Friday, July 1, 2022
Homeदेश-समाजओडिशा: भद्रक में दीवाली के दिन मिला प्राचीन शिवलिंग, पार्क बनाने के लिए हो...

ओडिशा: भद्रक में दीवाली के दिन मिला प्राचीन शिवलिंग, पार्क बनाने के लिए हो रही थी खुदाई

स्थानीय लोगों का मानना है कि अमावस्या के दिन शिवलिंग का मिलना काफी शुभ है। ओडिशा पोस्ट के अनुसार कुछ गाँववालों ने बताया, "कल अमावस्या का दिन था। ऐसे शुभ दिन में शिवलिंग और मूर्ति का मिलना और कुछ नहीं, बल्कि ईश्वर का आशीर्वाद है।"

दीवाली के दिन ओडिशा के भद्रक जिला स्थित गोरामाटी गाँव के मैदान में प्राचीन शिवलिंग खुदाई के दौरान मिली। रिपोर्टों के अनुसार, मैदान में एक पार्क बनाने के लिए खुदाई चल रही थी। इसी दौरान एक ट्रैक्टर किसी चट्टान से टकराकर क्षतिग्रस्त हो गया।

जब कर्मियों ने चट्टान को ज़मीन से उखाड़ने की कोशिश की, तो पाया कि वह एक शिवलिंग है। मौके पर कई अन्य कलाकृतियाँ भी पायी गईं। कर्मियों ने तुरंत सरपंच तथा स्थानीय लोगों को इसकी जानकारी दी।

स्थानीय लोग पूजा-अर्चना करने पहुँचे

निकटवर्ती गाँवों में शिवलिंग की खबर पहुँचते ही लोग भारी संख्या में मौके पर पहुँचे और पूजा-अर्चना की। हालाँकि यह शिवलिंग प्राचीन मालूम तो होता है, परन्तु विशेषज्ञों ने अब तक कोई परीक्षण नहीं किया है, जिससे इसकी सही उम्र का पता लगता हो। स्थानीय लोगों का मानना है कि अमावस्या के दिन शिवलिंग का मिलना काफी शुभ है। ओडिशा पोस्ट के अनुसार कुछ गाँववालों ने बताया, “कल अमावस्या का दिन था। ऐसे शुभ दिन में शिवलिंग और मूर्ति का मिलना और कुछ नहीं, बल्कि ईश्वर का आशीर्वाद है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,242FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe