Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाज3 बॉर्डर पर बैरीकेडिंग तोड़ 'किसान' प्रदर्शनकारियों की भीड़ दिल्ली में घुसी, मुकरबा चौक...

3 बॉर्डर पर बैरीकेडिंग तोड़ ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों की भीड़ दिल्ली में घुसी, मुकरबा चौक पर तनावपूर्ण माहौल

दिल्ली-हरियाणा टिकरी बॉर्डर पर कथित किसानों ने पुलिस की बैरीकेडिंग तोड़ दी है। गाजीपुर बॉर्डर पर भी किसान बेरिकेडिंग तोड़कर दिल्ली की सीमा में घुस गए। मुकरबा चौक पर तो...

गणतंत्र दिवस के मौके पर पुलिस के कंधों पर वैसे तो हर साल सुरक्षा इंतजामों की जिम्मेदारी होती है लेकिन इस वर्ष किसान रैली के कारण उनके सामने नई चुनौती है। इस रैली के नाम पर दिल्ली की सीमा पर इकट्ठा हो रही भीड़ ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। तस्वीरें दिल्ली-हरियाणा टिकरी बॉर्डर से सामने आई हैं। यहाँ कथित किसानों ने पुलिस की बैरीकेडिंग तोड़ दी है।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, प्रदर्शनकारी किसानों ने दिल्ली हरियाणा बॉर्डर पर पुलिस बैरिकेडिंग तोड़ दी है। एजेंसी ने इस जानकारी के साथ एक वीडियो भी जारी की है। वीडियो में देख सकते हैं कि भारी तादाद में किसान बैरीकेडिंग के पार खड़े होते हैं, फिर धीरे धीरे उस पर चढ़ना शुरू कर देते हैं और देखते ही देखते यह भीड़ बैरिकेड्स को तोड़ कर आगे की ओर भागते हैं।

इसी प्रकार गाजीपुर बॉर्डर को लेकर भी खबर है कि गाजीपुर बॉर्डर पर भी किसान बेरिकेडिंग तोड़कर दिल्ली की सीमा में घुस गए। हालाँकि पुलिस अब तक (खबर लिखने तक) किसी को भी आगे नहीं जाने दे रही है, किसानों और नेताओं के साथ बातचीत चल रही है।

सिंघू बॉर्डर की बात करें तो यहाँ से किसान रैली शुरू हो चुकी है और मुकरबा चौक पहुँच कर इन्होंने राइट मुड़कर तय रास्ता बदल लिया है। बादली जाने की बजाय इनकी जिद है कि वह मुकरबा चौक से दिल्ली जाएँगे। इस कारण मुकरबा चौक पर माहौल काफी तनावपूर्ण बन गया है।

गौरतलब है कि किसान नेताओं के साथ कई दौर की बातचीत के बाद रविवार को दिल्ली पुलिस ने 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली निकालने की अनुमति दी थी। पुलिस ने कहा था, “बैरीकेड और अन्य सुरक्षा प्रबंधों को हटाकर राष्ट्रीय राजधानी में किसानों को आने दिया जाएगा और बाद में वह तय दूरी कवर करने के बाद दोबारा अपनी जगह पर लौट जाएँगे।”

बता दें कि आज किसानों की रैली अलग अलग सीमाओं से शुरू हो गई है। कई जगह पर केवल रैली के जरिए प्रदर्शनकारी शांति से अपना शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं और कहीं-कहीं हालातों को काबू करने के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है।

इस बीच दिल्ली पुलिस ने लोगों से अपील की है कि दोपहर तक नई दिल्ली व मध्य दिल्ली में जाने से बचें। गणतंत्र दिवस की परेड खत्म होने के बाद दोपहर से लेकर देर शाम तक किसानों की बाहरी व पूर्वी दिल्ली एरिया में किसान ट्रैक्टर यात्रा हैं। ऐसे में बाहरी व पूर्वी दिल्ली में बड़े पैमाने पर जाम रहने की संभावना है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मूर्तिपूजकों को जहाँ देखो, वहीं लड़ो-काटो… ऐसे बनाओ IED बम: PFI पर 5 साल का बैन क्यों लगा, पढ़िए इसके कुकर्मों की पूरी लिस्ट

भारत सरकार ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया (PFI) और उससे जुड़ी 8 संस्थाओं पर बैन लगा दिया है। PFI की देश विरोधी गतिविधियों के कारण...

‘ब्रह्मांड के केंद्र’ में भारत माता की समृद्धि के लिए RSS प्रमुख मोहन भागवत ने की प्रार्थना, मेघालय के इसी जगह पर है ‘स्वर्णिम...

सेंग खासी एक सामाजिक-सांस्कृतिक और धार्मिक संगठन है जिसका गठन 23 नवंबर, 1899 को 16 युवकों ने खासी संस्कृति व परंपरा के संरक्षण हेतु किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,749FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe