Friday, June 14, 2024
Homeदेश-समाजकर्नाटक में 9 लोगों के परिवार ने अपनाया हिन्दू धर्म, 40 साल पहले पिता...

कर्नाटक में 9 लोगों के परिवार ने अपनाया हिन्दू धर्म, 40 साल पहले पिता ने अपना लिया था ईसाई मजहब : VHP ने कराई घर-वापसी

"मेरे पिता ने सरकारी रिकार्ड्स में मेरे दो बेटों के नाम ईसाई के रूप में दर्ज करा दिया। लेकिन, 10 वर्ष पहले मेरे पिता की मृत्यु हो गई और इसके बाद से ही हमलोगों ने हिन्दू धर्म को मानना शुरू कर दिया था।"

कर्नाटक के भद्रावती स्थित अंतरगंगे गाँव में ईसाई परिवार के 9 सदस्यों ने ‘विश्व हिन्दू परिषद (VHP)’ कार्यकर्ताओं की मौजूदगी में घर-वापसी की और हिन्दू धर्म अपना लिया। ये सभी 9 लोग एक ही परिवार के हैं। 55 वर्षीय जयशीलन ने बताया कि वो मूल रूप से तमिलनाडु से हैं लेकिन 7 दशक पहले उनके पूर्वजों ने कर्नाटक के भद्रावती में बसने का फैसला लिया था। पेशे से टेलर जयशीलन ने कहा कि उनके पिता एलुमलाई एक दिहाड़ी मजदूर थे। वो एक माइन में काम करते थे।

ये माइन ‘विश्वेश्वरैया आयरन एंड स्टील लिमिटेड (VISL)’ को कच्चे धातु (Ore) की सप्लाई करता था। 40 वर्ष पहले उनके पिता ने ईसाई मजहब अपना लिया था, लेकिन अब इस परिवार ने वापस हिन्दू धर्म में आने का निर्णय लिया है। उन्होंने रविवार (26 दिसंबर, 2021) को ये बातें कही। जयशीलन का कहना है कि उनका जन्म तभी हो गया था, जब उनके पिता धर्मांतरित नहीं हुए थे। ऐसे में उन्होंने अपना धर्म बचपन से हिन्दू ही बनाए रखा। अब वो औपचारिक रूप से हिन्दू धर्म में आ गए हैं।

जयशीलन ने बताया, “मेरे पिता ने सरकारी रिकार्ड्स में मेरे दो बेटों के नाम ईसाई के रूप में दर्ज करा दिया। लेकिन, 10 वर्ष पहले मेरे पिता की मृत्यु हो गई और इसके बाद से ही हमलोगों ने हिन्दू धर्म को मानना शुरू कर दिया था। हालाँकि, हमें अब तक ऐसा कोई मंच नहीं मिला जिसके माध्यम से हम हिन्दू धर्म में वापस घर-वापसी कर सकें। इसीलिए, मैंने भद्रावती में ‘विश्व हिन्दू परिषद (VHP)’ के अपने दोस्तों से संपर्क किया।” भद्रावती के VHP नेता एच रामप्पा मौके पर मौजूद थे।

उन्होंने कहा कि जयशीलन और उनके परिवार ने स्वेच्छा से हिन्दू धर्म में घर-वापसी की है। उन्होंने कहा कि हमने तो बस इस कार्य में उनकी मदद की है। VHP नेता ने उम्मीद जताई कि आने वाले दिनों में कई और लोग हिन्दू धर्म में घर-वापसी की।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिन्दू देवी-देवताओं के अपमान पर ‘मत देखो’, इस्लामी कुरीति पर सवाल उठाना ‘आपत्तिजनक’: PK और ‘हमारे बारह’ को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दोहरा रवैया...

राधा व दुर्गा के साथ 'सेक्सी' शब्द जोड़ने वालों और भगवान शिव को बाथरूम में छिपते हुए दिखाने वालों पर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कार्रवाई की थी? इस्लामी कुरीति दिखाने पर भड़क गया सर्वोच्च न्यायालय, हिन्दू धर्म के अपमान पर चूँ तक नहीं किया जाता।

‘इंशाअल्लाह, राम मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन चुकी है’: धमकी के बाद अयोध्या में अलर्ट जारी कर कड़ी की गई सुरक्षा, 2005 में...

"बाबरी मस्जिद की जगह तुम्हारा मंदिर बना हुआ है और वहाँ हमारे 3 साथी शहीद हुए हैं। इंशाअल्लाह, इस मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन गई है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -