Thursday, January 28, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया वागले, फ़र्ज़ी ज्ञान और प्रपंच पर मिल रही गालियों का सम्मान कर और ट्विटर...

वागले, फ़र्ज़ी ज्ञान और प्रपंच पर मिल रही गालियों का सम्मान कर और ट्विटर से भाग ले

‘धंधेबाज’ पत्रकारिता के ‘गोल्डन डेज़’ में उनके इस आकलन का सच में बड़ा महत्व होता- और पढ़कर शायद एक आम आदमी सही में सोचने लगता कि नहीं भाई, प्रधानमंत्री बहुत गलत कर रहा है, जब देश के 55% लोग उसे नहीं चाहते तो वो क्यों जबरदस्ती लोगों के सर पर सवार हो रहा है। पर वागले जी के दुर्भाग्य से वह (अ)सत्ययुग बीत चुका है।

निखिल वागले की ट्विटर आईडी पर उनकी न जाने कबकी (आत्म?)मुग्ध सी फोटो लगी है, जबकि उनकी आज की सच्चाई से वह कतई मेल नहीं खाती- और सच्चाई के धरातल से यही विसंगति उनके प्रोपोगेंडाकार के तौर पर व्यवहार और कथन में भी झलकती है। वह पत्रकारिता के समुदाय विशेष का हिस्सा हैं जिसने अंदर से तो दीवार पर लिखी इबारत पढ़ ली थी कि अब मोदी का समय आ गया है (और हिन्दुओं को बिलावजह गरियाने और हर कदम पर ‘गिल्टी’ महसूस कराने का समय जा चुका है) लेकिन गरिया इतना ज्यादा चुके थे कि अब सुर बदल लेना (जो बहुत सारों ने किया भी; कुछ ने 2013-14 में कर लिया, बरखा दत्त जैसे कुछ और अब कर रहे हैं) सम्भव नहीं। तो, उन्होंने अपने आपको मोदी को दूसरा कार्यकाल न मिलने के प्रबंध में झोंक दिया- और उनकी ट्विटर वॉल इस मेहनत की गवाह है।

लेकिन मेहनत रंग नहीं लाई और मोदी वापिस आ गया छाती पर मूँग दलने 5 और साल। तो अब उनकी मानसिक हालत भी उनकी ट्विटर प्रोफाइल पिक्चर जैसी ही है। दुश्चिंताओं (फर्जी लिबरलों के लिए) से भरे वर्तमान की बजाय शायद वह ‘सुनहरे’ भूतकाल में रहना पसंद कर रहे हैं- जहाँ वह भी लिबरलों के आदर्श नेता राजीव गाँधी जैसे ‘डैशिंग युवा’ थे, बागों में बहार थी, और यह लोग जो कुछ कह देते थे, जनता सर-आँखों पर बिना सोचे-समझे रख लेती थी। और उसी मानसिक हालत में यह ट्वीट आया है कि मोदी को ‘केवल’ 38% वोट मिला है, राजग को ‘केवल’ 45%- यानि 55% लोगों ने मोदी को नकार दिया है (और मोदी को चाहिए कि ‘जनादेश का सम्मान करते हुए’ प्रधानमंत्री की कुर्सी पर न बैठें!)

‘धंधेबाज’ पत्रकारिता के ‘गोल्डन डेज़’ में उनके इस आकलन का सच में बड़ा महत्व होता- और पढ़कर शायद एक आम आदमी सही में सोचने लगता कि नहीं भाई, प्रधानमंत्री बहुत गलत कर रहा है, जब देश के 55% लोग उसे नहीं चाहते तो वो क्यों जबरदस्ती लोगों के सर पर सवार हो रहा है। पर वागले जी के दुर्भाग्य से वह (अ)सत्ययुग बीत चुका है- आज का आम आदमी उनकी अगर एक सुनता है, तो दिमाग में उसकी चार काट सोचता है, और ऑटो में बैठकर मेट्रो स्टेशन से ऑफिस जाते-जाते उन्हें आठ सुना भी देता है, और बेचारे वागले जी दोबारा अपनी ट्विटर प्रोफाइल पिक्चर वाले दिनों में लौट जाते हैं।

ट्वीट और सच्चाई- कोसों दूर

निखिल वागले का ट्वीट सही तथ्य की फेक न्यूज़ वाली पत्रकारिता के समुदाय विशेष की प्रवृत्ति का एक और उदाहरण है। यह सच है कि मोदी को 38% (ज्यादा-से-ज्यादा एनडीए का 45%) मत प्रतिशत मिला है, लेकिन उतना ही सच यह भी है कि इससे उनके शासन के अधिकार को कानूनी तो दूर, नैतिक चुनौती भी नहीं मिल सकती। क्यों? क्योंकि अगर इसी तर्क की कसौटी पर राहुल गाँधी (विपक्ष के अन्य किसी भी नेता) को कैसा जाए तो वह न केवल खरा नहीं उतरेगा, बल्कि उस बेचारे की तो कमर ही ध्वस्त हो जाएगी। राहुल गाँधी को मिले हैं 19.5% वोट, औरों के और भी कम हैं- तो प्रधानमंत्री किसे बनाया जाए, निखिल वागले के तर्क के अनुसार?

एक और बात, निखिल वागले यह भी नहीं बताते कि उनका तर्क निर्वाचन प्रक्रिया पर लागू ही नहीं होता। यह तर्क जनमत संग्रह के लिए होता है, जहाँ केवल दो विकल्प होते हैं- हाँ या न। जैसे ब्रिटेन में तीन साल पहले ‘ब्रेग्ज़िट’ जनमत संग्रह हुआ था- उसमें दो ही विकल्प थे, “हाँ” यानि ब्रिटेन को यूरोपियन संघ छोड़ देना चाहिए या फिर “ना” यानि ब्रिटेन को यूरोपीय संघ में बने रहना चाहिए। इसके उलट हमारे देश की सामान्य लोकतान्त्रिक निर्वाचन प्रक्रिया में विकल्पों का अभाव नहीं होता- लोग जिसे मर्जी आए वोट दे देते हैं, और जिस पार्टी को लोकसभा क्षेत्रवार सर्वाधिक मतदान मिलता है, उसके प्रतिनिधि संसद पहुँचते हैं और अपने में से किसी एक को प्रधानमंत्री चुन लेते हैं। यहाँ सकारात्मक वोटिंग गिनी जाती है, नकारात्मक नहीं, और वह भी लोकसभा क्षेत्रवार तरीके से, देश का कुल जोड़ एक साथ लेकर नहीं।

अगर किसी नए ‘रंगरूट’ ने यही तर्क दिया होता तो एक बारगी यह सोचकर नज़रअंदाज़ किया जा सकता था कि वह नया है, जानकारी नहीं है। लेकिन इसी ‘धंधे’ में पक कर पक्के हुए निखिल वागले के द्वारा यह अनभिज्ञता नहीं, कुटिलता है, क्योंकि अगर इतने साल बाद भी वह ‘अनभिज्ञ’ हैं निर्वाचन और जनमत-संग्रह के अंतर से, तो वह इतने साल से कर क्या रहे थे?

सोशल मीडिया पर भी फजीहत

इस वाहियात किस्म के प्रपोगंडे को लेकर सोशल मीडिया पर भी निखिल वागले की खूब फजीहत हो रही है। थिंक टैंक आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष अध्यक्ष समीर शरण और स्तंभकार प्रदीप सिंह ने उन्हें देश का राजनीतिक इतिहास और निर्वाचन प्रणाली सीखने की सलाह दी।

MyNation के स्तंभकार और बंगलुरु स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी) के प्राध्यापक अभिषेक बनर्जी ने उनके नवनिर्वाचित भाजपा सांसद से बात करते-करते आपा खो देने पर भी उन्हें आड़े हाथों लिया। इस बहस में जब उन्होंने भाजपाईयों को गुंडा और नफरत फ़ैलाने वाला बताने की कोशिश की थी तो भाजपा सांसद ने उन्हें आईना दिखाते हुए पहले अपना ज्ञान पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी को देने की सलाह दी थी। साथ ही तेजस्वी सूर्या ने उन्हें यह भी याद दिलाया था कि ट्विटर पर कैसे निखिल वागले अक्सर भाजपाईयों के खिलाफ होने वाली हिंसा के पक्ष में बहाने बनाते दिख जाते हैं। इस पर भी निखिल वागले जवाब देने की जगह खुद से पलट कर सवाल पूछे जाने को लेकर ही किंकर्तव्यविमूढ़ दिखे।

प्रोपोगेंडा बंद कर ढंग की पत्रकारिता की दुकान खोलें वागले, मार्केट में बड़ा स्कोप है

वागले को अपने ही ट्वीट के नीचे आई प्रतिक्रिया का ‘सम्मान’ करते हुए ट्विटर से संन्यास ले लेना चाहिए क्योंकि वहाँ उनको इस ज्ञान के लिए गालियाँ ज़्यादा पड़ रही हैं। मेजोरिटी और संख्या से जब इतना प्रेम है तो अपने ही कुतर्कों के अनुसार उन्हें जल्द ही ट्विटर छोड़कर अपना प्रलाप करने के लिए नई जगह ढूँढनी चाहिए।

खुद से सोचने-समझने की क्षमता रखने वाली जनता को बरगलाया नहीं जा सकता, उसके साथ प्रपोगंडा नहीं चल सकता। वह वागले के दुराग्रहों को तथ्य मानकर आँख बंद कर नहीं स्वीकार लेगी। लेकिन इसी मार्केट में असल पत्रकारिता का बहुत ‘स्कोप’ है- लेकिन पुरानी प्रोफाइल पिक्चर वाले, पुरानी पत्रकारिता वाले ‘वो भी क्या दिन थे!’ से बाहर आना पड़ेगा। निखिल वागले एन्ड फ्रेंड्स ध्यान देंगे?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

योगेन्द्र यादव, राकेश टिकैत सहित 37 किसान नेताओं पर FIR: गिरफ्तारी पर कोई बात नहीं

राजधानी में हुई हिंसा के बाद एक्शन मोड में आई दिल्ली पुलिस ने 37 नेताओं पर एफआईआर दर्ज की है। इनमें राकेश टिकैत, डाॅ दर्शनपाल, जोगिंदर सिंह, बूटा, बलवीर सिंह राजेवाल और राजेंद्र सिंह के नाम शामिल हैं।

डर के मारे पड़ी फूट या समझदारी: दो ‘किसान’ संगठन हुए आंदोलन से अलग

भारतीय किसान यूनियन 'भानु' के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह और राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के वीएम सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना आंदोलन खत्म करने का एलान किया है।

प्रचलित ख़बरें

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

लाइव TV में दिख गया सच तो NDTV ने यूट्यूब वीडियो में की एडिटिंग, दंगाइयों के कुकर्म पर रवीश की लीपा-पोती

हर जगह 'किसानों' की थू-थू हो रही, लेकिन NDTV के रवीश कुमार अब भी हिंसक तत्वों के कुकर्मों पर लीपा-पोती करके उसे ढकने की कोशिशों में लगे हैं।
- विज्ञापन -

 

किसान नहीं बल्कि पुलिस हुई थी हिंसक: दिग्विजय सिंह ने दिल्ली पुलिस को ही ठहराया दंगों का दोषी

कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि दिल्ली में किसान उग्र नहीं हुए थे बल्कि दिल्ली पुलिस उग्र हुई थी।

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद ट्विटर ने किया 550 अकाउंट्स सस्पेंड, रखी जा रही है सबपर पैनी नजर

ट्विटर की ओर से कहा गया है कि इसने उन ट्वीट्स पर लेबल लगाए हैं जो मीडिया पॉलिसी का उल्लंघन करते हुए पाए गए। इन अकाउंट्स पर पैनी नजर रखी जा रही है।

वीडियो: खालिस्तान जिंदाबाद कहते हुए तिरंगा जलाया, किसानों के ‘आतंक’ से परेशान बीमार बुजुर्ग धरने पर बैठे

वीडियो में बुजुर्ग आदमी सड़क पर बैठे हैं और वहाँ से उठते हुए कहते हैं, "ये बोलते है आगे जाओगे तो मारूँगा। अरे क्या गुनाह किया है? हम यहाँ से निकले नहीं? हमारे रास्ते में आ गए।"

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

बिहार में टेंपो में सवार 2-3 लोगों ने दिनदहाड़े बीजेपी प्रवक्ता को मारी दो गोली: स्थिति नाजुक

कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य ललन प्रसाद सिंह से प्रभार को लेकर डॉ शम्शी का विवाद चल रहा था। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है।

महाराष्ट्र-कर्नाटक के बीच मराठी भाषी क्षेत्र घोषित हो केंद्र शासित प्रदेश: उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने कहा कि कर्नाटक के कब्जे वाले मराठी-भाषी क्षेत्रों को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया जाना चाहिए, जब तक कि सुप्रीम कोर्ट अपना अंतिम फैसला नहीं दे देता।

हिंदू लड़की ने माता-पिता पर लगाया जबरन ईसाई बनाने का आरोप: 9 लोग गिरफ्तार, 2 की तलाश जारी

इंदौर से एक बेहद ही सनसनीखेज मामला सामने आ रहा है, जहाँ एक लड़की ने अपने ही माता-पिता के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है कि वे उसका जबरन धर्मांतरण करवा रहे थे।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
387,000SubscribersSubscribe