Wednesday, September 23, 2020
Home देश-समाज सिर्फ रोटी-कपड़ा-मकान नहीं... रोगजार भी: ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों की जिंदगी में ऐसे आया...

सिर्फ रोटी-कपड़ा-मकान नहीं… रोगजार भी: ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों की जिंदगी में ऐसे आया बदलाव

सरकार साल 2016 में एक विधेयक लेकर आई थी - ट्रांसजेंडर व्यक्ति (अधिकारों का संरक्षण) विधेयक। यह सिर्फ एक शुरुआत थी। इस विधेयक की नींव पर सरकार ने पिछले वर्षों में जो काम किया, उसी का नतीजा है - जज बनने से लेकर, मेट्रो की नौकरी और अब सुरक्षाबल में बहाली की बात!

वर्तमान सरकार अनेक कारणों के चलते आलोचना का सामना करती है, भले उन कारणों में तथ्य और तर्क हों या न हों। ऐसा ही एक कारण है ‘ट्रांसजेंडर समुदाय’ के लिए सरकार का रवैया। ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए 2014 से PM मोदी की सरकार ने क्या-क्या किया है, लोग शायद भूल गए हैं। लेकिन पिछले 6 वर्षों का काम अब धरातल पर दिखने लगा है।

तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग के लिए यह बात स्वीकार करना मुश्किल है कि सरकार ने ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए कई बड़े कदम उठाए हैं। चाहे परोक्ष रूप से या अपरोक्ष रूप से, गुज़रे कुछ सालों में वर्तमान सरकार ने ऐसे तमाम फैसले लिए हैं, जिनके चलते ट्रांसजेंडर समुदाय के अधिकार बड़े पैमाने पर सुनिश्चित होते हैं। अधिकार ही नहीं इस समुदाय के लोगों के लिए शिक्षा, सुरक्षा और स्वास्थ्य जैसी अहम फायदे भी तय होते हैं।

ट्रांसजेंडर समुदाय समाज का असल वंचित वर्ग है। अब तक जितनी सरकारें भी सत्ता में आई हैं, उनमें वर्तमान सरकार के अलावा किसी दूसरी सरकार की कार्यप्रणाली इनके उत्थान के लिए उल्लेखनीय नहीं रही है। शिक्षा-सुरक्षा-रोजगार हर स्तर पर केंद्र सरकार ने ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए काम किया है। इनके रोजगार के लिए ही गृह मंत्रालय की ओर से ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों के लिए CAPF (Central Armed Police Force) में भर्ती की बात की गई। विभाग अब इस पर मंत्रालय को जवाब देगा।

24 जून 2020 को नोएडा मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने एक आदेश जारी किया। आदेश के मुताबिक़ सेक्टर 50 मेट्रो स्टेशन ट्रांसजेंडर समुदाय को समर्पित होगा। मेट्रो स्टेशन पर टिकट काउंटर और हाउस कीपिंग सर्विस में ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों की भर्ती की जाएगी। इस मेट्रो स्टेशन का नाम ‘रेनबो स्टेशन रखा जाएगा। ठीक ऐसे ही पिछले कुछ समय में वैश्विक समूहों से लेकर सरकारी नीतियों तक ट्रांसजेंडरों को काफी प्राथमिकता मिली है। 

ट्रांसजेंडर के लिए विधेयक

- विज्ञापन -

सरकार साल 2016 में एक विधेयक लेकर आई थी – ट्रांसजेंडर व्यक्ति (अधिकारों का संरक्षण) विधेयक! इस क़ानून का उद्देश्य स्पष्ट था – ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों के अधिकारों को सुनिश्चित करना। इसके बाद रोज़गार मिलने के दौरान उनके साथ होने वाले भेदभाव को रोकना और उन्हें शिक्षा और स्वास्थ्य से जुड़ी बुनियादी सुविधाएँ दिलाना।

भले ‘ट्रांसजेंडर’ शब्द की नींव 90 के दशक में ही पड़ गई थी लेकिन सरकारों ने इस शब्द के इर्द-गिर्द उतना काम नहीं किया। जहाँ एक ओर दुनिया के तमाम प्रगतिशील देशों में समलैंगिक अधिकारों को मान्यता नहीं मिली है, वहीं हमारे देश की सबसे बड़ी अदालत ने 2018 में धारा 377 को जो पहले आपराधिक था, उसे गैर-आपराधिक बनाया और सहमति से समलैंगिक संबंध बनाने को अपराध नहीं माना।     

हालाँकि केवल इतने से देश में ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों का विकास सुनिश्चित नहीं होता है। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्ययन के मुताबिक़ देश के 92 फीसदी ट्रांसजेंडर किसी भी तरह के रोज़गार या आर्थिक गतिविधि में शामिल नहीं हैं। इससे भी ज़्यादा हैरान कर देने वाली बात यह है कि जितने गिने-चुने लोग योग्य होते हैं, उन्हें नकार दिया जाता है।

यहाँ समस्या योजनाओं से हट कर आम लोगों के रवैये पर आ जाती है। साल 2011 की जनगणना के मुताबिक़ देश भर में कुल 4,90,000 ट्रांसजेंडर हैं। सरकारी प्रोत्साहन व न्यायालयों की सख्ती के बाद समय के साथ तमाम बड़े व्यावसायिक समूहों ने ट्रांसजेंडरों के लिए काफी सकारात्मक रुख अपनाया है।

ट्रांसजेंडर व रोजगार

कुछ साल पहले चेन्नई के एक उद्यमी समूह ने 14 महीनों के भीतर कुल 42 ट्रांसजेंडर को प्रशिक्षण पर रखा था। इसके अलावा साल 2017 में कोच्चि मेट्रो रेल लिमिटेड ने 23 ट्रांसजेंडर लोगों को रोज़गार दिया था। साल 2017 में ही पश्चिम बंगाल की जोइता मंडल को लोक अदालत में न्यायाधीश नियुक्त किया गया।

रोजगार सृजन जैसे कामों के अलावा वर्तमान सरकार ने ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों के लिए सरकारी और निजी क्षेत्र में बढ़ावा देने के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। इन फैसलों के चलते कॉर्पोरेट क्षेत्र में भी ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों की स्वीकार्यता काफी बढ़ी है। 

साल 2018 में गोदरेज समूह ने एक मैनिफेस्टो जारी किया था, जिसमें इस मुद्दे पर तमाम तथ्य मौजूद थे कि भारतीय कार्य स्थलों पर ट्रांसजेंडर समुदाय की स्वीकार्यता कैसे बढ़ेगी। इसी साल की शुरुआत में VLCC ने ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों के लिए ‘असिस्टेंट ब्यूटी थेरेपिस्ट’ प्रक्षिक्षण कोर्स तैयार किया थाl। VLCC हैदराबाद शाखा में इस कोर्स के तहत कुल 24 लोगों ने प्रशिक्षण लिया था।

साल 2018 के ही जुलाई महीने में ऊबर इट्स ने चेन्नई में कई ट्रांसजेंडर को डिलीवरी एजेंट के तौर पर रखा था। इसी तरह कुछ साल पहले FICCI और CII ने एक कॉन्क्लेव का आयोजन कराया था। इसमें एक पैनल में ट्रांसजेंडर समुदाय के लोग भी शामिल थे।

वर्ल्ड बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों की अर्थव्यवस्था में भागीदारी न होने से भारत को हर साल करोड़ों डॉलर का नुकसान झेलना पड़ता है। सरकार इस खाई को भरने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है। पहले उन्हें उनके अधिकार मिले और उसके बाद शिक्षा, स्वास्थ्य और रोज़गार जैसी मूलभूत सुविधाएँ भी मिले। ऐसे में यह बहुत ज़रूरी हो जाता है कि आम लोग इस तरह के नीति-निर्देशों में सरकार का पूरा साथ दें।     

इस तरह की नीतियों और आँकड़ों से हट कर ज़्यादा महत्वपूर्ण बात यह है कि लोगों के नज़रिए में इस समुदाय के प्रति सकारात्मकता बनी रहे। क्योंकि एक सभ्य समाज और लोकतांत्रिक देश में सभी लोगों को बराबरी से जीने का अधिकार है। ऐसे में जब तक आम लोग ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों को सामान नज़रिए से नहीं देखेंगे तब तक सामाजिक खाई बनी रहेगी।

इस मामले में सरकारी ढाँचा और क़ानून व्यवस्था एक हद तक ही अपनी भूमिका निभा सकती है। अंतिम ज़िम्मेदारी आम लोगों के कन्धों पर ही आती है। देश की सबसे बड़ी अदालत ने ‘थर्ड जेंडर’ शब्द देकर ही अपना मत स्पष्ट कर दिया था। बचा हुआ काम हमारा है कि हम इस आदेश को किस हद तक बढ़ावा देते हैं।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हथियारों से लैस होना जरूरी, वरना भेड़िये तो राह चलते साधुओं पर भी अकारण झपट्टा मारते हैं: दिनकर ने क्यों कहा था ऐसा?

फ़रवरी 21, 1963 को राज्यसभा में दिए अपने भाषण में राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने समझाया था कि अहिंसा का अर्थ क्या होता है।

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

निलंबित AAP सांसद संजय सिंह ने टीवी पर स्वीकारा कि उन्होंने उपाध्यक्ष का माइक तोड़ा, कहा- लोकतंत्र की रक्षा कर रहे थे

AAP नेता संजय सिंह ने खुद और अन्य विधायकों का बचाव करते हुए कहा कि वे 'लोकतंत्र को बचाने' की कोशिश कर रहे थे।

नोटबंदी और कृषि बिल के लिए एक ही शख्स के इंटरव्यू के वायरल दावे को ANI एडिटर ने नकारा, कॉन्ग्रेस ने फैलाया ‘झूठ’

इन दिनों सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि समाचार एजेंसी ANI ने हाल ही में पारित किए गए किसान बिल और 2016 में मोदी सरकार द्वारा लाए गए नोटबंदी के लिए एक ही व्यक्ति का इंटरव्यू लिया।

व्यंग्य: रवीश जी दुबरा गए हैं, एतना चिंता हो रहा है देस का कि का कहें महाराज!

एक समाज के तौर पर हम कहाँ जा रहे हैं? धरती घूम रही है और हम भी घूम रहे हैं। इसी धरती पर मोदी हमें घुमा रहा है। जबकि लेहरू जी द्वारा भारत को दिए गए विज्ञान की सौगात यही कहती है किसान को किसान ही रहने दो, उसको व्यापारी मत बनाओ।

संजय सिंह और डेरेक ओ ब्रायन ने ईशान करण की चिट्ठी नहीं पढ़ी… वरना पत्रकार हरिवंश से पंगा न लेते

दूर बैठकर भी कर्मचारियों के मन को बखूबी पढ़ लेने वाले हरिवंश जी, अब आसन पर बैठ संजय सिंह, डेरके ओ ब्रायन की 'राजनीति' को पढ़ हँसते होंगे।

प्रचलित ख़बरें

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

नेपाल में 2 km भीतर तक घुसा चीन, उखाड़ फेंके पिलर: स्थानीय लोग और जाँच करने गई टीम को भगाया

चीन द्वारा नेपाल की जमीन पर कब्जा करने का ताजा मामला हुमला जिले में स्थित नामखा-6 के लाप्चा गाँव का है। ये कर्णाली प्रान्त का हिस्सा है।

व्हिस्की पिलाते हुए… 7 बार न्यूड सीन: अनुराग कश्यप ने कुबरा सैत को सेक्रेड गेम्स में ऐसे किया यूज

पक्के 'फेमिनिस्ट' अनुराग पर 2018 में भी यौन उत्पीड़न तो नहीं लेकिन बार-बार एक ही तरह का सीन (न्यूड सीन करवाने) करवाने का आरोप लग चुका है।

‘क्या तुम्हारे पास माल है’: सामने आई बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेस के बीच हुई ड्रग चैट

कुछ बड़े बॉलीवुड सितारों के बीच की ड्रग चैट सामने आई है। इसमें वे खुलकर ड्रग्स के बारे में बात कर रहे हैं।

जेल में मुझे ‘शिक्षित आतंकी’ कहते हैं, पुलिस देती है मानसिक प्रताड़ना: दिल्ली दंगा आरोपित MBA वाली गुलफिशा फातिमा

दिल्ली दंगे की आरोपित गुलफिशा फातिमा ने दावा किया कि उसे जब से जेल में लाया गया है, तभी से वो वहाँ भेदभाव का सामना कर रही है।

हथियारों से लैस होना जरूरी, वरना भेड़िये तो राह चलते साधुओं पर भी अकारण झपट्टा मारते हैं: दिनकर ने क्यों कहा था ऐसा?

फ़रवरी 21, 1963 को राज्यसभा में दिए अपने भाषण में राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने समझाया था कि अहिंसा का अर्थ क्या होता है।

‘क्या आपके स्तन असली हैं? क्या मैं छू सकता हूँ?’: शर्लिन चोपड़ा ने KWAN टैलेंट एजेंसी के सह-संस्थापक पर लगाया यौन दुर्व्यवहार का आरोप

"मैं चौंक गई। कोई इतना घिनौना सवाल कैसे पूछ सकता है। चाहे असली हो या नकली, आपकी समस्या क्या है? क्या आप एक दर्जी हैं? जो आप स्पर्श करके महसूस करना चाहते हैं। नॉनसेंस।"

सुप्रीम कोर्ट में ‘हिन्दू आतंक’ का हवाला दिए जाने से बौखलाए NDTV के पत्रकार ने केंद्र पर लगाया ‘अपने लोगों’ को बचाने का आरोप

आतंकवादी हमले को ‘छोटा-मोटा’ हमला करार देने वाले NDTV के पत्रकार जैन ने केंद्र पर किसी भी कीमत पर ‘अपने लोगों’ को बचाने का आरोप लगाया।

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

निलंबित AAP सांसद संजय सिंह ने टीवी पर स्वीकारा कि उन्होंने उपाध्यक्ष का माइक तोड़ा, कहा- लोकतंत्र की रक्षा कर रहे थे

AAP नेता संजय सिंह ने खुद और अन्य विधायकों का बचाव करते हुए कहा कि वे 'लोकतंत्र को बचाने' की कोशिश कर रहे थे।

भारत के आगे एक बार फिर नतमस्तक हुआ नेपाल: विवादित नक्‍शे वाली किताब पर PM ओली ने लगाई रोक

नेपाल की केपी ओली सरकार ने देश के विवादित नक्‍शे वाली किताब के वितरण पर रोक लगा दिया है। नेपाल के विदेश मंत्रालय और भू प्रबंधन मंत्रालय ने श‍िक्षा मंत्रालय की ओर से जारी इस किताब के विषयवस्‍तु पर गंभीर आपत्ति जताई थी।

नोटबंदी और कृषि बिल के लिए एक ही शख्स के इंटरव्यू के वायरल दावे को ANI एडिटर ने नकारा, कॉन्ग्रेस ने फैलाया ‘झूठ’

इन दिनों सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि समाचार एजेंसी ANI ने हाल ही में पारित किए गए किसान बिल और 2016 में मोदी सरकार द्वारा लाए गए नोटबंदी के लिए एक ही व्यक्ति का इंटरव्यू लिया।

ड्रग तस्कर केशवानी ने पूछताछ में लिया दीया मिर्जा का नाम: NCB बाकी सितारों के साथ उन्हें भी जल्द भेजेगी समन

दीया का नाम पूछताछ के दौरान अनुज केशवानी ने लिया है। केशवानी ने बताया कि दीया की मैनेजर ड्रग्स खरीदती थी। उन्होंने इसके सबूत भी दिए हैं।

व्यंग्य: रवीश जी दुबरा गए हैं, एतना चिंता हो रहा है देस का कि का कहें महाराज!

एक समाज के तौर पर हम कहाँ जा रहे हैं? धरती घूम रही है और हम भी घूम रहे हैं। इसी धरती पर मोदी हमें घुमा रहा है। जबकि लेहरू जी द्वारा भारत को दिए गए विज्ञान की सौगात यही कहती है किसान को किसान ही रहने दो, उसको व्यापारी मत बनाओ।

आयकर विभाग ने उद्धव ठाकरे और उनके बेटे के साथ ही शरद पवार और उनकी बेटी को भेजा नोटिस, गलत जानकारी साझा करने के...

“मुझे अपने चुनावी हलफनामे के बारे में आयकर विभाग से नोटिस मिला। चुनाव आयोग के निर्देश पर, आयकर ने 2009, 2014 और 2020 के लिए चुनावी हलफनामों पर एक नोटिस भेजा है।"

हमसे जुड़ें

263,159FansLike
77,959FollowersFollow
323,000SubscribersSubscribe
Advertisements