Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाजमोदी ने खाते में ₹1000 डाले हैं: अफवाह फैलते ही बैंक दौड़ीं महिलाएँ, समुदाय...

मोदी ने खाते में ₹1000 डाले हैं: अफवाह फैलते ही बैंक दौड़ीं महिलाएँ, समुदाय विशेष की जुटी भारी भीड़

पुरुष भी अपने-अपने घर की महिलाओं को लेकर बैंक पहुँचे। महिलाएँ माँग कर रही थीं कि उनके पासबुक पर प्रिंट कर दिखाया जाए कि रुपए आए हैं या नहीं। अलीगढ़ में तो अफवाह के कारण नगर निगम और डीएम ऑफिस के बाहर भी लोग पहुँच गए।

दिल्ली के शाहीन बाग़ सहित पूरे देश में हुए सीएए विरोधी आन्दोलनों का लब्बोलुआब यही था कि कागज़ नहीं दिखाएँगे। लेकिन, कोरोना वायरस से उपजे ख़तरों के बीच सरकारी सहायता लेने के लिए लोग न सिर्फ़ लाइन में लगे हुए हैं, बल्कि कागज़ भी दिखा रहे हैं। मेरठ में अफवाह फैला दी गई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिलाओं के खाते में हज़ार रुपए डाले हैं। इसके बाद महिलाओं की भारी भीड़ मेरठ के कई बैंकों में पासबुक लेकर दौड़ी चली गई। बैंकों के बाहर भारी भीड़ जुट गई और महिलाओं की अधिकारी लगातार समझाते रहे। इनमें अधिकतर दूसरे मजहब महिलाएँ थीं, जिन्होंने हंगामा किया।

समुदाय विशेष के पुरुष भी अपने-अपने घर की महिलाओं को लेकर बैंक पहुँचे। महिलाएँ माँग कर रही थीं कि उनके पासबुक पर प्रिंट कर दिखाया जाए कि रुपए आए हैं या नहीं। बता दें कि भारत सरकार ने ऐलान किया है कि जिन महिलाओं के पास जन-धन अकाउंट हैं, उनके खाते में अगले तीन महीने तक 500 रुपए डाले जाएँगे, यानी कुल 1500 रुपए की सहायता मिलेगी। जबकि महिलाओं के बीच अफवाह फ़ैल गई कि 1000 रुपए मोदी ने उनके अकाउंट में डाल दिए हैं। फिर क्या था। सभी अपने-अपने रुपए निकालने के लिए बैंकों की ओर भागीं।

इन महिलाओं ने ‘इंडिया टीवी’ से बात करते हुए दावा किया कि मोदी ने उन्हें जो पैसे दिए हैं, उसे निकालने नहीं दिया जा रहा है। कई लोगों ने इस भीड़ को देख नोटबंदी के बाद बैंकों में लगी भीड़ को याद किया। मेरठ ही नहीं बल्कि अलीगढ़ में भी भीड़ जुटी। एक बैंक के अधिकारी ने बताया कि अफरातफरी के माहौल के कारण लोग 100 रुपए भी निकाल के ले जा रहे हैं। सभी महिलाएँ पासबुक व अन्य कागज़ लेकर बैंक पहुँची हुई थीं। बैंक के अधिकारियों ने सरकार से सहायता की गुहार लगाई। अलीगढ़ में तो अफवाह के कारण नगर निगम और डीएम ऑफिस के बाहर भी लोग पहुँच गए।

आज की बात: देखें 9:35 के बाद (साभार: इंडिया टीवी)

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने महिलाओं को रुपए के लिए कतार में लगे देख कर उन पर तंज कसा। लोगों ने कहा कि कोई भी सरकारी सहायता तभी मिलेगी, जब सही कागज़ दिखाए जाएँगे। बता दें कि मोदी सरकार द्वारा जो वित्तीय मदद का ऐलान किया गया है, वो सभी लाभार्थियों के खाते में ‘डायरेक्ट ट्रांसफर’ के जरिए भेजा जाएगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -