Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजछत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री आवास में मिले घर को बना दिया चर्च, 25 जनजातीय लोगों...

छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री आवास में मिले घर को बना दिया चर्च, 25 जनजातीय लोगों के धर्मांतरण पर हिंदू संगठनों ने की कार्रवाई की माँग

छत्तीसगढ़ के बेमेतरा में सामूहिक धर्मान्तरण में जनजातीय समुदाय के 25 से ज्यादा लोगों ने ईसाई मत अपना लिया है। धर्म परिवर्तन प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने घर में हुआ है। कुछ घरों पर क्रॉस के चिन्ह भी लगे मिले हैं। घटना से नाराज हिन्दू संगठनों ने प्रशासन में शिकायत दर्ज करवाई है। आरोप है कि धर्मान्तरित लोगों को बीमारी से मुक्ति और आर्थिक स्थिति ठीक होने का लालच दिया गया है।

छत्तीसगढ़ के बेमेतरा में सामूहिक धर्मान्तरण में जनजातीय समुदाय के 25 से ज्यादा लोगों ने ईसाई मत अपना लिया है। धर्म परिवर्तन प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने घर में हुआ है। कुछ घरों पर क्रॉस के चिन्ह भी लगे मिले हैं। घटना से नाराज हिन्दू संगठनों ने प्रशासन में शिकायत दर्ज करवाई है। आरोप है कि धर्मान्तरित लोगों को बीमारी से मुक्ति और आर्थिक स्थिति ठीक होने का लालच दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला बेमेतरा के थाना क्षेत्र खम्हरिया का है। यहाँ के हिन्दू संगठन से जुड़े सदस्यों को वार्ड नंबर 13 में रहने वाले गोंड बिरादरी के 5 परिवारों की पूजा पद्धति और रहन-सहन में बदलाव की जानकारी मिली। इसी दौरान उन्हें पता चला कि पहले प्रार्थना के लिए रायपुर जाने वाले ये परिवार अब अपने ही घर के पास प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने एक मकान में जाने लगे हैं।

आरोप है कि इस मकान को उन सभी ने चर्च में तब्दील कर दिया है। यहाँ ईसा मसीह की रोज प्रार्थना होने की भी बातें सामने आईं। बताया जा रहा है कि धर्मान्तरित हुए परिवार पहले नाच-गाना के साथ कबाड़ आदि का काम करके अपनी आजीविका चलाते थे। हालाँकि उनके कामकाज आज भी पारम्परिक हैं, लेकिन उन सभी ने अपनी जीवन शैली बदल डाली है।

हरिभूमि ने अपनी ग्राउंड रिपोर्ट में बताया है कि धर्मान्तरित हुए लोगों ने गुड्डी नाम की एक बीमार महिला को चर्च में जाने पर फायदा होने का दावा किया। साथ ही उन्होंने अपनी आमदनी बढ़ने और नशे की लत से दूर होने का भी श्रेय भी चर्च में होने वाली प्रार्थना को दिया है। ईसाई बने कुछ लोगों के नाम के तौर पर हरिभूमि ने लाम्भा सोनवानी, बासमुंद जोगी, मुरली जोगी तथा देवकी छेदैया को बताया है।

पहले ये सभी दुर्ग, रायपुर, भिलाई और कवर्धा जैसे शहरों में बने चर्च में प्रार्थना के लिए जाया करते थे। बाद में भागदौड़ से बचने के लिए इन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने एक घर को ही चर्च बना डाला। यह पूरी तहसील क्षेत्र का एकमात्र चर्च बताया जाता है। इस मकान में क्रॉस के निशान के साथ ईसाई मत की कुछ किताबें भी देखे जाने का दावा किया गया है।

हालाँकि धर्मान्तरित हुए पाँच जनजातीय परिवारों के 25 लोगों का कहना है कि उनके जाति प्रमाण पत्र अभी तक नहीं बने हैं। साथ ही वो किसी भी शासकीय योजना के लाभार्थी नहीं होने का भी दावा करते हैं। खुद को मिले लोन को भी धर्मान्तरित लोग प्रभु यीशु की कृपा बता रहे हैं। इस पैसे से उन्होंने गाड़ी की किश्त भरी है। उनका कहना है कि धर्मांतरण के बाद से उनके साथ अच्छा हो रहा है।

मामले का खुलासा होते ही हिन्दू संगठनों ने 25 सदस्यों का धर्मान्तरण करवाने वाले समूह पर कार्रवाई की माँग उठाई है। विश्व हिन्दू परिषद ने PM आवास योजना के तहत बने उन घरों को सील करने की भी माँग की है, जहाँ क्रॉस के निशान बने हुए हैं। बेमेतरा के डीएम रणवीर शर्मा ने मामले की जाँच करवा के कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -