Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजNIA ने भोपाल से दबोचे 2 बांग्लादेशी आतंकी, इससे पहले 7 हो चुके हैं...

NIA ने भोपाल से दबोचे 2 बांग्लादेशी आतंकी, इससे पहले 7 हो चुके हैं गिरफ्तार: सोशल मीडिया से जिहादी सामग्री फैला रहे थे हमीदुल्ला-अबिदुल्लाह

इनका कनेक्शन उन 7 आतंकियों से जुड़ा है, जिन्हें मार्च 2022 में भोपाल समेत प्रदेश के अन्य शहरों से गिरफ्तार किया गया था। अब तक इस मामले में कुल 9 गिरफ्तारियाँ हो चुकी हैं।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से दो और बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार आरोपितों की पहचान हमीदुल्ला उर्फ समीद अली मियाँ और मोहम्मद सहादत हुसैन उर्फ अबिदुल्लाह के रूप में हुई है। ये दोनों ही जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (JMB) के आतंकवादियों के मॉड्यूल से जुड़े हुए थे। 

इनका कनेक्शन उन 7 आतंकियों से जुड़ा है, जिन्हें मार्च 2022 में भोपाल समेत प्रदेश के अन्य शहरों से गिरफ्तार किया गया था। अब तक इस मामले में कुल 9 गिरफ्तारियाँ हो चुकी हैं। एजेंसी ने बताया कि उनके साथ भोपाल के ऐशबाग से तीन अवैध बांग्लादेशी अप्रवासी भी पकड़े गए हैं। जानकारी के मुताबिक हमीदुल्ला और मोहम्मद सहादत हुसैन पर भारत में जिहादी गतिविधियों को अंजाम देने का आरोप है। 

दोनों गिरफ्तार आरोपित मूल रूप से बंग्लादेश के रहने वाले हैं। इन पर जेएमबी के विचारों को फैलाने की साजिश का आरोप है। एजेंसी ने बताया कि दोनों आरोपित बेहद कट्टरपंथी  और घृणित और आपत्तिजनक सामग्री ऑनलाइन पोस्ट कर रहे थे। दोनों ही आरोपित सोशल मीडिया के जरिए जहर फैला रहे थे और युवाओं को भारत के खिलाफ जिहाद करने के लिए प्रेरित करने में शामिल थे। इसके लिए ये एनक्रिप्टेड ऐप का इस्तेमाल करते थे। अलग-अलग ऐप के माध्यम से बांग्लादेश में संपर्क करते थे। फिलहाल केस में छानबीन लगातार जारी है।

यह मामला शुरू में 14 मार्च को मध्य प्रदेश के भोपाल में FIR संख्या 13/2022 के रूप में दर्ज किया गया था और 5 अप्रैल को NIA द्वारा फिर से पंजीकृत किया गया था। इस मामले में सात लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

अब तक नौ आतंकी हो चुके गिरफ्तार

STF ने 13 मार्च को भोपाल के ऐशबाग इलाके से आतंकी संगठन जेएमबी के 4 सदस्यों को गिरफ्तार किया था। इनमें फजहर अली उर्फ महमूद, मोहम्मद अकील उर्फ अहमद, जहरुद्दीन उर्फ इब्राहिम और फजर जैनुल अबादीन उर्फ अकरम शामिल थे। इनकी पूछताछ के बाद तीन अन्य संदिग्धों को गिरफ्तार किया। जो इनकी मदद करते थे। केंद्र सरकार ने मई 2019 में आतंकी समूह जेएमबी पर प्रतिबंध लगा दिया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -