Wednesday, September 29, 2021
Homeदेश-समाजकमलेश तिवारी हत्याकांड: फरार हत्यारे मोइनुद्दीन और अशफ़ाक़ गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से गिरफ़्तार, देखें Video

कमलेश तिवारी हत्याकांड: फरार हत्यारे मोइनुद्दीन और अशफ़ाक़ गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से गिरफ़्तार, देखें Video

गुजरात एटीएस के फिजिकल और टेक्निकल सर्विलांस के ज़रिए इन दोनों के रिश्तेदारों और करीबियों पर कड़ी निगरानी रखने से ही गिरफ़्तारी सम्भव हो पाई। एटीएस के अनुसार दोनों ही आरोपित पाकिस्तान भागने की फ़िराक में थे।

अभी-अभी आ रही जानकारी के अनुसार कमलेश तिवारी हत्याकांड के दोनों आरोपित मोईनुद्दीन और अशफाक पुलिस के हत्थे चढ़ गए हैं। दोनों को गुजरात पुलिस के एटीएस ने गुजरात-राजस्थान बॉर्डर पर गिरफ्तार कर लिया और लखनऊ पुलिस ने दोनों को सीजेएम की अदालत में पेश किया। उन दोनों और बाकी आरोपितों फैजान, राशिद पठान और मौलाना मोहसिन शेख सलीम की न्यायिक रिमांड अदालत ने पुलिस को अगले 5 दिन के लिए सौंप दी है।

देखें गिरफ़्तारी का वीडियो:

एक प्रेस नोट में मीडिया को यह जानकारी देते हुए बताया गया कि मोईनुद्दीन और अशफाक दोनों ही सूरत के रहने वाले थे और अपने साथ लाया हुआ पैसा खत्म हो जाने के बाद परिवार और दोस्तों से आर्थिक सहायता लेने की कोशिश कर रहे थे। गुजरात एटीएस के फिजिकल और टेक्निकल सर्विलांस के ज़रिए इन दोनों के रिश्तेदारों और करीबियों पर कड़ी निगरानी रखने से ही गिरफ़्तारी सम्भव हो पाई। एटीएस के अनुसार दोनों ही आरोपित पाकिस्तान भागने की फ़िराक में थे। दोनों से हुई प्राथमिक पूछताछ में एक बार फिर कमलेश तिवारी के विवादित बयान के ही हत्या के पीछे होने के शक की एक बार और पुष्टि हो गई है। दोनों को शामलाजी के पास से हिरासत में लिया गया है।

गिरफ़्तारी के बाद जारी प्रेस नोट

बता दें कि आरोपितों की गिरफ्तारी से पहले एसआईटी ने सोमवार को दोनों की तलाश में कई होटलों, लॉज और मदरसों में छापेमारी की थी, लेकिन उन्हें नहीं पकड़ सकी। हालाँकि, सभी आने-जाने वाले मार्गो पर अलर्ट जारी कर दिया गया था। दोनों हत्यारों पर अलग-अलग 2.5 लाख रुपए का इनाम घोषित करने के अलावा पुलिस ने दोनों के फोटोग्राफ्स भी जारी कर दिए थे। बता दें कि कमलेश तिवारी की हत्या 18 अक्टूबर को लखनऊ में की गई थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,032FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe