Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजसब इंस्पेक्टर अफसर अली, बीवी नजमा (5 महीने की गर्भवती)... नहीं दे पाया तलाक...

सब इंस्पेक्टर अफसर अली, बीवी नजमा (5 महीने की गर्भवती)… नहीं दे पाया तलाक तो स्कॉर्पियो से कुचल कर मार डाला, हुआ गिरफ्तार

सब इंस्पेक्टर अफसर अली ने नज़मा से मजबूरन निकाह किया था। निकाह के बाद वो तीन तलाक दे कर पीछा छुड़ाने के चक्कर में था। इसी बीच तीन तलाक क़ानून आ गया। फिर उसने पूरी सोची-समझी साजिश के तहत स्कॉर्पियो गाड़ी से धक्का दिलवा कर...

हरियाणा के रेलवे पुलिस में तैनात सब इंस्पेक्टर अफसर अली पर अपनी बीवी की हत्या करवाने का आरोप है। मौत के समय सब इंस्पेक्टर की बीवी नज़मा 5 माह की गर्भवती थी। यह घटना हरियाणा के यमुनानगर की है। आरोपित की गिरफ्तारी 16 अक्टूबर 2021 (शनिवार) को की गई है।

आरोपित की गिरफ्तारी की पुष्टि यमुनानगर पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से की है। पुलिस ने लिखा है – “जिला की अपराध शाखा-1 की टीम को मिली बड़ी कामयाबी। 5 महीने की गर्भवती पत्नी की योजनाबद्ध तरीके से हत्या करवाने वाला रेलवे पुलिस में तैनात उपनिरीक्षक गिरफ्तार। जिसकी पहचान मुरादाबाद के गाँव जफराबाद वासी अफसर अली के रूप में हुई।”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आरोपित अफसर अली उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद का रहने वाला था और नज़मा उत्तर प्रदेश के ही बरेली में रहती थी। रेलवे पुलिस में बतौर सब इंस्पेक्टर तैनात अफसर अली की मृतका नज़मा से पहली बार फेसबुक पर जान-पहचान हुई थी। कुछ समय बाद दोनों की मुलाक़ात भी होने लगी। जल्द ही दोनों में संबंध भी बन गए। इसके बाद अफसर अली नज़मा से पीछा छुड़ाने की कोशिश करने लगा।

नज़मा पुलिस में शिकायत न करे, इसके चलते अफसर अली ने मजबूरन उससे निकाह किया। दोनों का निकाह 2019 में हुआ। शुरू में अफसर अली नज़मा तो तीन तलाक दे कर पीछा छुड़ाने के चक्कर में था। इसी बीच तीन तलाक क़ानून आ जाने के कारण वो अपने इस इरादे में सफल नहीं हो पाया।

कुछ समय बाद ही अफ़सर अली नज़मा को प्रताड़ित करने लगा। धीरे धीरे दोनों के बीच मनमुटाव हो गया। लगातार प्रताड़ना के बाद नजमा के परिजनों ने अफसर अली की शिकायत महिला थाने में की। अफसर अली ने बात को न बढ़ाते हुए समझौता कर लिया। इस के बाद अफसर अली नजमा को लेकर पृथ्वी नगर फरकपुर में रहने लग गया था।

मृतका नजमा के भाई मोहम्मद इदरीश ने मीडिया से बात की। उसने बताया, “शादी के बाद से ही अफसर अली दहेज की माँग करने लगा था। उसे मकान बेच कर 12 लाख रुपये दिए भी गए गए थे। इस बीच वो दूसरी शादी करना चाह रहा था। दूसरी शादी में उसको 50 लाख रुपए मिलने थे। इसी के साथ वो नज़मा की शिकायत के बाद इंस्पेक्टर पद से डिमोट कर के सब इंस्पेक्टर बना दिया गया था। इसी वजह से उसने मेरी बहन को मार डाला।”

नज़मा की हत्या के लिए अफसर अली ने पूरी तैयारी की। उसने पूरी सोची-समझी घटना को दुर्घटना का रुप देने की कोशिश की। अपनी योजना में उसने अपने चचेरे भाई को भी शामिल कर लिया। योजना को अंजाम देने के लिए अफसर अली ने नज़मा को बाहर घुमाने ले जाने के लिए तैयार किया। बाहर पहले से ही तैयार उसके चचेरे भाई ने स्कॉर्पियो गाड़ी नज़मा पर चढ़ा दी। बुरी तरह से घायल नज़मा को अस्पताल ले जाया गया। वहाँ पर डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यमुनानगर पुलिस अधीक्षक कमलदीप गोयल ने इस मामले की जाँच क्राइम ब्राँच को सौंपी। क्राइम ब्राँच ने मामले को सुलझाते हुए खुलासा कर दिया और मुख्य आरोपी सब इंस्पेक्टर अफसर अली को गिरफ्तार कर लिया। इस खुलासे की सबसे बड़ी कड़ी वो वाहन बना, जिस से नज़मा को ठोकर मारी गई। वह वाहन आरोपित अफसर अली के गाँव की ही निकली।

आखिरकार आरोपित सब इंस्पेक्टर ने पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल कर लिया। पुलिस आरोपित सब इंस्पेक्टर का अदालत से रिमांड लेगी। पुलिस के अनुसार इस केस से जुड़े अन्य आरोपितों को भी जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -