Sunday, April 14, 2024
Homeदेश-समाज₹600 करोड़ के टोल और 9300 करोड़ के कर्ज पर संकट: किसान आंदोलन से...

₹600 करोड़ के टोल और 9300 करोड़ के कर्ज पर संकट: किसान आंदोलन से हो रहा भारी नुकसान

"नेशनल हाईवे टोल प्लाज़ा पर 26 जनवरी, 2021 तक लगभग 560 करोड़ का अनुमानित राजस्व नुकसान हुआ है; जिसमें से 410 करोड़ बीओटी रियायतकर्ताओं के लिए अनुमानित है। इसके अलावा इन क्षेत्रों में स्टेट हाईवे प्रोजेक्टों में राजस्व की हानि अलग से हुई होगी।"

केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन के चलते टोल वसूली में लगभग 600 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। क्रेडिट रेटिंग एजेंसी आईसीआरए लिमिटेड की रिपोर्ट के अनुसार, वाहनों की आवाजाही और टोल को फ्री करने से टोल वसूली पर असर पड़ा है।

आईसीआरए द्वारा शुक्रवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि नेशनल हाईवे पर वाहनों की आवाजाही पर लगे प्रतिबंध के कारण टोल प्लाजा को नुकसान होगा। उन्होंने कहा, “पंजाब, हरियाणा और दिल्ली-एनसीआर में नेशनल हाईवे पर स्थित कुल 52 टोल प्लाजा [सार्वजनिक-वित्त पोषित और बीओटी (बिल्ट, ऑपरेट और ट्रांसफ़र)] किसान आंदोलन के चलते प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर प्रभावित हुए हैं।”

रिपोर्ट में आगे कहा गया है, “नेशनल हाईवे टोल प्लाज़ा पर 26 जनवरी, 2021 तक लगभग 560 करोड़ का अनुमानित राजस्व नुकसान हुआ है; जिसमें से 410 करोड़ बीओटी रियायतकर्ताओं के लिए अनुमानित है। इसके अलावा इन क्षेत्रों में स्टेट हाईवे प्रोजेक्टों में राजस्व की हानि अलग से हुई होगी।”

हरियाणा, पंजाब और दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में सभी टोल प्लाजा पर वाहनों से कोई टोल वसूली नहीं करने के कारण पिछले साल 12 दिसंबर से टोल प्लाजा को राजस्व नुकसान हुआ है। आईसीआरए लिमिटेड ने बताया कि औसत टोल वसूली, विरोध प्रदर्शन और बाद में मुफ्त वाहनों की आवाजाही से पहले, हर दिन लगभग 7 करोड़ था।

क्रेडिट रेटिंग एजेंसी के अनुमान के मुताबिक, यदि फरवरी तक किसान का विरोध समाप्त हो जाता है, तब भी आंदोलन से प्रभावित राज्य पंजाब, हरियाणा और दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में 2020-2021 में टोल वसूली में करीब 30-35 फीसदी की गिरावट आ सकती है।

Cumulative toll revenue loss from October last year (Graph Courtesy: ICRA Limited)

ICRA Limited ने अपनी रिपोर्ट में जोर देते हुए बताया, “पंजाब, हरियाणा और दिल्ली-एनसीआर में लगभग 50% नेशनल हाइवे टोल प्लाज़ा (52 टोल प्लाज़ा में से 26) बीओटी प्रोजेक्ट्स का गठन करते हैं। इन 11 परियोजनाओं के लिए बकाया कर्ज लगभग 9300 करोड़ रुपए है। इनमें से तीन को आईसीआरए ने रेट किया है। 9300 करोड़ के प्रभावित कर्ज में से 8550 करोड़ का कर्ज डिफ़ॉल्ट रूप से हाई रिस्क पर है। वहीं 750-करोड़ का निवेश ग्रेड में किया गया है और इसमें डिफ़ॉल्ट के मध्यम से कम रिस्क है। ”

Debt at risk for 11 BOT toll plaza projects (Graph Courtesy: ICRA)

क्रेडिट रेटिंग एजेंसी ने आगे कहा, “24 घंटे की निरंतर अवधि के लिए टोल एकत्र करने में असमर्थता और आंदोलन / हड़ताल के कारण एक एकाउंटिंग साल में सात दिनों की कुल अवधि से अधिक होने पर बल के तहत एक अप्रत्यक्ष राजनीतिक घटना के रूप में माना जाएगा। जोकि प्रभावित परियोजनाओं से होने वाले राजस्व के नुकसान का लगभग 25% होगा।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

’10 साल में PM मोदी ने किया बहुत काम’: काशी पहुँचे रणवीर सिंह, कृति सेनन और मनीष मल्होत्रा ने बुलंद किया ‘विकास भी, विरासत...

कृति सेनन ने कहा कि काशी PM मोदी के 'विकास भी, विरासत भी' वाले प्रयास का उदाहरण है। शहर आधुनिक हुआ है, यहाँ विकास कार्य हुए हैं, कनेक्टिविटी बढ़ी है।

TMC सांसद के पति राजदीप सरदेसाई का बेंगलुरु में ‘मोदी-मोदी’ और ‘जय श्री राम’ के नारों से स्वागत: चेहरे का रंग उड़ा, झूठी मुस्कान...

राजदीप को कुछ मसालेदार चाहिए था, ऐसे में वो आम लोगों के बीच पहुँच गए। लेकिन आम लोगों को राजदीप की मौजूदगी शायद अखर सी गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe