Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाज'हम मूलनिवासी-आदिवासी, राम का पुतला जला रहे हैं क्योंकि रावण ज्यादा तपस्वी था': 4...

‘हम मूलनिवासी-आदिवासी, राम का पुतला जला रहे हैं क्योंकि रावण ज्यादा तपस्वी था’: 4 युवक गिरफ्तार

कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुई थी, जिसमें कुछ नौजवान दशहरे वाले दिन भगवान श्री राम के पुतले को आग लगा रहे थे। उनका कहना था कि राम से ज्यादा तपस्वी होने के साथ ही रावण को चारों वेदों का ज्ञान भी था।

इस दशहरे पर अमृतसर के कस्बा मानावाला में रावण की बजाय प्रभु श्रीराम के पुतला फूँक दिया गया। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। वकील अशोक सरीन ने इस वायरल वीडियो के संबंध में शिकायत दर्ज करवाई है। अशोक सरीन का कहना है कि उनके मोबाइल पर यह वीडियो गत 27 अक्टूबर को पहुँचा। उनके अनुसार, इस वीडियो में कुछ शरारती तत्व भगवान श्री राम का पुतला तैयार कर जला रहे थे और गंदी शब्दावली का प्रयोग कर रहे थे।

वायरल वीडियो में कुछ लोग रावण की जगह भगवान राम के पुतले को जलाते दिख रहे हैं। पुतला जलाने से पहले ये युवक यह भी कहते हुए देखे जा सकते हैं कि रावण बहुत तपस्वी था और राम जो भी था, वह रावण से कम तपस्वी था, इसलिए वह भगवान राम का पुतला जला रहे हैं। उनका कहना है कि हम मूलनिवासी, आदिवासी राम का पुतला जला रहे हैं, क्योंकि रावण बहुत ज्ञानी था और उसे चारों वेदों का ज्ञान था।

जानकारी मिलने पर इस संबंध में पुलिस ने वहाँ 14 लोगों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया और चार लोगों को इस संबंध में गिरफ्तार भी किया गया। इस सबंध में थाना लोपोके में 27 अक्टूबर को आईपीएस की धारा 295ए, 298, 149 और आईटी एक्ट 66 के तहत मामला दर्ज किया गया था और आरोपितों को पकड़ने के लिए छापेमारी की गई। पूरी घटना अमृतसर जिले के लोपोके थाने के मनावला गाँव की है।

जालंधर पुलिस थाने के सब इंस्पेक्टर मुकेश कुमार ने इस शिकायत की जानकारी देते हुए कहा है कि उन्होंने मामले को दर्ज किया है। अब जाँच के बाद इस संबंध में एक्शन लिया जाएगा। भारतीय जनता युवा मोर्चा (BJYM) ने भी इस सम्बन्ध में शहीद भगत सिंह चौक में प्रदर्शन किया। 

बता दें कि इससे पहले पंजाब में धार्मिक माहौल खराब करने की खबरें मीडिया में सामने आई थीं। बताया गया था कि अमृतसर जिले में कुछ लोगों ने दशहरा के अवसर पर रावण का पुतला दहन करने की जगह श्रीराम भगवान का पुतला जला दिया। विश्व हिंदू परिषद ने अमृतसर में प्रभु श्री राम का पुतला जलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की माँग की है।

वीडियो को आप इस यूट्यूब लिंक पर देख सकते हैं –

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार डीएसपी गुरु प्रताप सिंह सहोता ने कहा है कि वीडियो में दिखने वाले आरोपितों की पहचान करवाई जा रही है। अमृतसर पुलिस का कहना है कि मंगलवार की रात सब इंस्पेक्टर हरपाल सिंह के मोबाइल पर एक नंबर से वीडियो भेजी गई थी। वीडियो में कुछ शरारती लोग श्री राम का पुतला जलाकर उसे आग के हवाले कर रहे थे।

उल्लेखनीय है कि घटना की वीडियो सामने आने के बाद हिंदुओं संगठनों ने इसका कड़ा विरोध किया है। ऑल इंडिया टक्साली दल के नेता सुनील अरोड़ा ने चेतावनी दी है कि अगर आरोपितों के ख़िलाफ़ सख्त कार्रवाई नहीं हुई तो वह सड़कों को जाम करेंगे।

सोशल मीडिया पर भी यह खबर आने के बाद लोग इसका विरोध कर रहे हैं और कॉन्ग्रेस शासित प्रदेश में ऐसी हरकत के लिए सरकार से सवाल कर रहे हैं। पंजाबी हिंदू के ट्विटर हैंडल से लिखा गया, “भगवान श्री राम जी की राम लीला में तोड़फोड़ हुई । पठानकोट में पंजाब सरकार ने क्या संज्ञान लिया। अब अमृतसर में प्रभु श्री राम का पुतला जलाया गया है। मेरे आराध्य प्रभु श्री राम का पुतला जलाया जा रहा है। उम्मीद तो थी कॉन्ग्रेस नीचे गिरेगी पर इतना गिर जाएगी सोचा ना था।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राहुल गाँधी ने POCSO एक्ट का किया उल्लंघन, NCPCR ने ट्वीट हटाने के दिए निर्देश: दिल्ली की पीड़िता के माता-पिता की फोटो शेयर की...

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने राहुल गाँधी के ट्वीट पर संज्ञान लिया है और ट्विटर से इसके खिलाफ कार्रवाई करने की माँग की है।

‘धर्म में मेरा भरोसा, कर्म के अनुसार चाहता हूँ परिणाम’: कोरोना से लेकर जनसंख्या नियंत्रण तक, सब पर बोले CM योगी

सपा-बसपा को समाजिक सौहार्द्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनका इतिहास ही सामाजिक द्वेष फैलाने का रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,945FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe