Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजबिहार पुलिस कह रही 'शांतिपूर्ण', लेकिन सासाराम में रात भर होता रहा बवाल: पत्थरबाजी...

बिहार पुलिस कह रही ‘शांतिपूर्ण’, लेकिन सासाराम में रात भर होता रहा बवाल: पत्थरबाजी के बाद आगजनी-हिंसा-गोलीबारी, पहुँच रहे अमित शाह

सासाराम में पड़ोसी जिले औरंगाबाद से पुलिस फोर्स मँगाई गई है। ये सब तब हो रहा है, जब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जिले के दौरे पर आने वाले हैं।

बिहार के सासाराम में रामनवमी का त्योहार बीत जाने के बावजूद हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। बिहार पुलिस ने कहा कि इलाके में शांति है, लेकिन पिछले 24 घंटे से बवाल जारी है जो रात में भी नहीं थमा। शहर के कई अलग-अलग इलाकों में हिंसा हुई है। इंटरनेट सेवाएँ प्रतिबंधित कर दी गई हैं। हिन्दू-मुस्लिम तनाव के कारण पूरे जिले में धारा-144 लागू करने के साथ ही भारी संख्या में पुलिस के जवानों की तैनाती भी की गई है।

सासाराम के सहजलाल, बस्ती मोर, चौखंडी, आदमखानी और सोना पट्टी जैसे इलाकों में हिंसा की सबसे ज्यादा घटनाएँ हुई हैं। दोनों पक्षों के बीच पत्थरबाजी होती रही। सोना पट्टी इलाके में आभूषण दुकानों के शटर तक को खोलने का प्रयास किया गया। कई घरों और दुकानों को भी आग के हवाले कर दिया गया है। मिड टाउन के इलाके सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं, जहाँ घनी आबादी रहती है। लोगों में भी दहशत का माहौल बना हुआ है।

सासाराम में पड़ोसी जिले औरंगाबाद से पुलिस फोर्स मँगाई गई है। ये सब तब हो रहा है, जब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जिले के दौरे पर आने वाले हैं। स्थानीय लोगों के अलावा पुलिसकर्मी और पत्रकार भी घायलों में शामिल हैं। एसडीओ के बॉडीगार्ड का सिर फट गया। रामनवमी जुलूस समाप्त होने के बाद वहाँ हिंसा शुरू हुई। रविवार (2 अप्रैल, 2023) को यहाँ अमित शाह की विशाल रैली है। गोलीबारी की भी खबर है, लेकिन प्रशासन ने फ़िलहाल चुप्पी साधी हुई है।

रामनवमी की विसर्जन यात्रा और जुमा, दोनों एक ही दिन था। जेपी के पूर्व विधायक जवाहर प्रसाद का कहना है कि खिरकी घाट में हनुमान मंदिर पर हमला किया गया है। सम्राट अशोक के लघु शिलालेख को भी अमित शाह देखने जाएँगे, जहाँ मुस्लिमों के कब्जे की बात कही जा रही है। कई वरिष्ठ अधिकारी मौके पर कैम्प कर रहे हैं, लेकिन इसके बावजूद हिंसा का होना बिहार पुलिस के कामकाज के तरीके पर सवाल खड़ा कर रहा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2018, 2019, 2023, 2024… साल दर साल ‘ये मोदी सरकार का अंतिम बजट’ कह-कह कर थके संजय झा: जिस कॉन्ग्रेस ने अनुशासनहीन कह कर...

संजय झा ने 2023 के वार्षिक बजट को उबाऊ बताया था और कहा था कि ये 'विनाशकारी' भाजपा को बाय-बाय कहने का समय है, इसे इनका अंतिम बजट रहने दीजिए।

मानहानि मामले में यूट्यूबर ध्रुव राठी के खिलाफ दिल्ली कोर्ट ने जारी किया समन, BJP नेता की शिकायत के बाद सुनवाई: अदालत ने कहा-...

ध्रुव राठी के खिलाफ दिल्ली की एक कोर्ट ने मानहानि मामले में समन जारी किया है। ये समन भाजपा नेता सुरेश करमशी नखुआ द्वारा द्वारा शिकायत के बाद जारी हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -