Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाज'मेरे फाड़े कपड़े, दुर्गा माता की मूर्ति तोड़ी, सब लूट ले गए' : बंगाल...

‘मेरे फाड़े कपड़े, दुर्गा माता की मूर्ति तोड़ी, सब लूट ले गए’ : बंगाल में भाजपा बूथ अध्यक्ष की पत्नी पर 300-400 की मुस्लिम भीड़ ने किया हमला, BJP ने शेयर की वीडियो

बीजेपी बूथ अध्यक्ष की पत्नी ने रोते हुए बताया कि कैसे भीड़ ने घर में आकर उनका सामान लूटा, उनके कपड़े फाड़े, उनके बच्चों पर हमला किया और ये सब सिर्फ इसलिए हुआ क्योकि वो लोग भाजपा समर्थक हैं। उनके यहाँ मीटिंग होती है, उनके पति ने चुनाव लड़ा था।

पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर जिले के करणदिघी उपमंडल के अल्तापुर गाँव में शुक्रवार (8 मार्च 2024) को बीजेपी बूथ अध्यक्ष की पत्नी पर हमला किया गया। इस हमले की जानकारी ‘बीजेपी वेस्ट बंगाल’ के एक्स (पूर्व में ट्विटर) हैंडल द्वारा साझा किए गए एक वीडियो में दी गई।

वीडियो में पीड़िता अपना दर्द सुना रही है। वह कहती है, “300-400 मुसलमानों की भीड़ मेरे घर पर आई। मैं खिड़की से उनसे बात कर रही थी और विनती कर रही थी कि वो हमें अकेला छोड़ दें। लेकिन उन्होंने हमारी नहीं सुनी। उन्होंने हमारा दरवाजा तोड़ा। फिर वो हमारे सूटकेस, अलमारी, टीवी, बिस्तर और यहाँ तक कि चावल रखने के बर्तनों को भी ले गए।”

पीड़िता ने आगे बताया, “हमलावरों ने हमारे घर में रखी देवी दुर्गा और देवी मनसा की मूर्तियों को भी तोड़ दिया। इसके अलावा बेटे पर हमला करके उसके पैर को तोड़ा, वहीं बेटी का हाथ फ्रैक्चर हो गया।”

पीड़िता के अनुसार, उनपर भी ईंट फेंककर हमला हुआ जिसके बाद उनकी कान से खून निकलने लगा। इतना ही नहीं, उन्हें कहते सुना जा सकता है, “उन लोगों ने मेरे कपड़े फाड़े, मेरे शरीर से सब हटा दिया। उस भीड़ में एक भी हिंदू नहीं था। सबके सब मुसलमान थे।”

महिला रोते हुए कहती है कि वो लोग भाजपा समर्थक हैं इसलिए उनके साथ ये सब होता है। वह बताती हैं, “मेरे पति बीजेपी के बूथ अध्यक्ष हैं। पार्टी की बैठकें मेरे घर पर आयोजित की जाती हैं। ऐसी ही एक बैठक कल हुई। जब से मेरे पति ने चुनाव लड़ा, तब से हमें धमकी दी जा रही थी।”

उन्होंने कहा, “मेरे पास कुछ नहीं बचा है। उन्होंने सब कुछ नष्ट कर दिया। यह सब इसलिए हुआ क्योंकि हम बीजेपी का समर्थन करते हैं…मेरे पति मुसलमानों के डर से छिपे थे लेकिन उन्हें आसपास न पाकर मुझे निशाना बनाया गया।”

गौरतलब है कि बंगाल में भाजपा की बूथ अध्यक्ष की पत्नी के साथ हुई इस घटना की जानकारी होने के बाद बीजेपी सांसद लॉकेट चटर्जी ने ट्वीट किया। उन्होंने कहा, “पश्चिम बंगाल में संदेशखाली से करणदिघी तक हिंदुओं का उत्पीड़न बिन रोक-टोक जारी है। मुख्यमंत्री लगातार दोष हिंदुओं पर मढ़ती हैं। पश्चिम बंगाल के निवासियों को न्याय का इंतजार है। #NoVoteToMamata”

वहीं शनिवार (9 मार्च 2024) को बीजेपी विधायक डॉ अशोक कुमार लाहिड़ी ने अस्पताल में पीड़िता से मुलाकात की। उन्होंने एक ट्वीट में जानकारी दी, “कल रात (8 मार्च) करीब 1 बजे, करणदिघी विधानसभा क्षेत्र के अल्तापुर में टीएमसी प्रायोजित गुंडों ने बीजेपी बूथ अध्यक्ष राजकुमार दास की पत्नी और परिवार के सदस्यों पर हमला किया। आज, मैं उनसे (राजकुमार दास की पत्नी) रायगंज जिला अस्पताल में मिला। मैं दोषियों के लिए सख्त सजा की माँग करता हूँ।”

बता दें कि संदेशखाली में महिलाओं के साथ हुए अत्याचार की घटना सामने आने के बाद स्थानीय वैसे ही हैरान हैं कि आखिर बंगाल में हो क्या रहा है। इस बीच ममता बनर्जी की एक वीडियो सामने आई है जोकि 2019 की है। इस वीडियो को भी बीजेपी ने ही शेयर किया था और बताया था कि कैसे वो तुष्टिकरण की राजनीति करती हैं।

इस वीडियो में ममता बनर्जी इफ्तार में जाने की बात पर कहती नजर आ रही हैंजे गोरु दूध देई, तार लाठी खेता होई (हमें उस गाय की लात बर्दाश्त करनी होगी जो हमें दूध देती है।)

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -