Tuesday, March 2, 2021
Home देश-समाज 'विभाजन के बाद दिल्ली में हुए सबसे भयावह दंगे, राष्ट्र की अंतरात्मा पर घाव...

‘विभाजन के बाद दिल्ली में हुए सबसे भयावह दंगे, राष्ट्र की अंतरात्मा पर घाव जैसा’ – दिल्ली दंगों पर कोर्ट ने कहा

“भारत प्रमुख वैश्विक शक्ति बनने की आकांक्षा रखता है। ऐसे राष्ट्र के लिए 2020 के दिल्ली दंगे राष्ट्र की अंतरात्मा पर घाव जैसे हैं, इन दंगों को विभाजन के बाद का सबसे भयावह दंगा कहना गलत नहीं होगा।"

दिल्ली की एक अदालत ने गुरूवार (22 अक्टूबर 2020) को उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों पर टिप्पणी की। अदालत ने इन दंगों को विभाजन के बाद राजधानी में हुए सबसे भीषण और भयावह दंगे बताया। साथ ही यह भी कहा कि पूरा घटनाक्रम विश्व शांति के लिए आदर्श बनने की आकांक्षा रखने वाले देश की अंतरात्मा के लिए घाव जैसा था।

आम आदमी पार्टी के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन की कुल 3 मामलों में जमानत याचिका खारिज करते हुए अदालत ने यह टिप्पणी की। इसके अलावा अदालत ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में इस साल हुए दंगों के अन्य पहलुओं पर भी टिप्पणी की। 

अदालत ने अपने आदेश में कहा, “इस साल की शुरुआत में 24 फरवरी 2020 को उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई क्षेत्र दंगों की चपेट में आ गए थे। दंगे इतने भयानक थे कि इन्होंने विभाजन के बाद हुए नरसंहार की याद दिला दी। बेहद सीमित समय में दंगे पूरी राजधानी में फ़ैल गए और नतीजा यह निकला कि कई निर्दोष लोगों को इसकी कीमत चुकानी पड़ी।”

अतिरिक्त सत्र के न्यायाधीश विनोद यादव ने टिप्पणी करते हुए कहा, “भारत प्रमुख वैश्विक शक्ति बनने की आकांक्षा रखता है। ऐसे राष्ट्र के लिए 2020 के दिल्ली दंगे राष्ट्र की अंतरात्मा पर घाव जैसे हैं, इन दंगों को विभाजन के बाद का सबसे भयावह दंगा कहना गलत नहीं होगा।” अदालत ने इस बात पर भी ज़ोर दिया कि इतने बड़े पैमाने पर हुए भीषण दंगे पूर्व नियोजित षड्यंत्र के बिना सम्भव नहीं हैं। 

इसके बाद न्यायाधीश ने कहा कि यह बात स्वीकार करने के लिए पर्याप्त साक्ष्य मौजूद हैं कि ताहिर हुसैन अपराध के स्थान पर मौजूद थे और अपने समुदाय के दंगाइयों को भड़काने में अहम भूमिका निभा रहे थे। इतना ही नहीं यह सभी आरोप गंभीर प्रवृत्ति के हैं, जिन्हें नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है।

अदालत के अनुसार जिन तीन मामलों में ताहिर हुसैन की जमानत याचिका खारिज की गई है, इन मामलों के सरकारी गवाह उस क्षेत्र के ही निवासी हैं। ऐसे में ताहिर हुसैन द्वारा डराए या धमकाए जाने की संभावना को खारिज नहीं किया जा सकता है। 

जिन 3 मामलों में ताहिर हुसैन की जमानत याचिका खारिज की गई, वो हैं: 

  1. पहला दयालपुर क्षेत्र में हो रहे दंगों के दौरान ताहिर हुसैन के आवास की छत पर पेट्रोल बम की बरामदगी और सैकड़ों लोगों की कथित तौर पर मौजूदगी। इसके अलावा अन्य समुदाय के लोगों पर पेट्रोल बम और पत्थर फेंकना।
  2. दूसरा मामला एक दुकान में आगजनी और लूटपाट, जिसमें दुकान के मालिक को लगभग 20 लाख रुपए का नुकसान हुआ।
  3. तीसरा मामला, एक दुकान में लूटपाट और आग लगाने संबंधित और इस मामले में दुकान मालिक को 17 से 18 लाख रुपए का नुकसान हुआ। 

आम आदमी पार्टी का पूर्व पार्षद दिल्ली दंगों के मामले में मुख्य षड्यंत्रकर्ता है। दंगों की साजिश ने बारे में भी उसने कई हैरान करने वाली बातें कही थीं। उसने पूछताछ के दौरान कहा:

“मेरा घर इलाके में सबसे ऊँचा था। CAA समर्थकों को सबक सिखाने के लिए मैंने अपने सहयोगियों के साथ पहले ही साजिश रच ली थी। घर में कन्स्ट्रक्शन का काम भी चल रहा था, ऐसे में ईंट-पत्थर इत्यादि पहले ही जमा कर लिए थे। मेरी लाइसेंसी पिस्टल थाने में जमा थी, जिसे मैं दंगों के 2-3 दिन पहली ही छुड़ा कर लाया था। पुलिस के हाथ सबूत न लगे, इसीलिए मैंने पहले ही क्षेत्र के सारे सरकारी व प्राइवेट CCTV कैमरे तोड़वा दिए थे। मैंने अपने समर्थकों को हर तरीके से तैयार रहने कह दिया था।” 

दिल्ली की एक अदालत ने 21 अगस्त, 2020 को फरवरी में हुए हिंदू विरोधी दंगों में शामिल AAP के पूर्व नेता ताहिर हुसैन के खिलाफ दायर चार्जशीट पर संज्ञान लेते हुए कहा था कि ताहिर हुसैन के उकसावे पर संप्रदाय विशेष के लोग हिंसक हो गए और हिंदू समुदाय पर पथराव शुरू कर दिया था। रिपोर्ट्स के अनुसार, अदालत ने फरवरी में उत्तर-पूर्व दिल्ली में हुए हिंदु विरोधी दंगों के दौरान खुफिया (आईबी) अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या से संबंधित मामले और दंगों को भड़काने में हुसैन की भूमिका के खिलाफ दायर आरोपपत्र का संज्ञान लेते हुए यह टिप्पणी की थी। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

45 लाख बिहारी अब होंगे ममता के साथ? तेजस्वी-अखिलेश का TMC को समर्थन, दीदी ने लालू को कहा पितातुल्य

तेजस्वी यादव ने पश्चिम बंगाल में रह रहे बिहारियों से ममता बनर्जी को जिताने की अपील की। बिहार में CPM और कॉन्ग्रेस राजद के साथ गठबंधन में हैं।

नेपाल के सेना प्रमुख ने ली ‘मेड इन इंडिया’ कोरोना वैक्सीन, पड़ोसी देश को भारत ने फिर भेजी 10 लाख की खेप

नेपाल के सेना प्रमुख पूर्ण चंद्र थापा ने 'मेड इन इंडिया' कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लेकर भारत में बनी वैक्सीन की विश्वसनीयता को आगे बढ़ाया।

वरवरा राव को बेल की करें समीक्षा, जज शिंदे की भी हो जाँच: कम्युनिस्ट आतंक के मारे दलित-आदिवासियों की गुहार

नक्सल प्रभावित क्षेत्र के दलितों और आदिवासियों ने पत्र लिखकर वरवरा राव को जमानत देने पर सवाल उठाए हैं।

फुरफुरा शरीफ के लिए ममता बनर्जी ने खोला खजाना, चुनावी गणित बिगाड़ सकते हैं ‘भाईजान’

पश्चिम बंगाल में आदर्श अचार संहित लागू होने से कुछ ही घंटों पहले ममता बनर्जी की सरकार ने फुरफुरा शरीफ के विकास के लिए करोड़ों रुपए आवंटित किए।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

बंगाल ‘लैंड जिहाद’: मटियाब्रुज में शेख मुमताज और उसके गुंडों का उत्पात, दलित परिवारों पर टूटा कहर

हिंदू परिवारों को पीटा गया। महिला, बुजुर्ग, बच्चे किसी के साथ कोई रहम नहीं। पीड़ित अस्पताल से भी लौट आए कि कहीं उनके घर पर कब्जा न हो जाए।

प्रचलित ख़बरें

गोधरा में जलाए गए हिंदू स्वरा भास्कर को याद नहीं, अंसारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा- कभी नहीं भूलना

स्वरा भास्कर ने अंसारी की तस्वीर शेयर करते हुए इस बात को छिपा लिया कि यह आक्रोश गोधरा में कार सेवकों को जिंदा जलाए जाने से भड़का था।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

आस मोहम्मद पर 50+ महिलाओं से रेप का आरोप, एक के पति ने तलवार से काट डाला: ‘आज तक’ ने ‘तांत्रिक’ बताया

गाजियाबाद के मुरादनगर थाना क्षेत्र स्थित गाँव जलालपुर में एक फ़क़ीर की हत्या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है।

नमाज पढ़ाने वालों को ₹15000, अजान देने वालों को ₹10000 प्रतिमाह सैलरी: बिहार की 1057 मस्जिदों को तोहफा

बिहार स्टेट सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड में पंजीकृत मस्जिदों के पेशइमामों (नमाज पढ़ाने वाला मौलवी) और मोअज्जिनों (अजान देने वालों) के लिए मानदेय का ऐलान।

‘मैंने ₹11000 खर्च किया… तुम इतना नहीं कर सकती’ – लड़की के मना करने पर अंग्रेजी पत्रकार ने किया रेप, FIR दर्ज

“मैंने होटल रूम के लिए 11000 रुपए चुकाए। इतनी दूर दिल्ली आया, 3 सालों में तुम्हारा सहयोग करता रहा, बिल भरता रहा, तुम मेरे लिए...”

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,845FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe