जीत की सुनामी का जश्न: पीएम मोदी के आवास पर पहुँचेंगे 20000 BJP कार्यकर्ता

भाजपा नेताओं ने पार्टी की जीत सुनिश्चित होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास पर भव्य स्वागत के लिए 20,000 से अधिक कार्यकर्ताओं को स्वागत और जीत का जश्न मनाने के लिए...

लोकसभा चुनाव 2019 की मतगणना जारी है। मतों की गिनती के साथ ही अब स्थिति लगभग साफ हो चुकी है। बीजेपी प्रचण्ड बहुमत से सत्ता बनाए रखने में सफल रही है। लोकसभा चुनाव के बाद हुए एग्जिट पोल्स में लगभग सभी ने भारतीय जनता पार्टी को सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर दिखाया था। और अब विपक्ष की तमाम दलीलों के बाद भी पिक्चर स्पष्ट है।

परिणाम से उत्साहित भाजपा नेताओं ने पार्टी की जीत सुनिश्चित होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास पर भव्य स्वागत के लिए 20,000 से अधिक कार्यकर्ताओं को स्वागत और जीत का जश्न मनाने के लिए आमंत्रित किया है। इसके आलावा पार्टी मुख्यालय में भी भव्य जश्न की तैयारी की गई है।

इसके आलावा इस बार पश्चिम बंगाल में बीजेपी के ममता के गढ़ में सेंध लगाने पर भी ज़बरदस्त उत्साह का माहौल है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि पार्टी ने सभी विजेता प्रत्याशियों को 25 मई तक दिल्ली में उपस्थित होने के लिए भी कहा है। लगभग सभी मीडिया संस्थानों के एग्जिट पोल्स में भाजपा नीत राजग गठबंधन को 542 लोकसभा सीटों में से 300 से अधिक सीटों पर जीत हासिल होने का अनुमान लगाया गया था। कुछ एग्जिट पोल में 350 से भी अधिक सीटों का अनुमान लगाया गया था। और बीजेपी इस लक्ष्य के करीब पहुँचती जा रही है।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी मीटिंग में कहा था कि भाजपा दूसरी बार सरकार बनाएगी, वह भी पूर्ण बहुमत के साथ। भाजपा को यह जीत उसके बीते पाँच सालों के विकास कार्यों के बदौलत हासिल हुई है।

आज जब जीत का आँकड़ा धीरे-धीरे स्पष्ट होता जा रहा है। बीजेपी की धमाकेदार इंट्री हो रही है। लेकिन सबसे मजेदार दौर देखने को मिला जब EVM राग छेड़कर महागठबंधन से लेकर लगभग सभी विपक्षी पार्टियों ने हार के प्रति वो कितने आश्वस्त हैं, इसका परिचय दिया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: