Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजजींस क्यों नहीं पहनी, मेरे सामने डांस क्यों नहीं की? - अनस ने बीवी...

जींस क्यों नहीं पहनी, मेरे सामने डांस क्यों नहीं की? – अनस ने बीवी मजहबी को दिया तीन तलाक

अनस का निकाह अमीरूद्दीन की बेटी मजहबी से हुआ। वो जींस पहनने, गाना गाने और डांस करने के लिए दबाव बनाता था। मजहबी ने इनकार कर दिया। अनस ने गुस्से में आकर...

उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक व्यक्ति ने अपनी बीवी को सिर्फ इसीलिए तीन तलाक दे दिया, क्योंकि उसने जींस पहनने और डांस करने से इनकार कर दिया था। मंगलवार (दिसंबर 22, 2020) की रात आरोपित अपने ससुराल भी पहुँच गया और उसने खुद के ऊपर तेल डाल कर आग लगा ली। हालाँकि, परिजनों ने उसे बचाया और फिर पुलिस को उसके अजीबोगरीब हरकतों के बारे में सूचना दी। उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया है।

आरोपित अनस हापुड़ के पिलखुवा का निवासी है, जिसका निकाह 8 वर्ष पहले न्यू इस्लामनगर के रहने वाले अमीरूद्दीन की बेटी मजहबी से हुई थी। अनस दिल्ली में रह कर नौकरी करता है। पिछले कुछ महीनों से उसने मजहबी को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया था। दोनों के बीच हुए विवाद को सुलझाने के लिए गाँव में पंचायत भी बुलाई गई थी। महिला ने बताया कि उसका शौहर उस पर जींस पहनने, गाना गाने और डांस करने के लिए दबाव बनाता है

महिला ने पंचायत के समक्ष अपनी बात भी रखी, लेकिन समझौता नहीं हो सका। 2 दिन पहले आरोपित अनस ने अपनी बीवी मजहबी को तीन तलाक दे दिया। अमीरुद्दीन ने बताया कि कुछ दिन पहले अनस अचानक से उनके घर पहुँचा और खुद के ऊपर ही तेल उड़ेल कर आग लगा दी। परिवार के लोगों ने कपड़ा और पानी डाल कर आग बुझाई। हालाँकि, वो मामूली रूप से ही जला था और उसे खास नुकसान नहीं पहुँचा।

पहले तो ग्रामीणों ने अनस की धुनाई की, उसके बाद उसे पुलिस को सौंप दिया। वो खुद को आग लगा कर घर की ओर दौड़ रहा था, तभी ग्रामीणों ने उसे धर लिया। अमीरुद्दीन ने कई आरोप लगा कर पुलिस के समक्ष तहरीर दर्ज कराई है। इंस्पेक्टर प्रशांत कपिल ने बताया कि मामले की जाँच की जा रही है। पीड़ित पक्ष की तरफ से जो शिकायत दी है है, पुलिस उसके आधार पर आगे की कार्रवाई कर रही है।

एक आँकड़े के अनुसार, तीन तलाक के मामले में वर्ष 2019 में जहाँ उत्तर प्रदेश में 710 केस दर्ज किए गए, वहीं 2020 में 724 मामले प्रकाश में आए है। इनमें से अभी तक 2019 के 532 और 2020 में 587 मामले विवेचनाधीन हैं। इनमें से बरेली और मेरठ में ही सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं। लखनऊ और नोएडा कमिश्नरेट में तीन तलाक के काफी कम मामले दर्ज किए गए। मेरठ में 2019 में 162 तो 2020 में अब तक 214 मामले सामने आए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,571FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe