Saturday, May 25, 2024
Homeदेश-समाज'1920 में अदालत ने माना था- जमीन हिंदुओं की, ईदगाह मस्जिद में कभी नहीं...

‘1920 में अदालत ने माना था- जमीन हिंदुओं की, ईदगाह मस्जिद में कभी नहीं हुई नमाज’: मथुरा कोर्ट में याचिका, नमाज पर रोक की माँग

एडवोकेट महेंद्र प्रताप सिंह ने याचिका में आगे कहा है, "हमने मथुरा की अदालत में विवादित भूमि पर नमाज पढ़ने से मना करने की अर्जी दी है। पहले यही माँग हम जिलाधिकारी से भी कर चुके हैं।"

उत्तर प्रदेश के मथुरा की अदालत में विवादित शाही ईदगाह मस्जिद में होने वाली नमाज के विरोध में याचिका दाखिल करते हुए उस पर लगाने की माँग की गई गई है। ईदगाह मस्जिद श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर के परिसर में स्थित है। इसके साथ ही ईदगाह मस्जिद के बगल से जाने वाली सड़क पर भी नमाज पढ़ने से रोकने की माँग की गई है। याचिकाकर्ता एडवोकेट महेंद्र प्रताप सिंह हैं, जो कृष्ण जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन समिति के अध्यक्ष भी हैं।

इस याचिका के मुताबिक, “कुरान में भी विवादित भूमि पर नमाज़ पढ़ने से मनाही है। यहाँ 5 बार की नमाज़ पिछले कुछ समय से ही शुरू हुई, जो कि गैर-कानूनी है। पहले ईदगाह मस्जिद में नमाज नहीं होती थी। विरोधी पक्ष अब सड़क पर भी नमाज़ अदा कर रहा है। यह सामाजिक सौहार्द्र बिगाड़ने की साजिश है।” याचिका में वर्ष 1920 में चले एक मुकदमे का हवाला भी दिया गया है, जिसमें न्यायालय ने स्पष्ट रूप से इस भूमि को हिन्दुओं की बताई गई है।

दायर याचिका

याचिका में इतिहास का भी जिक्र किया गया है। अर्जी के मुताबिक, “अभी भी ईदगाह मस्जिद की दिवारों पर ॐ, शेषनाग, स्वास्तिक जैसे हिंदुओं के धार्मिक चिह्न मौजूद हैं। साल 1669 में इसे क्रूर आक्रांता औरंगजेब ने उक्त संपत्ति पर बने मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनवाया था। जिस स्थान पर मस्जिद बनाई गई थी, वह स्थल भगवान श्रीकृष्ण के जन्म का मूल स्थल है जो कि गर्भगृह के नाम से जाना जाता है।” लाइव लॉ की रिपोर्ट के अनुसार, एडवोकेट महेंद्र प्रताप सिंह ने याचिका में आगे कहा है, “हमने मथुरा की अदालत में विवादित भूमि पर नमाज पढ़ने से मना करने की अर्जी दी है। पहले यही माँग हम जिलाधिकारी से भी कर चुके हैं।”

जानकारी के मुताबिक़, अदालत इस पर 5 जनवरी 2022 को सुनवाई कर सकती है। इससे पहले इसी वर्ष जून में श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन समिति ने इस मामले का शांतिपूर्ण हल निकालने का प्रयास किया था। इस समाधान के फॉर्मूले में वर्तमान विवादित स्थल से बड़ा स्थान उन्हें कहीं और देने की पेशकश की गई थी। यह फॉर्मूला अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि विवाद के समाधान से मिलता-जुलता था। इस फॉर्मूले की शर्त यह भी थी कि मुस्लिम पक्ष को विवादित ढाँचा खुद से गिराना होगा।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने हाल ही में अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा था कि अयोध्या और काशी में भव्य मंदिर निर्माण जारी है और अब मथुरा की तैयारी है। ट्विटर पर उन्होंने इसके साथ ही ‘जय श्रीराम’, ‘जय शिव शम्भू’ और ‘जय श्री राधे-कृष्ण’ का टैग भी लगाया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SFI के गुंडों के बीच अवैध संबंध, ड्रग्स बिजनेस… जिस महिला प्रिंसिपल ने उठाई आवाज, केरल सरकार ने उनका पैसा-पोस्ट सब छीना, हाई कोर्ट...

कागरगोड कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ रेमा एम ने कहा था कि उन्होंने छात्र-छात्राओं को शारीरिक संबंध बनाते देखा है और वो कैंपस में ड्रग्स भी इस्तेमाल करते हैं।

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -