‘चतुर लोमड़ी’ केजरीवाल ने कहा: लोकसभा के अंगूर खट्टे थे, विधानसभा वाले खाऊँगा

केजरीवाल ने कार्यकर्ताओं का संबोधन 'हाउ इज जोश' कहकर शुरू किया। उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं को यकीन दिलाया कि जनता के मन में पार्टी लिए कोई नकारात्मक भाव नहीं है।

चुनाव में मिली करारी हार के बाद अरविंद केजरीवाल जनता से आँख भी नहीं मिला पा रहे हैं। उनका कहना है कि लोकसभा चुनाव के दौरान पूरे देश में एक अलग ही माहौल बना हुआ था जिससे दिल्ली की जनता भी अछूती नहीं थी। इसीलिए भाजपा जीत गई और AAP को कोई सीट नहीं मिली। उनके मुताबिक दिल्ली की जनता ने उनसे खुद यह बात कही कि ये बड़े चुनाव थे। छोटे चुनाव जब आएँगे तब दिल्ली की जनता उनके साथ होगी।

उनका कहना है कि दिल्ली की जनता उन्हें एक बार फिर मुख्यमंत्री बनाएगी। इन चुनावों में पूरी दिल्ली के अंदर यह सुनने को मिल रहा था कि यह बड़ा चुनाव है यह नरेंद्र मोदी और राहुल गाँधी का चुनाव है, केजरीवाल का चुनाव नहीं है।

पंजाबी बाग में आयोजित सम्मेलन के दौरान केजरीवाल ने अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं में जोश भरने का काम किया। केजरीवाल ने कार्यकर्ताओं का संबोधन ‘हाउ इज जोश’ कहकर शुरू किया। उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं को यकीन दिलाया कि भले ही चुनाव के परिणाम उनके आशा के अनुरूप नहीं हैं, लेकिन जनता के मन में पार्टी लिए कोई नकारात्मक भाव नहीं है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

केजरीवाल ने आने वाले विधानसभा चुनावों के बारे में भी बात की। उन्होंने संबोधन के दौरान कार्यकर्ताओं से कहा, “मायूस होने की आवश्यकता नहीं है, जनता दिल्ली सरकार की तारीफ़ कर रही है। अपना कॉलर ऊपर करो और जनता के बीच जाओ और कहो कि बड़े चुनाव में जो किया सो किया, अब छोटा चुनाव आ रहा है आप को वोट करे।”

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल की मानें तो पिछली बार उन्हें 54% वोट मिला था और अगले विधानसभा चुनाव में यह रेकॉर्ड टूटेगा। लेकिन इसके लिए उन्होंने पार्टी के लोगों से एक शर्त रखी कि वो सब अपनी मायूसी को खत्म करें और चेहरे पर स्माइल लेकर आएँ।

इस सम्मेलन के अवसर पर केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनने की बधाई दी और कहा कि उम्मीद है अगली केंद्र सरकार दिल्ली सरकार के साथ मिलकर काम करेगी। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इन चुनावों में उन्होंने ही सबसे बेहतरीन उम्मीदवार खड़े किए थे। केजरीवाल का मानना है कि सबसे अच्छा चुनाव उन्होंने लड़ा और दिल्ली की जनता उन्हें विधानसभा चुनावों में जरूर जिताएगी। उनका कहना है कि उनकी पार्टी में कोई बदलाव नहीं आया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राम मंदिर
"साल 1855 के दंगों में 75 मुस्लिम मारे गए थे और सभी को यहीं दफन किया गया था। ऐसे में क्या राम मंदिर की नींव मुस्लिमों की कब्र पर रखी जा सकती है? इसका फैसला ट्रस्ट के मैनेजमेंट को करना होगा।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: