Tuesday, November 30, 2021
Homeदेश-समाजपुरी रथयात्रा: लाखों की भीड़ के बीच से भी वॉलिंटियर्स ने ऐम्बूलेंस के लिए...

पुरी रथयात्रा: लाखों की भीड़ के बीच से भी वॉलिंटियर्स ने ऐम्बूलेंस के लिए रास्ता बना पेश की मिसाल, देखें VIDEO

हर साल आषाढ़ माह में भगवान जगन्नाथ, उनकी बहन सुभद्रा और भाई बलभद्र की रथयात्रा का आयोजन किया जाता है। यह रथयात्रा उनकी मौसी के घर गुंडीचा मंदिर तक पहुँचती है जहाँ अगले 9 दिनों तक उनके दर्शन करने देश-विदेश से भक्तजन आते हैं।

ओडिशा के पुरी में रथयात्रा के दौरान श्रद्धालुओं की काफ़ी भीड़ उमड़ती है। भक्तों की इस भीड़ में पाँव रखने की जगह बड़ी मुश्किल से बन पाती है। ऐसी तंग स्थिति में भी भक्तों ने एक ऐसी मिसाल पेश की जिसकी जितनी तारीफ़ की जाए वो कम ही होगी।

दरअसल, सोशल मीडिया पर इस रथयात्रा का एक वीडियो शेयर किया गया है। इसमें 1200 वॉलिंटियर्स द्वारा ऐम्बूलेंस के लिए ऐसा नायाब रास्ता बनाया गया जिससे रथयात्रा के दौरान वहाँ से गुज़रने वाले मरीज़ों को किसी भी तरह की तकलीफ़ का सामना ना करना पड़े।

इस वीडियो को पुरी के एसपी ने ख़ुद ट्विटर पर शेयर किया। उन्होंने लिखा, “1200 वॉलिंटियर्स, 10 संगठनों और घंटों की मेहनत के बाद रथयात्रा 2019 के दौरान ऐम्बुलेंस की सरल गतिविधि के लिए ह्युमन कॉरिडोर बनाना संभव हो पाया।”

ग़ौरतलब है कि हर साल आषाढ़ माह में भगवान जगन्नाथ, उनकी बहन सुभद्रा और भाई बलभद्र की रथयात्रा का आयोजन किया जाता है। यह रथयात्रा उनकी मौसी के घर गुंडीचा मंदिर तक पहुँचती है जहाँ अगले 9 दिनों तक उनके दर्शन करने देश-विदेश से भक्तजन आते हैं।

सोशल मीडिया पर यह वीडियो काफ़ी तेज़ी से वायरल हो रहा है। ट्विटर यूज़र्स ने वॉलिंटियर्स के इस अनोखे अंदाज़ की जमकर तारीफ़ की।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe