Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजपकड़ा गया काली मंदिर के पुजारी का हत्यारा मोहम्मद जीशान: सिर और चेहरे में...

पकड़ा गया काली मंदिर के पुजारी का हत्यारा मोहम्मद जीशान: सिर और चेहरे में लाठी से किए थे ताबड़तोड़ वार, बाहर डाल दिया था शव

मृत पुजारी रामदास मूल रूप से जिला गोरखपुर के बताए जा रहे हैं। वो लगभग 20 साल पहले हरिद्वार से बिजनौर के काली मंदिर में पूजा पाठ करने आए थे। उनकी हत्या बड़ी निर्ममता से की गई थी।

उत्तर प्रदेश के जिला बिजनौर में 10 दिसम्बर, 2021 (शुक्रवार) की रात हुई जयमहाकाली मंदिर के पुजारी रामदास की हत्या का खुलासा हुआ है। बिजनौर पुलिस ने इस मामले में मोहम्मद जीशान को पकड़ा है। पुलिस के मुताबिक, सट्टे में जीत के लिए लकी नंबर न मिलने से नाराज हो कर उसने पुजारी रामदास गिरी की हत्या की है। घटना थाना नांगल के गाँव नांगल की है। पुलिस ने बताया कि आरोपित ने पुजारी की हत्या का जुर्म स्वीकार कर लिया है।

इस मामले पर बयान देते हुए बिजनौर पुलिस अधीक्षक ने बताया, ‘मृत पुजारी की उम्र लगभग 60 वर्ष थी। उनकी हत्या लाठियों से पीट कर हुई थी। इस मामले में थाना पुलिस के साथ स्वाट और सर्विलांस की टीमें भी लगाई गई थी। घटना की वजह पुजारी से सट्टे का लकी नंबर निकलवाना था। बिजनौर के जीशान ने कई बार लकी टिकट नंबर लगवाया था। इसके दौरान उसने गिफ्ट के रूप में मोबाइल फोन और पैसे भी दिए थे। कुछ समय बाद जीशान को 4-5 लाख रुपयों का घाटा हुआ। इसी के चलते मोबाइल फोन पर उसका पुजारी से विवाद हुआ। इस दौरान गाली-गलौज भी हुआ। इसी के बाद रात में जीशान ने पुजारी की हत्या कर दी। हत्या में जीशान द्वारा लाठी का प्रयोग किया गया था। जीशान को गिरफ्तार कर के जेल भेजा जा रहा है। ‘

पुलिस के मुताबिक, मामले में FIR संख्या 155 / 21 के तहत धारा 304 के तहत हो रही कार्रवाई में धारा 302 बढ़ाई गई है। आरोपित जीशान के अब्बा का नाम मोहम्मद इब्राहिम है। जीशान बिजनौर शहर के पुराना मझली बाजार, बी 16, चाहशीरी का रहने वाला है। उसे बिजनौर के मंडावर चौराहे से गिरफ्तार किया गया है। पुजारी की हत्या मामले में शिकायत मनोज कुमार शर्मा ने की थी। पुजारी की मौत की मुख्य वजह हेड इंजरी (सिर में चोट) आना बताया गया है।

हत्या में प्रयुक्त लाठी

मृत पुजारी रामदास मूल रूप से जिला गोरखपुर के बताए जा रहे हैं। वो लगभग 20 साल पहले हरिद्वार से बिजनौर के काली मंदिर में पूजा पाठ करने आए थे। उनकी हत्या बड़ी निर्ममता से की गई थी। उनके चेहरे पर ही ज्यादातर वार किए गए थे। फर्श पर खून के छींटे पाए गए थे। कमरे का तमाम सामान भी अस्त-व्यस्त था। हत्या के बाद उनके शव को मंदिर के बाहर डाल दिया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -