Wednesday, July 6, 2022
Homeदेश-समाज20 साल के दलित प्रेमी संग भागी 18 वर्षीय मुस्लिम युवती: मुस्लिम बहुल गॉंव...

20 साल के दलित प्रेमी संग भागी 18 वर्षीय मुस्लिम युवती: मुस्लिम बहुल गॉंव से डर कर भागा दलित परिवार

इस घटना के बाद मुस्लिम बहुल गॉंव में तनाव फैल गया जिसे देखते हुए गॉंव में सुरक्षा सख्त कर दी गई है। भारी पुलिस फोर्स के साथ पीएसी की तैनाती भी की गई है। हमले के डर से युवक के परिवार ने भी छोड़ा गॉंव।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के लुहारी खुद गॉंव में एक प्रेमी युगल के भागने के बाद पैदा हुए तनाव को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा कड़ी कर दी है। यह गॉंव मुस्लिम बहुल है। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक 18 वर्षीय मुस्लिम लड़की रविवार (अक्टूबर 20,2019 ) को अपने 20 वर्षीय प्रेमी के साथ घर से भाग गई। उसका प्रेमी दलित है।

पुलिस प्रेमी युगल की तलाश में जुटी है। थाना प्रभारी सूबे सिंह के अनुसार युवती के परिवार ने युवक के खिलाफ अपहरण की शिकायत दर्ज कराई है। इस घटना के बाद मुस्लिम बहुल गॉंव में तनाव फैल गया जिसे देखते हुए गॉंव में सुरक्षा सख्त कर दी गई है। भारी पुलिस फोर्स के साथ पीएसी की तैनाती भी की गई है। पुलिस ने कहा कि दलित परिवार युवती के परिवार की ओर से हमला किए जाने के भय से गॉंव से भाग गया है।

युवती के पिता ने तीन युवकों अंकित, जॉनी और एक अन्य के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कराया है। पुलिस मामले की जॉंच में जुटी है। परिजनों के अनुसार युवती नाबालिग है।

वहीं, इसी तरह की एक अन्य घटना में पुलिस ने युवती को बरामद कर लिया है। दैनिक जागरण की खबर के अनुसार मुजफ्फरनगर के गॉंव खुड्डा निवासी मुस्लिम युवती प्रेम प्रसंग के चलते 27 सितंबर को प्रेमी के साथ घर से भाग गई थी। उसके पिता ने गॉंव के योगेश, राजकुमार और अन्य के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कराया था। सोमवार को पुलिस ने युवती को बरामद कर मेडिकल परीक्षण के लिए भेज दिया। दारोगा केपी सिंह ने बताया कि बुधवार को युवती को कोर्ट में मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अभिव्यक्ति की आज़ादी सिर्फ हिन्दू देवी-देवताओं के लिए क्यों?’: सत्ता जाने के बाद उद्धव गुट को याद आया हिंदुत्व, प्रियंका चतुर्वेदी ने सँभाली कमान

फिल्म 'काली' के पोस्टर में देवी को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। जिस पर विरोध जताते हुए शिवसेना ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हिंदू देवताओं के लिए ही क्यों?

‘किसी और मजहब पर ऐसी फिल्म क्यों नहीं बनती?’: माँ काली का अपमान करने वालों पर MP में होगी कार्रवाई, बोले नरोत्तम मिश्रा –...

"आखिर हमारे देवी देवताओं पर ही फिल्म क्यों बनाई जाती है? किसी और धर्म के देवी-देवताओं पर फिल्म बनाने की हिम्मत क्यों नहीं हो पाती है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,883FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe