Monday, April 22, 2024
Homeदेश-समाज48 घंटों तक होटल के बाहर खड़े रहे, अंदर आतंकियों ने बहन और जीजा...

48 घंटों तक होटल के बाहर खड़े रहे, अंदर आतंकियों ने बहन और जीजा को मार डाला: 26/11 हमले को याद कर रो पड़ता है ये अभिनेता

बहन और जीजा की हत्या के बाद उनके दोनों बच्चों की पूरी जिम्मेदारी आशीष चौधरी ने संभाली। कोरोना महामारी के दौरान उन्होंने पाँच बच्चों की जिम्मेदारी संभाली। उन्होंने कहा, ''मैं हमेशा य​ही सोचता हूँ कि मैं पाँच बच्चों का पिता हूँ।"

26 नवंबर, 2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमलों ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। इस आतंकी हमले के जख्म आज भी उन लोगों के जेहन में ताजा हैं, जिन्होंने इसमें अपनों को खोया है। बॉलीवुड अभिनेता आशीष चौधरी की बहन और जीजा भी इस आतंकी हमले में मारे गए थे। ‘धमाल’ और ‘डबल धमाल’ फिल्म में बोमन की भूमिका निभाने वाले अभिनेता आज भी जब उस खौफनाक रात को याद करते हुए रो पड़ते हैं।

13 साल पहले हुए आंतकी हमले में उन्होंने अपनी बहन मोनिका छाबरिया और अपने जीजा अजीत छाबरिया को खो दिया था। दोनों ट्राएडंट होटल में स्थित टिफिन रेस्टोरेंट में डिनर कर रहे थे, तभी दो आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी थी। आशीष 48 घंटे तक होटल के बाहर अपनी बहन के इंतजार में खड़े रहे थे, लेकिन दो दिन बाद उन्हें अपनी बहन और जीजा की मौत की खबर मिली थी। वह हर साल अपनी बहन और जीजा के साथ उन सभी बहादुर बलिदानियों को श्रद्धांजलि देते हैं, जिन्होंने मुंबई आतंकी हमलों के दौरान लोगों को बचाते हुए अपनी जान गँवा दी थी।

पिछले साल उन्होंने अपनी बहन को याद करते हुए अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर उनके साथ ली गई तीन तस्वीरें साझा की थीं। साथ ही उन्होंने कैप्शन में दिल को झकझोर देने वाला एक नोट लिखा था, “एक दिन भी तुम्हारे बिना पूरा नहीं होता मोना। मुझे जीजू और आपकी हर दिन याद आती है। बस मुझे वैसे ही देखते रहो, पहले की तरह, क्योंकि तुम मुझे आज तक मजबूत बनाती हो। जैसे हम हर रोज एक साथ हँसते और खेलते थे, वैसे ही आप आज भी हर पल, हर दिन मेरे पास खड़े होते हैं और यह मुझे आज भी उतनी ही मजबूती देता है।”

उनके निधन के बाद आशीष चौधरी ने उनके (बहन और जीजा) बच्चों, कनिष्क (11) और अनन्या (6) की पूरी जिम्मेदारी संभाली है। हिंदुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि कोरोना महामारी के दौरान मैंने पाँच बच्चों की जिम्मेदारी संभाली। उन्होंने कहा, ”मैं हमेशा य​ही सोचता हूँ कि मैं पाँच का पिता हूँ। उन लोगों ने उस वक्त सबसे बुरा दौर देखा था। मैं उन्हें बताता रहता हूँ कि इसके बाद कुछ भी ऐसा नहीं होगा। हमें तैयार रहना है, चाहे वह मृत्यु हो, दुर्घटना हो, प्राकृतिक आपदा हो या महामारी हो हमें इन सबसे निपटना होगा। आतंकवादी हमलों के कारण हमारा परिवार बहुत बुरे दौर से गुजरा है।”

बता दें कि अभिनेता की शादी समिता बंगार्गी से हुई है। उनके अगस्त्य, सलारा और सम्मा तीन बच्चे हैं। आशीष ने एक इंटरव्यू में यह भी बताया था, “उस दौरान मेरे पिता की एडवर्टाइजिंग एजेंसी डीफ्रॉड हो गई थी। मेरी पत्नी समिता डिप्रेशन से जूझ रही थीं। मेरी माँ का एक्सीडेंट हो गया और उनके दाहिने हाथ और रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर आ गया था।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिमों के लिए आरक्षण माँग रही हैं माधवी लता’: News24 ने चलाई खबर, BJP प्रत्याशी ने खोली पोल तो डिलीट कर माँगी माफ़ी

"अरब, सैयद और शिया मुस्लिमों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलता है। हम तो सभी मुस्लिमों के लिए रिजर्वेशन माँग रहे हैं।" - माधवी लता का बयान फर्जी, News24 ने डिलीट की फेक खबर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe