Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाज6 लोग (3 औरत+2 मर्द+1 नाबालिग) और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारेः खान मार्केट में...

6 लोग (3 औरत+2 मर्द+1 नाबालिग) और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारेः खान मार्केट में हुई घटना की पड़ताल कर रही दिल्ली पुलिस

पुलिस का कहना है कि रेस के दौरान जिस शख्स का नाम पाकिस्तान के नाम पर रखा गया था, उसकी हौसलाअफजाई के दौरान पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा दिए। ये लोग परिवार के साथ इंडिया गेट के आसपास घूमने आए थे और युलु बाइक किराए पर ली थी।

दिल्ली के खान मार्केट मेट्रो स्टेशन के पास 24 जनवरी की रात 1 बजे के करीब, 6 लोगों ने कथित तौर पर ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए। स्थानीय लोगों ने पुलिस से इसकी शिकायत की। शिकायत पर तुरंत संज्ञान लेते हुए दिल्ली पुलिस ने मौके पर पहुँच कर घटना में शामिल दो पुरुषों, एक नाबालिग और तीन महिलाओं को थाने ले गई।

पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला कि इन लोगों ने यहाँ किराए पर बाइक्स लीं और एक-दूसरे से रेस लगाने लगे। इस दौरान उन्होंने एक-दूसरे का नाम देशों के नाम पर रखा, जिनमें पाकिस्तान भी शामिल था।

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने कहा कि नारे “हल्के-फुल्के अंदाज” में लगाए गए थे। वहीं समूह ने बताया कि वे कम आवाज़ में नाम ले रहे थे, लेकिन कुछ लोगों ने उन्हें यह बोलते हुए सुन लिया और पुलिस को सूचित कर दिया।

दिल्ली पुलिस ने इस मामले में बताया, तुगलक रोड पुलिस स्टेशन को एक पीसीआर कॉल आई। जिसमें उन्होंने बताया कि खान मार्केट मेट्रो स्टेशन के पास’ पाकिस्तान जिंदाबाद ’के नारे लगाए गए हैं। लोकेशन पर पहुँचकर पुलिस को मौके पर तीन महिलाएँ, दो पुरुष और एक किशोर नीले रंग की युलु बाइक के साथ मिले।

पुलिस का कहना है कि रेस के दौरान जिस शख्स का नाम पाकिस्तान के नाम पर रखा गया था, उसकी हौसलाअफजाई के दौरान पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा दिए। ये लोग परिवार के साथ इंडिया गेट के आसपास घूमने आए थे और युलु बाइक किराए पर ली थी। मजे करने के लिए आपस में रेस लगा रहे थे। मजे-मजे में इन लोगों ने धीमी आवाज में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा दिए। हालाँकि मामले में पुलिस की तहकीकात जारी है।

गौरतलब है कि 26 जनवरी के मद्देनजर दिल्ली पुलिस हाई अलर्ट पर है और संदिग्ध लोगों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। एनआईए की रिपोर्ट के अनुसार, खालिस्तानी आतंकवादी और नक्सली आतंकवादी हमला और दुष्प्रचार फैलाने के लिए चल रहे किसान विरोध प्रदर्शनों का सहारा ले सकते हैं। गणतंत्र दिवस पर प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली को लेकर दिल्ली पुलिस और किसान यूनियनों के बीच मामला काफी गरम है। यूनियन का दावा है कि पुलिस ने उन्हें अनुमति दे दी, लेकिन वहीं दिल्ली पुलिस ने इसका खंडन किया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -