Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजजयपुर में बाइक की टक्कर के बाद 2 गुटों में लड़ाई, 1 युवक की...

जयपुर में बाइक की टक्कर के बाद 2 गुटों में लड़ाई, 1 युवक की मौत: कट्टर इस्लामी भीड़ अब सड़क पर, सारे बाजार बंद, कर रहे उग्र प्रदर्शन

हजारों लोगों की भीड़ के सामने पुलिस भी बेबस दिखी। जनप्रतिनिधियों और पुलिस-प्रशासन ने बैठक कर मामले को शांत करने पर मंथन की।

राजस्थान की राजधानी जयपुर में हालात तनावपूर्ण हो गए हैं। सुभाष चौक पर दुर्घटना में बाइक सवारों में झड़प हुई, जिसने बाद में सांप्रदायिक रंग ले लिया। अब इस मामले में 2 गुटों में हुई झड़प में एक युवक की मौत हो गई है। मृतक के परिजन लाश के साथ प्रदर्शन कर रहे हैं और उन्होंने पोस्टमॉर्टम तक कराने से इनकार कर दिया। इसके बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री ने मृतक के परिवार को एक सरकारी नौकरी और 50 लाख रुपए बतौर मुआवजा देने की घोषणा की।

अब खबर आ रही है कि इस ऐलान के बाद पुलिस-प्रशासन ने समझा-बुझा कर परिवार को मृतक के शव के पोस्टमॉर्टम के लिए मनाया। सीएम अशोक गहलोत ने परिवार को एक डेयरी बूथ देने की घोषणा भी की है। सुभाष चौक पर 2 बाइकों में टक्कर के बाद इस प्रकरण की शुरुआत हुई थी। इसके बाद दोनों तरफ से भीड़ जमा हो गई और हिंसा में इक़बाल नामक युवक की मौत हो गई। CCTV में भी ये घटना कैद हुई है। परिजनों का कहना है कि इक़बाल के सिर पर रॉड से मारा गया, जिससे काफी अधिक खून बह गया और उसकी मौत हो गई।

SMS अस्पताल में शव को भेज कर पोस्टमॉर्टम कराया गया और फिर आगे की विधिक कार्यवाही की गई। पुलिस ने हिंसा में शामिल आरोपितों की पहचान करने का दावा किया है और कहा है कि उन्हें जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। शनिवार (30 सितंबर, 2023) को जयपुर के बाजार बंद रहे और सड़क पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। हजारों लोगों की भीड़ के सामने पुलिस भी बेबस दिखी। जनप्रतिनिधियों और पुलिस-प्रशासन ने बैठक कर मामले को शांत करने पर मंथन की।

फूटा खुर्रा इलाके के रहने वाले उक्त युवक की मौत की खबर सोशल मीडिया के जरिए तेज़ी से फ़ैल गई। उसके घर के बाहर पहले लोग जमा हुए, फिर सड़कों पर उतर गए। रामगंज और घाटगेट में इस तनाव का सबसे ज़्यादा असर पड़ा। कई पुलिस अधिकारी मौके पर मौजूद थे। शुक्रवार की रात 10:55 बजे बाइकों में टक्कर हुई थी, और जयपुर तभी से सुलग रहा है। कई व्यापारी अपनी-अपनी दुकानें बंद कर चलते बनें। युवक की मौत के बाद कार्रवाई की माँग को लेकर थाने का भी घेराव किया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -