Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजगौ तस्करी के आरोपित को पकड़ने गई पुलिस पर फायरिंग, महिलाओं ने की पत्थरबाजी:...

गौ तस्करी के आरोपित को पकड़ने गई पुलिस पर फायरिंग, महिलाओं ने की पत्थरबाजी: 7 पुलिसकर्मी घायल

पुलिस ने 20 लोगों को नामजद किया है और अन्य अज्ञात आरोपियों का भी जिक्र मामले में है। सभी के खिलाफ हत्या के प्रयास समेत गंभीर धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।

प्रयागराज में गौ तस्करी के आरोपी को गिरफ़्तार करने गई यूपी पुलिस पर गाँव वालों ने हमला कर दिया। हमला भी ऐसा-वैसा नहीं, बाकायदा पुलिस पर फायरिंग। इसके चलते आरोपित भागने में सफल रहा और 7 पुलिस वाले घायल भी हो गए। मामला जनपद के धूमनगंज स्थित मरियाडीह गाँव का है। घायल पुलिसकर्मियों का इलाज कॉल्विन अस्पताल में चल रहा है।

गाँव में पुलिस ने डाला पहरा

हमले के बाद शांति-भंग जैसी किसी घटना से निपटने के लिए भारी मात्रा में पुलिस बल की तैनाती गाँव में कर दी गई है। मीडिया से बात करते हुए एसपी (क्राइम) आशुतोष मिश्र ने कहा कि हमले में शामिल आरोपितों को जल्दी ही हिरासत में ले लिया जाएगा। देर रात तक हमलावरों की तलाश में पुलिस की दबिश पड़ते रहने की बात भी मीडिया रिपोर्टों में सामने आ रही है।

फ़रार आरोपित की सूचना पाकर पहुँची थी पुलिस

आशुतोष मिश्र के मुताबिक नुरैन नामक व्यक्ति गौ तस्करी मामले में फ़रार चल रहा है। शनिवार शाम उसके घर पर होने की सूचना पाकर पहुँची बम्हरौली थाना क्षेत्र के आठ पुलिसकर्मियों की टीम ने उसे धर दबोचा। लेकिन नुरैन को लेकर जब पुलिस जाने लगी तो महिलाओं समेत सैकड़ों की संख्या में इकट्ठा भीड़ ने पुलिस को घेर लिया। अचानक से पुलिस पर लाठी-डंडों और पत्थरों से हमले होने लगे। मौका पाकर कुछ युवक नुरैन को ले भागने में सफल रहे।

पीछा करने वाले चौकी प्रभारी पर फायरिंग

बम्हरौली के चौकी प्रभारी नित्यानंद सिंह ने जब नुरैन का पीछा किया तो उन पर फायरिंग की गई। इसके बाद जान बचाने के लिए पुलिस को पीछे हटना पड़ा। जब इस वारदात की सूचना उच्चाधिकारियों को मिली तो तुरंत हरकत में आए सिविल लाइन्स के सीओ (सर्कल अफसर) 6 थानों का पुलिस बल और पीएसी लेकर खुद मौके पर पहुँचे। पुलिस फ़ोर्स की मौजूदगी देख ग्रामीण तितर-बितर हो गए

पुलिस ने 20 लोगों को नामजद किया है और अन्य अज्ञात आरोपियों का भी जिक्र मामले में है। सभी के खिलाफ हत्या के प्रयास समेत गंभीर धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। आपको बता दें कि यह इलाका प्रदेश में कुख्यात बाहुबली अतीक अहमद का गढ़ है। जनपद में सर्वाधिक अपराध वाले इलाके में भी इसकी गिनती होती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तालिबान ने कंधारी कॉमेडियन की हत्या से पहले थप्पड़ मारने का वीडियो किया शेयर, जमीन पर कटा मिला था सिर

"वीडियो में आप देख सकते हैं कि कंधारी कॉमेडियन खाशा का पहले तालिबानी आतंकियों ने अपहरण किया। फिर इसके बाद आतंकियों ने उन्हें कार के अंदर कई बार थप्पड़ मारे और अंत में उनकी जान ले ली।"

समर्थन ले लो… सस्ता, टिकाऊ समर्थन: हर व्यक्ति, संस्था, आंदोलन और गुट के लिए है राहुल गाँधी के पास झऊआ भर समर्थन!

औसत नेता समर्थन लेकर प्रधानमंत्री बनता है, बड़ा नेता बिना समर्थन के बनता है पर राहुल गाँधी समर्थन देकर बनना चाहते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,488FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe