Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजहाथरस: खेत में पड़ी चीख रही थी पीड़िता.. माँ-भाई वहीं पर खड़े थे, चश्मदीद...

हाथरस: खेत में पड़ी चीख रही थी पीड़िता.. माँ-भाई वहीं पर खड़े थे, चश्मदीद का खुलासा

विक्रम सिंह का कहना है कि 14 सितंबर की सुबह वह अपने खेत में चारा काट रहे थे, तभी उन्होंने एक लड़की को चीखते हुए सुना। मौके पर पहुँचते हुए उन्होंने देखा कि उनके खेत में एक लड़की गम्भीर अवस्था में पड़ी हुई थी। ठीक वहीं पर पीड़िता का बड़ा भाई और उसकी माँ भी खड़े थे।

हाथरस मामले में हर दिन सामने आ रहे नए खुलासों और देशव्यापी आक्रोश के बीच इसकी जाँच प्रक्रिया आगे बढ़ा रही है। अब इस घटनाक्रम में विक्रम सिंह नाम के व्यक्ति का बयान सामने आया है। विक्रम सिंह का दावा है कि वो घटना के दौरान घटनास्थल पर ही मौजूद थे। रिपोर्ट्स के अनुसार, जिस खेत में पीड़िता मिली थी वह खेत इस चश्मदीद का ही है। अपने बयान में विक्रम सिंह ने कहा है कि जब वह वहाँ पहुँचे, उस समय लड़की ज़मीन पर पड़ी हुई थी और उसकी माँ और भाई वहीं पर खड़े थे। 

आज तक में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक़, जिस खेत में पीड़िता गम्भीर हालात में मिली, उस खेत के मालिक विक्रम सिंह ही हैं। उन्होंने बताया कि 14 सितंबर की सुबह वह अपने खेत में चारा काट रहे थे, तभी उन्होंने एक लड़की को चीखते हुए सुना। मौके पर पहुँचते हुए उन्होंने देखा कि उनके खेत में एक लड़की गम्भीर अवस्था में पड़ी हुई थी। ठीक वहीं पर पीड़िता का बड़ा भाई और उसकी माँ भी खड़े थे। 

घटना के चश्मदीद विक्रम ने बताया कि वह पीड़िता की स्थिति देख कर घबरा गए जिसके बाद वो लव कुश और उसकी माँ को इस घटना के बार में बताने के लिए नज़दीक के खेत तक गए। इसके बाद उन्होंने दोनों से घटनास्थल पर चलने के लिए भी कहा लेकिन जब तक वह अपने खेत में वापस पहुँचे, तब तक पीड़िता का भाई घटनास्थल पर मौजूद नहीं था। विक्रम ने देखा कि पीड़िता उसके खेत में ही पड़ी थी और उसकी माँ नज़दीक ही खड़ी थी। विक्रम का कहना है कि वह कुछ समझ पाते, इसके पहले पीड़िता की माँ ने उनसे कहा, “जाओ मेरे बेटे को बुला कर लाओ।”

विक्रम पीड़िता के घर गए और उन्होंने पीड़िता के भाई से कहा, “जल्दी चलो तुम्हारी बहन की हालत गम्भीर है।” इसके जवाब पीड़िता के भाई ने कहा, “जब वहाँ पर 5-6 लोग आ जाएँगे तब मैं भी वहाँ पहुँच जाऊँगा।”

अंत में विक्रम सिंह ने इस बात की जानकारी भी दी कि इतना होने के बाद वह अपने घर गए और उन्होंने घर वालों को पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी। वहाँ कई और लोग मौजूद थे जिसके बाद घटनास्थल पर गाँव वालों की भीड़ इकट्ठा हुई। गौरतलब है कि इस मामले पर भारी विवाद होने के बाद फ़िलहाल सीबीआई इस मामले की जाँच कर रही है।         

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,029FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe