Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजकेरल में तेजी से हो रहा है युवा ईसाइयों का पलायन: शिक्षा और रोजगार...

केरल में तेजी से हो रहा है युवा ईसाइयों का पलायन: शिक्षा और रोजगार की तलाश में जा रहे विदेश, नौकरी के लिए जागरूक करने की कोशिश में लगे चर्च

केरल के युवाओं के बढ़ते पलायन को लेकर इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑद फ माइग्रेशन एंड डेवलपमेंट के अध्यक्ष प्रोफेसर एस. इरुदया राजन का कहना है, "शिक्षा और रोजगार के लिए युवा विदेश जा रहे हैं। पहले 25 साल की उम्र में पलायन होता था। अब 18 साल के लड़के भी विदेश जा रहे हैं।"

केरल में बढ़ती बेरोजगारी के चलते बढ़ी संख्या में युवा रोजगार की तलाश में यूरोप और कनाडा जा रहे हैं। इससे वहाँ के चर्च चिंतित हो गए हैं। ऐसे में वहाँ के चर्च युवाओं को सरकारी नौकरी की जानकारी देकर उन्हें राज्य में ही रोकने की कोशिश कर रहे हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, केरल के सबसे बड़े चर्च साइरो मालाबार से जुड़े लोग बहुत से लोग विदेशों में जाकर बस चुके हैं। इनमें अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया जाने वालों की संख्या अधिक है। युवाओं के बढ़ते पलायन को रोकने के लिए बीते दो महीने से चर्च राज्य और केंद्र सरकार की सरकारी नौकरियों से जुड़ी जानकारी दे रहे हैं। साथ ही इन नौकरियों के लिए होने वाली परीक्षाओं की तैयारी के लिए ट्रेनिंग दे रहे हैं।

केरल के चर्चों ने बयान में कहा है, “शांति और आरामदायक जिंदगी की तलाश में युवा विदेश जा रहे हैं। युवाओं का विदेश जाना ईसाई समुदाय के अस्तित्व का सवाल बन गया है। युवाओं के साथ ही उनके माता-पिता भी विदेश जा रहे हैं। ऐसे में राज्य में कई घरों में ताले पड़ते जा रहे हैं।” युवाओं के विदेश जाने से परेशान चर्च ने अपने बयान में केंद्र और राज्य सरकार द्वारा निकाली जा रही भर्तियों का भी जिक्र किया है।

केरल कैथोलिक बिशप कॉउंसिल के पादरी जैकब पलक्कपिल्ली का कहना है, “हमारे चर्चों से युवा गायब हो रहे हैं। युवा उच्च शिक्षा और नौकरियों के लिए विदेश जा रहे हैं। कई छात्र वीजा पर जाते हैं और फिर विदेश में ही बस जाते हैं। ऐसे में वे अपने परिवार से भी अलग हो जाते हैं। कई ईसाई परिवारों में अब सिर्फ बुजुर्ग ही रह गए हैं। यहाँ से जो लोग विदेश जा रहे हैं वे अपने परिवारों को पैसे भी नहीं भेज रहे हैं। इससे राज्य की अर्थव्यवस्था भी प्रभावित हो रही है।”

पादरी जैकब पलक्कपिल्ली का कहना है कि युवाओं को सरकारी नौकरी के लिए जागरूक करके पलायन रोका जा सकता है। युवाओं के पलायन को रोकने के प्रयास किए चर्च प्रयास कर रहा है। इस मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है। केरल माइग्रेशन द्वारा साल 2018 में किए गए सर्वे के अनुसार, दुनिया भर में केरल से करीब 21 लाख लोग विदेश जा चुके हैं।

केरल के युवाओं के बढ़ते पलायन को लेकर इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑद फ माइग्रेशन एंड डेवलपमेंट के अध्यक्ष प्रोफेसर एस. इरुदया राजन का कहना है, “शिक्षा और रोजगार के लिए युवा विदेश जा रहे हैं। पहले 25 साल की उम्र में पलायन होता था। अब 18 साल के लड़के भी विदेश जा रहे हैं।”

राजन ने आगे कहा, “चर्च इस पलायन को रोक पाएगा या नहीं यह तो नहीं कह सकता। लेकिन पलायन का बड़ा नौकरी नहीं है। बल्कि नए तरह से जीवन जीने की जद्दोजहद है। कोई व्यक्ति अगर विदेश चला गया है तो उसके केरल वापस लौटने के कारण होने चाहिए। यहाँ वो दिखाई नहीं देते।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -