Sunday, July 25, 2021
Homeदेश-समाजइतना मारा कि फूट गई खोपड़ी... फिर पार्टी की, खाना खाया और सो गईः...

इतना मारा कि फूट गई खोपड़ी… फिर पार्टी की, खाना खाया और सो गईः मुंबई में 19 साल की लड़की के मर्डर में नया खुलासा

जाह्नवी की लाश अधनंगी अवस्था में मिली थी। उसके पूरे शरीर पर जगह-जगह खरोंचने के निशान थे। बताया जाता है कि जाह्नवी ने अपने बॉयफ्रेंड श्री और दीया को पार्टी में आपत्तिजनक अवस्था में पकड़ भी लिया था।

नए साल के अवसर पर मुंबई के खार वेस्ट में हुई जाह्ववी कुकरेजा की हत्या मामले में पुलिस पड़ताल से नया खुलासा हुआ है। पुलिस ने जाँच के बाद बताया कि कुकरेजा की हत्या की उसकी सहेली दीया पडानकर उस रात घटना के बाद दोबारा से पार्टी होस्ट यश आहूजा के घर पर गई। वहाँ उसने रात का खाना खाया और जाकर सोई, लेकिन एक बार भी जाह्ववी की हालत पर एक शब्द भी नहीं कहा।

आहूजा ने बाद में नोटिस किया कि दीया के होंठों से खून निकल रहा है। जिसके कारण आहूजा ने उसकी मदद भी की। इसके बाद पडानकर ने अपने पिता को बुलाया। वह उसे हिंदूजा अस्पताल लेकर गए। तभी, किसी बिल्डिंग में रहने वाले किसी शख्स ने कुकरेजा के शव को देखा और यश को उसके बारे में बताया। यश ने फौरन पुलिस को सूचना दी, जिसके बाद मामला प्रकाश में आया

पुलिस का कहना है कि उस रात कुकरेजा और पडानकर पूरे कार्यक्रम में रात के करीब 8:30 बजे आ गए थे। लेकिन बाद में वह वापस लौट गए और फिर सह आरोपित श्री जोगधनकर के साथ पार्टी में लौटे। उस पार्टी में अधिकतर लोगों ने नशा कर रखा था।

जैसे ही पार्टी शुरू हुई। तीनोंं ने एक अन्य लड़की के साथ एक अलग कोना पकड़ लिया। बीच में उस लड़की को उल्टियाँ शुरू हो गई और दीया उसे लेकर नीचे चली गई। जैसे ही वह वापस आई श्री ने उससे नजदीकियाँ बढ़ानी शुरू की। जिसे देख कुकरेजा गुस्सा हो गई और काफी चिल्लाई भी। पडानकर ने कथित तौर पर तब उसे झापड़ मारा और जोगधनकर के साथ उसका पीछा किया।

पुलिस का मानना है कि ये सारी झड़प पाँचवे माले पर हुई क्योंकि कुकरेजा की एक चप्पल और ईयरिंग वहीं बरामद हुए। वहीं दूसरे माले पर पुलिस को खून के निशान और मृतक के बाल मिले। पुलिस का कहना है कि सीढ़ियों पर बहुत कम लाइट थी और वहाँ कोई कैमरा भी नहीं था। डॉक्टरों का जाँच के बाद कहना है कि कुकरेजा की हत्या हुई थी न कि किसी दुर्घटना में उसकी जान गई।

पुलिस अनुमान लगा रही है कि कुकरेजा का सिर दीवार पर मार कर फोड़ा गया होगा, क्योंकि जोगधनकर का हाथ भी फ्रैक्चर है। अब पुलिस ये जानकारी जुटा रही है कि फ्रैक्चर कैसे हुआ होगा। अभी तक उनका यही मानना है कि वह झड़प के दौरान सीढ़ियों से गिरा होगा।

फोरेंसिक विशेषज्ञों ने सबके ब्लड सैंपल ले लिए हैं। अब उनका मिलान होगा। पडानकर जाँच अधिकारियों से बात कर रही है। मगर उसके बयान जोगधनकर के बयान से मिलाने आवश्यक हैं। इसलिए जोगधनकर के अस्पातल से डिस्चार्ज होने का इंतजार किया जा रहा है।

बता दें कि नए साल पर हुई जाह्ववी कुकरेजा की मौत के बाद इन दोनों आरोपितों के ख़िलाफ IPC की धारा 302 (हत्या) और 34 (जब एक आपराधिक कृत्य सभी व्यक्तियों ने सामान्य इरादे से किया हो) के तहत मामला दर्ज किया गया है। इससे पहले कुकरेजा के दोस्तों ने कहा था कि उसकी मौत अचानक गिरने से नहीं हुई।

उन्होंने बताया, “उसे पकड़ा गया था और पीटा गया था। उसके बालों को पकड़ कर उसे घसीटते हुए छत से दूसरी मंजिल की सीढ़ियों तक लाया गया था।” वहीं पुलिस ने बाल पकड़ कर सीढ़ियों पर घसीटे जाने की बात से इनकार किया था। पुलिस का कहना था कि श्री जोगाधनकर और दीया पडानकर ने मिल कर जाह्नवी कुकरेजा के सिर को पकड़ कर कई बार सीढ़ियों की रेलिंग पर पटका। इसके बाद जाह्नवी का सर पीछे और आगे से फूट गया, जिससे चारों तरफ खून पसर गया।

जाह्नवी की लाश अधनंगी अवस्था में मिली थी। उसके पूरे शरीर पर जगह-जगह खरोंचने के निशान थे। बताया जाता है कि जाह्नवी ने अपने बॉयफ्रेंड श्री और दीया को पार्टी में आपत्तिजनक अवस्था में पकड़ भी लिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,200FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe