Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाज1000 साल लगे, बाबरी मस्जिद वहीं बनेगी: SDPI नेता तस्लीम रहमानी ने कहा- अयोध्या...

1000 साल लगे, बाबरी मस्जिद वहीं बनेगी: SDPI नेता तस्लीम रहमानी ने कहा- अयोध्या पर गलत था SC का फैसला

“एक हजार साल भी अगर लग गया तो भी वहीं मस्जिद बनेगी। मैं फिर दोहरा रहा हूँ। मस्जिद थी, मस्जिद है, मस्जिद रहेगी।”

सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के सचिव तस्लीम रहमानी ने अयोध्या में फिर से बाबरी मस्जिद बनाने की धमकी दी है। यह भड़काऊ टिप्पणी उन्होंने ज़ी न्यूज़ पर कृष्ण जन्मभूमि मुद्दे पर चल रही डिबेट के दौरान अपने सह-पैनेलिस्ट के धमकी देते हुए की। रहमानी ने कहा कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद फिर से बनाई जाएगी, भले ही 1000 साल लगें।

एक तरफ जहाँ रहमानी ने कहा कि वह संविधान और सर्वोच्च न्यायालय में विश्वास रखते हैं, वहीं दूसरी ओर उन्होंने अयोध्या पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर सवाल भी खड़ा कर दिया। तस्लीम रहमानी ने कहा, मस्जिद वहाँ थी, वहाँ है और वहीं रहेगी।” उसने कहा, “एक हजार साल भी अगर लग गया तो भी वहीं मस्जिद बनेगी। मैं फिर दोहरा रहा हूँ। मस्जिद थी, मस्जिद है, मस्जिद रहेगी।”

जब एंकर ने रहमानी को दोहरे मापदंड रखने के लिए लताड़ा तो उन्होंने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट में विश्वास रखते हैं, इसलिए उसके गलत फैसले को भी स्वीकार किया। उन्होंने कहा,” सुप्रीम कोर्ट को मानते हैं इसलिए तो गलत फैसले पर भी सब्र किया।”

बेंगलुरु दंगे में SDPI की भूमिका

गौरतलब है कि एसडीपीआई पर अगस्त में बेंगलुरु में हुए भयावह दंगों में शामिल होने का आरोप है।था। दंगों की जाँच कर रही राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने भीड़ को उकसाने के लिए बेंगलुरु की सड़कों पर हिंसा भड़काने के लिए एसडीपीआई नेता मुज़म्मिल पाशा को गिरफ्तार किया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe