Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाजजिसके घर पेपर देता था आसिफ, उसी की 15 साल की बिटिया का गला...

जिसके घर पेपर देता था आसिफ, उसी की 15 साल की बिटिया का गला रेत डाला: हिमाचल की जनता की माँग – फाँसी या भीड़ के हवाले

"23 साल का आसिफ लड़की के घर पहले प्लंबर का काम कर चुका है। बाद में वो अख़बार बाँटने लगा। एक दिन वो मृतका के अकेले होने का फायदा उठाना चाहा, लड़की ने विरोध किया। आसिफ ने तेज धारदार हथियार से मृतका पर वार किया।"

हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले में 15 साल की एक लड़की की हत्या कर दी गई है। पुलिस ने इस केस में आसिफ मोहम्मद नाम के एक आरोपित को गिरफ्तार किया है। आरोपित उस क्षेत्र में अख़बार बाँटता है। घटना 5 अप्रैल (मंगलवार) की है। पुलिस ने आसिफ मोहम्मद को गिरफ्तार कर के कोर्ट से 4 दिनों का रिमांड लिया है।

घटना स्थल अब थानाक्षेत्र का प्रतापनगर है। हिमाचल प्रदेश पुलिस द्वारा 9 अप्रैल को इस बारे में बताया गया, “लगभग 23 वर्षीय आरोपित आसिफ लड़की के घर पहले प्लंबर का काम कर चुका है। बाद में वो अख़बार बाँटने लगा। घटना के दिन वो मृतका के घर पैसे माँगने गया था। उसने मृतका के अकेले होने का फायदा उठाना चाहा, जिसका लड़की ने विरोध किया। इसके बाद आसिफ मोहम्मद ने एक तेज धारदार हथियार से मृतका पर वार किया और भाग गया। भागते समय उसके द्वारा सड़क के किनारे फेंका गया हथियार भी बरामद कर लिया गया है। इस मामले में धारा 302 के तहत केस दर्ज हुआ है। पुलिस मामले की जाँच कर रही।”

‘या दो फाँसी या करो हमारे हवाले’

इस घटना के बाद स्थानीय निवासियों में जबर्दस्त गुस्सा है। स्थानीय लोग मृतका के घर के आगे जमा दिखे। वो मानसिकता पर सवाल उठाते हुए आरोपित को फाँसी देने की माँग कर रहे। उन्ही में से एक को कहते सुना गया, “उसे हमारे हवाले करो।”

एक अन्य वीडियो में स्थानीय लोगों को पुलिसकर्मी समझाते हुए दिखाई दे रहे हैं। उसी वीडियो में एक महिला कह रही, “आज उसके साथ हुआ। कल न जाने किसके साथ होगा। हम भी लड़की हैं।”

घटनस्थल गए DGP, SIT जाँच का आदेश

हिमाचल प्रदेश के DGP संजय कुंडू 9 अप्रैल (शनिवार) को पीड़ित परिवार से मिलने गए। इस मुलाकात के बाद उन्होंने घटना की SIT जाँच के आदेश दिए हैं। उन्होंने SIT को तत्काल काम पर लग जाने के भी निर्देश दिए हैं। इस दौरान संजय कुंडू ने खुद आरोपित से पूछताछ की।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -