Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजअब नाइट सूट और शॉर्ट्स में वैष्णो देवी जाने की अनुमति नहीं: मंदिर प्रशासन...

अब नाइट सूट और शॉर्ट्स में वैष्णो देवी जाने की अनुमति नहीं: मंदिर प्रशासन ने पवित्रता और मर्यादा के लिए जारी किया नया ड्रेस कोड, कहा- महिलाएँ साड़ी पहनें तो बेहतर

15 अक्टूबर 2023 से शारदीय नवरात्रि शुरू हो रही है। इस साल नवरात्रि 15 अक्टूबर से शुरू होकर 24 अक्टूबर 2023 तक चलेगी। नवरात्रि के नौ दिन देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इस साल नवरात्रि के पहले दिन देवी शैलपुत्री की पूजा की जाएगी और नवें दिन देवी सिद्धिदात्री की पूजा की जाएगी।

जम्मू-कश्मीर के कटरा स्थित माता वैष्णो देवी के मंदिर में दर्शन करना है तो अब कुछ नियमों का पालन करना ही होगा। अब मंदिर में पूजा-पाठ और दर्शन के लिए पहुँचने वाले श्रद्धालुओं के लिए कुछ ड्रेस कोड लागू किए गए हैं। इसके तहत श्रद्धालुओं को शालीन वस्त्र पहनने की सलाह दी गई है। इस संबंध में मंदिर प्रशासन ने सलाह जारी की है।

मंदिर प्रशासन ने कहा है कि मंदिर में आने वाले सभी श्रद्धालुओं को शालीन कपड़े पहनकर आना होगा। महिलाओं को साड़ी पहनने की सलाह दी गई है। इसमें छोटे कपड़े, जैसे कि निक्कर, बरमूडा, टी-शर्ट, नाइट सूट आदि पहनकर आने की अनुमति नहीं होगी। उन्हें आरती में भी शामिल नहीं होने दिया जाएगा।

श्री वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की तरफ से कहा गया है कि नवरात्रि से माँ वैष्णो देवी मंदिर में कड़ाई से ड्रेस कोड लागू किया जाएगा। ये नियम तो पुराना है, लेकिन मंदिर प्रशासन अब कड़ाई कर रहा है। इस बारे में सभी को सूचित भी किया जा रहा है कि माता वैष्णो देवी के मंदिर में आने वाले सभी श्रद्धालुओं को शालीन कपड़े पहनकर आना होगा।

मंदिर में छोटे कपड़े जैसे कि निक्कर, बरमूडा, टी-शर्ट, नाइट सूट आदि पहनकर आने की अनुमति नहीं होगी। वहीं महिलाएँ साड़ी पहनेंगी तो वो बेहतर रहेगा। मंदिर प्रशासन का कहना है कि यह कदम मंदिर की पवित्रता और मर्यादा को बनाए रखने के लिए उठाया गया है।

15 अक्टूबर से नवरात्रि की शुरुआत

15 अक्टूबर 2023 से शारदीय नवरात्रि शुरू हो रही है। इस साल नवरात्रि 15 अक्टूबर से शुरू होकर 24 अक्टूबर 2023 तक चलेगी। नवरात्रि के नौ दिन देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इस साल नवरात्रि के पहले दिन देवी शैलपुत्री की पूजा की जाएगी और नवें दिन देवी सिद्धिदात्री की पूजा की जाएगी।

नवरात्रि के दौरान लोग व्रत रखते हैं, पूजा-अर्चना करते हैं और देवी दुर्गा से आशीर्वाद माँगते हैं। इस त्योहार के दौरान कई तरह के मेले और धार्मिक आयोजन किए जाते हैं। नवरात्रि का त्योहार हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है, जो देवी दुर्गा की शक्ति और दया का प्रतीक है। यह त्योहार लोगों को सकारात्मक ऊर्जा और आशा प्रदान करता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल की वायनाड सीट छोड़ेंगे राहुल गाँधी, पहली बार लोकसभा लड़ेंगी प्रियंका: रायबरेली रख कर यूपी की राजनीति पर कॉन्ग्रेस का सारा जोर

राहुल गाँधी ने फैसला लिया है कि वो वायनाड सीट छोड़ देंगे और रायबरेली अपने पास रखेंगे। वहीं वायनाड की रिक्त सीट पर प्रियंका गाँधी लड़ेंगी।

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -