर की रिपोर्ट में भजन का विरोध करने वालों के नाम सुजीत कुमार,अन्नू कुमार, सोनू कुमार और विकास कुमार बताया गया। ​सुजीत, अन्नू और सोनू आपस में भाई हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -