Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजOpIndia का असर: भारतीय सेना को हिंदुत्व आतंकवादी कहने वाला पोस्टर गुरुद्वारे ने हटाया,...

OpIndia का असर: भारतीय सेना को हिंदुत्व आतंकवादी कहने वाला पोस्टर गुरुद्वारे ने हटाया, आतंकी जरनैल सिंह भिंडरांवाले को अब भी रखा है चिपका कर

‘झारखंड गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी’ के अध्यक्ष सरदार शैलेन्द्र सिंह ने ऑपइंडिया से कहा था, “भिंडरांवाले की फोटो लगी है, जिसे सिख समुदाय शहीद मानता है। शायद वो आप लोगों के लिए आतंकी होगा, लेकिन सिखों के लिए नहीं। आजकल उसकी फोटो बाजारों में मिलती है। उसकी तस्वीर को सिखों के सैकड़ों शहीदों के बीच जगह दी गई है।”

झारखंड के प्रसिद्ध जमशेदपुर शहर के मानगो में स्थित एक गुरुद्वारे में भारतीय सेना को हिंदुत्व आतंकवादी कहने वाला पोस्टर लगाया गया था। इसके साथ ही उसमें खालिस्तानी आतंकी जरनैल सिंह भिंडरांवाले की तस्वीर भी तस्वीर के बारे में ऑपइंडिया ने अपनी रिपोर्ट में बताया था।

ऑपइंडिया द्वारा इस खबर को प्रमुखता से उठाने के बाद गुरुद्वारे भारतीय सेना को हिंदुत्व आतंकवादी कहने वाले पोस्टर को हटा लिया गया है। हालाँकि, गुरुद्वारे में अभी आतंकी जरनैल सिंह भिंडरांवालेकी तस्वीर लगी हुई है। इसे अभी तक नहीं हटाया गया है।

भारतीय सेना को हिंदुत्व आतंकी बताने वाले पोस्टर में लिखा था, “सिखों के पवित्र धर्मस्थल और सबसे बड़ी अथॉरिटी श्री अकाल तख्त साहिब को हिंदुत्व आतंकी भारतीय सेना ने अपने टैंकों से बर्बाद कर दिया। ज्यादा से ज्यादा बर्बादी और हजारों सिखों की हत्या के लिए वायुसेना और नौसेना का भी प्रयोग किया गया। रसायनिक हथियार भी इस्तेमाल किए गए। सिखों के पवित्र धर्मस्थल को मौत का मैदान बना दिया गया।”

जमशेदपुर के मानगो स्थित जिस गुरुद्वारा में भारतीय सेना के लिए आपत्तिजनक बातें लिखी गई थीं, उस पोस्टर में खालिस्तानी आतंकी जरनैल सिंह को बगल में खड़ा कर हीरो और किसी संत-ज्ञानी की तरह दिखाया गया है। इस आतंकी की फोटो के नीचे इसे ‘महान शहीद’ भी बताया गया है।

इसी गुरुद्वारे के दूसरे पोस्टरों में कई खालिस्तानी आतंकियों का महिमामंडन किया गया है। इनमें से कुछ नाम हैं – जनरल शाबेग सिंह, भाई केहर सिंह, भाई सतवंत सिंह, जगतार सिंह हवारा, बलवंत सिंह राजोआना, दविंदर पाल सिंह भुल्लर, दिलावर सिंह बब्बर… आदि। गुरुवार में भिंडरांवाले का पोस्टर अभी भी मौजूद है।

इन पोस्टरों से संबंधित जानकारी के लिए ऑपइंडिया ने जमशेदपुर के स्थानीय लोगों से बात की थी। एक प्राइवेट बैंक में मैनेजर ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इन पोस्टरों को देख कर वह आश्चर्य में पड़ गए थे। उन्होंने कहा, “एक दोस्त की नानी के निधन पर श्राद्ध-भोज में गया था। पोस्टर देख कर दिमाग घूम गया था। बैंक के ही अपने एक सहकर्मी से इसकी चर्चा भी की। आश्चर्य यह है कि अभी तक इस तरह के देशद्रोही हरकत के विरुद्ध न तो मीडिया-कवरेज मिला, न ही प्रशासन की ओर से कोई कार्रवाई हुई।”

विश्व हिंदू परिषद (झारखंड यूनिट) के प्रचार-प्रसार प्रमुख संजय कुमार से भी इस मामले पर हमने बात की थी। उन्होंने बताया था कि इन पोस्टरों के लगाए जाने के बाद जमशेदपुर में इसका विरोध किया गया था। उन्होंने आरोप लगाया कि मानगो गुरुद्वारा के प्रबंधन ने विश्व हिंदू परिषद के जमशेदपुर स्थित पदाधिकारियों के विरोध दर्ज कराए जाने के बावजूद इन पोस्टरों को हटाने से इनकार कर दिया था।

संजय कुमार ने इन पोस्टरों को लेकर कहा कि यह देश-विरोधी गतिविधि है। उन्होंने बताया कि इस मामले की जानकारी स्थानीय प्रशासन को भी है, लेकिन इसको लेकर कोई कार्रवाई नहीं की गई। संजुय कुमार के अनुसार, जमशेदपुर के मानगो पुलिस थाने ने अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाले गुरुद्वारे के इस हरकत को लेकर कभी कार्रवाई नहीं की।

ऑपइंडिया ने जब इस बाबत मानगो गुरुद्वारे के सदस्य सरदार भगवान सिंह से बात की तो उन्होंने कहा था कि उन्हें नहीं पता कि किसने ऐसा किया। हिन्दू संगठनों के विरोध पर भी पोस्टर न हटाने और भारतीय सेना से क्या दुश्मनी के सवाल पर भगवान सिंह ने ‘मैं दिखवाता हूँ’ कह कर फोन काट दिया था।

‘झारखंड गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी’ के अध्यक्ष सरदार शैलेन्द्र सिंह ने भी ऑपइंडिया से बात करते हुए कहा था, “भिंडरांवाले की फोटो लगी है, जिसे सिख समुदाय शहीद मानता है। शायद वो आप लोगों के लिए आतंकी होगा, लेकिन सिखों के लिए नहीं। आजकल उसकी फोटो बाजारों में मिलती है। उसकी तस्वीर को सिखों के सैकड़ों शहीदों के बीच जगह दी गई है। रही बात आर्मी के अपमान की तो आप हमें फोटो भेजें। हम अपमान करने वालों पर तत्काल कार्रवाई करवाएँगे।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -