Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीति'अब्दुल का बेटा अब नहीं बनाएगा पंचर... वो साइकिल फैक्ट्री का ख्वाब देखेगा' :...

‘अब्दुल का बेटा अब नहीं बनाएगा पंचर… वो साइकिल फैक्ट्री का ख्वाब देखेगा’ : गुजरात में बोले ओवैसी – RSS वाले बनाते हैं मजाक

इसके बाद ओवैसी ने कहा, "अब हम उनको बताएँगे कि अब्दुल अब तक पंक्चर बनाता था, लेकिन अब्दुल का बेटा एपीजे अब्दुल कलाम की तरह साइंटिस्ट बनेगा। इंशाअल्लाह!"

हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि अब्दुल अगर अब तक पंक्चर बनाता था तो अब अब्दुल का बेटा एपीजे अब्दुल कलाम की तरह वैज्ञानिक बनेगा। उन्होंने गुजरात के मांगरोल में आयोजित AIMIM की जनसभा में ये बात कही। उन्होंने कहा कि भाजपा और संघ परिवार के लोग बार-बार मुस्लिमों का नाम लेकर तंज कसते रहते हैं कि अब्दुल पंक्चर बनाने वाला है। उन्होंने वहाँ मौजूद लोगों से भी पूछा कि ऐसा बोला जाता है न?

इसके बाद ओवैसी ने कहा, “अब हम उनको बताएँगे कि अब्दुल अब तक पंक्चर बनाता था, लेकिन अब्दुल का बेटा एपीजे अब्दुल कलाम की तरह साइंटिस्ट बनेगा। इंशाअल्लाह!” उन्होंने कहा कि अब्दुल का बेटा पंक्चर नहीं बनाएगा, बल्कि साइकिल की पूरी की पूरी फैक्ट्री ही खोलेगा। AIMIM के मुखिया ने कहा कि ये उनका ख्वाब है, कल तक जो पंक्चर बनाते थे उनके बेटे पंक्चर न बनाए ये उनकी कोशिश है। उन्होंने कहा कि चुनाव लड़ो और जीतो, ताकि कोई अब्दुल पंक्चर न बनाए।

उन्होंने कहा कि अब्दुल तो पंक्चर बना चुका, लेकिन अब कोई अब्दुल का बेटा सड़क पर नहीं बैठेगा। उन्होंने कहा कि अब्दुल तो फल बेचता था, लेकिन उसका बेटा ऐसा नहीं करेगा। उन्होंने मुस्लिम परिवारों से ख्वाब देखने की अपील करते हुए कहा कि वो सपने देखेंगे, तभी तो पूरे होंगे। ओवैसी ने आरोप लगाया कि ये ‘जालिम लोग’ हमेशा कहते हैं कि तुम्हें ख्वाब देखने की इजाजत नहीं है, लेकिन आप ख्वाब देखना शुरू करो और हम मिल कर उन ख्वाबों को पूरा करेंगे।

उन्होंने लोगों को अल्लाह पर भरोसा रखने की सलाह देते हुए कहा कि कब तक हम नाइंसाफी की ज़िन्दगी गुजारेंगे और जुल्म का शिकार बनेंगे, कब तक हम डर-डर कर ज़िन्दगी गुजारेंगे – इसीलिए, वो इस कोशिश में लोगों की दुआओं के लिए आए हैं, क्योंकि गुजरात में AIMIM मजबूत होगी तो इन मुद्दों को हम हल कर सकते हैं। बता दें की गुजरात के साथ-साथ राजस्थान के मुस्लिम वोट बैंक पर भी ओवैसी की नजर है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -