Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाजनक्सलियों ने एक ही परिवार के 4 लोगों को उतारा मौत के घाट: घर...

नक्सलियों ने एक ही परिवार के 4 लोगों को उतारा मौत के घाट: घर को बम से उड़ाया, पर्चे में लिखा – ‘सज़ा-ए-मौत के अलावा कोई विकल्प नहीं’

मारे गए लोगों में एक ही घर के दो पुरुष और उनकी पत्नियाँ हैं। इसके बाद गाँव के लोगों में दहशत फैलाने के लिए नक्सलियों ने उस घर को बम से उड़ा दिया और मोटरसाइकिल में भी आग लगा दी।

बिहार के गया जिले में शनिवार (13 नवंबर, 2021) को नक्सलियों ने एक गाँव के एक ही परिवार के चार लोगों को मौत के घाट उतार दिया। नक्सलियों ने गया मुख्यालय से 70 किमी दूर डुमरिया प्रखंड के मौनवार गाँव में इस घटना को अंजाम दिया। मारे गए लोगों में एक ही घर के दो पुरुष और उनकी पत्नियाँ हैं। इसके बाद गाँव के लोगों में दहशत फैलाने के लिए उन्होंने उस घर को बम से उड़ा दिया और मोटरसाइकिल में भी आग लगा दी।

बताया जा रहा है कि नक्सलियों के निशाने पर गाँव के ही निवासी सरजू सिंह भोक्ता का घर था। नक्सलियों ने घर को घेरने के बाद वहाँ मौजूद सरजू भोक्ता के दो बेटों सत्येंद्र सिंह भोक्ता, महेन्दर सिंह भोक्ता और उनकी पत्नियों को घर से बाहर ही फाँसी लगाकर मौत के घाट उतार दिया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, नक्सलियों ने गाँव में एक पर्चा भी छोड़ा है। इसमें लिखा है कि भोक्ता के परिवार के लोगों ने चार नक्सलियों को कुछ दिन पहले जहर खिलाकर मार दिया था। इंसानियत के हत्यारे, गद्दारों और विश्वासघातियों को सज़ा-ए-मौत देने के अलावा कोई और विकल्प नहीं है। नक्सलियों ने पर्चे में यह भी दावा किया है कि मारे गए नक्सलियों का एनकाउंटर नहीं हुआ था। उन्होंने मारे गए नक्सलियों अमरेश कुमार, सीता कुमार, शिवपूजन कुमार और उदय कुमार के नाम का भी पर्चे में जिक्र किया है।

साभार: हिंदुस्तान

बता दें कि पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया है और नक्सलियों के पर्चे को जब्त कर लिया गया। पुलिस घटना को अंजाम देने वाले नक्सलियों की तालाश में जुट गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe