Friday, July 30, 2021
Homeदेश-समाजकोविशील्ड की कीमत पर विपक्षी प्रोपेगंडा का SII के CEO अदार पूनावाला ने दिया...

कोविशील्ड की कीमत पर विपक्षी प्रोपेगंडा का SII के CEO अदार पूनावाला ने दिया जवाब, कहा- सबसे कम रेट में दे रहे वैक्सीन

“भारत सहित सभी देशों में देशव्यापी टीकाकरण कार्यक्रमों के लिए सरकारी खरीद काफी कम कीमत पर हुई है क्योंकि इसका क्षेत्र बहुत बड़ा है। बाजार की परिस्थितियों के आधार पर कई वैक्सीनें, यहाँ तक कि हमारी न्यूमोकोकल वैक्सीन निजी बाजार में इकोनॉमी मूल्य पर बेची जाती हैं, जबकि सरकार के लिए यह मूल्य निजी बाजार मूल्य का लगभग एक तिहाई है।"

कोरोना वायरस संकट के बीच विपक्षी नेताओं लिबरल बुद्धिजीवियों द्वारा कोविशील्ड वैक्सीन को दामों को लेकर हायतौबा मचाने के बाद सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के सीईओ अदार पूनावाला ने वैक्सीन की कीमत पर एक बयान जारी किया है। पूनावाला ने कहा कि यह बयान पारदर्शिता के उद्देश्य से जारी किया गया है।

अदार पूनावाला ने कहा, “भारत सहित सभी देशों में देशव्यापी टीकाकरण कार्यक्रमों के लिए सरकारी खरीद काफी कम कीमत पर हुई है क्योंकि इसका क्षेत्र बहुत बड़ा है। उदाहरण के लिए, बाजार की परिस्थितियों के आधार पर कई वैक्सीनें, यहाँ तक कि हमारी न्यूमोकोकल वैक्सीन निजी बाजार में इकोनॉमी मूल्य पर बेची जाती हैं, जबकि सरकार के लिए यह मूल्य निजी बाजार मूल्य का लगभग एक तिहाई है।”

SII के सीईओ अदार पूनावाला ने कोविशील्ड की कीमत को लेकर जारी किया गया बयान

उन्होंने आगे कहा, “कोविशील्ड वैक्सीन आज बाजार में उपलब्ध सबसे सस्ती COVID-19 वैक्सीनों में से है। शुरुआती कीमतों को वैश्विक स्तर पर बहुत कम रखा गया था, क्योंकि यह देशों द्वारा कम से कम वैक्सीन निर्माण के लिए दिए गए एडवांस फंडिंग पर आधारित था। भारत सहित सभी सरकारी टीकाकरण कार्यक्रम के लिए कोविशील्ड की शुरुआती आपूर्ति कीमत न्यूनतम है।”

अदार पूनावाला के मुताबिक, “कोविशील्ड वैक्सीन की कीमत फिर भी Covid-19 और अन्य गंभीर बीमारियों के दूसरे उपलब्ध ईलाजों की तुलना में काफी कम है।”

बता दें कि विपक्षी पार्टियाँ कोविशील्ड वैक्सीन की कीमत को लेकर रोना रो रही हैं जो राज्य सरकारों के लिए प्रति खुराक 400 रुपए है। जबकि, केंद्र सरकार के लिए भी यही कीमतें तय की गई हैं, जो कि शुरुआती 110 मिलियन खुराक देने के बाद लागू की जाएंगी।

यह झूठा दावा किया जा रहा है कि राज्य सरकारों और केंद्र सरकार के लिए वैक्सीन की कीमत में अंतर है। निजी अस्पतालों के लिए 600 रुपए का मूल्य निर्धारित किया गया है। कंपनी पहले नुकसान सहते हुए भी टीकों को कम कीमत पर बेच रही थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तालिबान की मददगार पाकिस्तानी फौज, ढेर कर अफगान सेना ने दुनिया को दिखाए सबूत: भारत के बनाए बाँध को भी बचाया

अफगानिस्तान की सेना ने तालिबान को कई मोर्चों पर पीछे धकेल दिया है। उनकी मदद करने वाले पाकिस्तानी फौज से जुड़े कई लड़ाकों को भी मार गिराया है।

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,014FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe