बदले की भावना से ग्रस्त केजरीवाल काम नहीं करने दे रहे हैं जी: अलका लांबा

"मैं अपनी जनता को आप* की द्वेष की राजनीति का शिकार नही होने दूँगी, अपनी जनता के हक़ और सुरक्षा के लिए सरकार के दरवाजे पर भी जाकर लड़ना पड़ेगा तो मैं लड़ूँगी। जनता को जवाब तो देना ही होगा कि क्यों आप के द्वारा CCTVs लगाने का काम रुकवाया गया है?"

दिल्ली के चाँदनी चौक से आप विधायक अलका लांबा ने बुधवार (जुलाई 24, 2019) को अपनी पार्टी के संयोजक और दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर हैरान करने वाले आरोप लगाए हैं। अलका लांबा ने दावा किया है कि केजरीवाल उनसे बदला लेने के लिए उन्हें उनके निर्वाचन क्षेत्र में सीसीटीवी लगाने से रोक रहे हैं।

आप विधायक द्वारा यह जानकारी ट्वीट के जरिए दी गई। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा, “दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अब बदले की भावना से काम कर रहे हैं, जिसका खमियाजा चाँदनी चौक विधानसभा क्षेत्र की जनता को उठाना पड़ रहा है, मेरे द्वारा इलाके में लगवाए जा रहे CCTVs के काम को रुकवाकर AAP* यह कैसी राजनीति करने का उदाहरण पेश करना चाहती है?”

इसके बाद अलका लांबा ने एक और ट्वीट किया और आम आदमी पार्टी को धमकी दी कि वे अपने लोगों की सुरक्षा के लिए सरकार से लड़ने से नहीं डरती हैं। वे लिखती हैं, “मैं अपनी जनता को आप* की द्वेष की राजनीति का शिकार नही होने दूँगी, अपनी जनता के हक़ और सुरक्षा के लिए सरकार के दरवाजे पर भी जाकर लड़ना पड़ेगा तो मैं लड़ूँगी, जनता को जवाब तो देना ही होगा कि क्यों आप के द्वारा CCTVs लगाने का काम रुकवाया गया है? आप में और दूसरों में कोई अंतर नही रहा।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब अलका लांबा ने अरविंद केजरीवाल के प्रति अपनी नाराजगी जगजाहिर की हो। कुछ समय पहले भी लांबा ने कहा था कि दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने उन्हें ट्विटर पर अनफॉलो कर दिया है और ‘आप’ के ऑफिशियल वॉह्ट्स एप ग्रुप से भी रिमूव कर दिया है। इतना ही नहीं, उनका आरोप था कि केजरीवाल लगातार उन्हें लगातार नजरअंदाज कर रहे हैं। उन्होंने चाँदनी चौक में एक परियोजना का शिलान्यास कार्यक्रम पर न बुलाए जाने पर भी नाराजगी जताई थी

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

दिल्ली दंगे
इस नैरेटिव से बचिए और पूछिए कि जिसकी गली में हिन्दू की लाश जला कर पहुँचा दी गई, उसने तीन महीने से किसका क्या बिगाड़ा था। 'दंगा साहित्य' के कवियों से पूछिए कि आज जो 'दोनों तरफ के थे', 'इधर के भी, उधर के भी' की ज्ञानवृष्टि हो रही है, वो तीन महीने के 89 दिनों तक कहाँ थी, जो आज 90वें दिन को निकली है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

155,450फैंसलाइक करें
43,324फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: