Monday, May 20, 2024
HomeराजनीतिJ&K में BJP को मिला अब तक का सर्वाधिक वोट शेयर: राज्य भाजपा ने...

J&K में BJP को मिला अब तक का सर्वाधिक वोट शेयर: राज्य भाजपा ने कहा 370 हटाओ

भाजपा ने अपनी चुनावी घोषणापत्र में वादा किया था केंद्र में वापस सरकार आने पर वो जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को खत्म कर देगी। अब राज्य संगठन स्तर पर यह माँग उठने लगी है।

लोकसभा चुनाव में भाजपा की जबर्दस्त जीत के बाद जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को ख़त्म करने की माँग तेज़ी से जोर पकड़ने लगी है। राज्य के भाजपा संगठन का कहना है कि यहाँ की जनता ने राज्य से अनुच्छेद 370 को खत्म करने के लिए ही पीएम मोदी के पक्ष में वोट किया है तो अब समय आ गया है कि इस दिशा में कदम उठाते हुए अनुच्छेद 370 के तहत मिले विशेष दर्जे को समाप्त करने की प्रक्रिया पर अंतिम निर्णय लिया जाए। दरअसल, भाजपा ने अपनी चुनावी घोषणापत्र में वादा किया था केंद्र में वापस सरकार आने पर वो जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को खत्म कर देगी।

गौरतलब है कि, राज्य में भाजपा की जीत के बाद पूर्व सीएम और श्रीनगर के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने शुक्रवार (मई 24, 2019) को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा था कि 2019 के चुनाव में भले ही भाजपा को बड़ी जीत है, मगर वो राज्य से विशेष दर्जे को खत्म नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि वो चाहे कितने भी शक्तिशाली क्यों ना हो जाएँ, लेकिन राज्य से इसे नहीं हटाया जा सकता। अब्दुल्ला के इस बयान के बाद राज्य के भाजपा संगठन ने इसे हटाने की माँग तेज कर दी है।

बता दें कि जम्मू कश्मीर में भाजपा ने अपना सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है। भाजपा ने न केवल 46.39% मत प्राप्त किया बल्कि 27 विधानसभा सीटों पर भी उसका मत प्रतिशत सर्वाधिक रहा है। यह 2014 के निर्वाचन में पाए 32% मतों से 12% अधिक है।

राज्यमंत्री रहे डॉ. जितेंद्र सिंह ऊधमपुर में विजयी हुए हैं और उन्होंने राज्य के भूतपूर्व शाही परिवार के राजकुमार विक्रमादित्य सिंह को हराया है। साढ़े तीन लाख वोटों से अधिक की उनकी जीत राज्य में किसी भी प्रत्याशी की जीत से बड़ी है। पार्टी के जुगल किशोर ने जम्मू में 58.02% मतों के साथ जीत दर्ज की है, और लद्दाख से जामयांग त्सेरिंग नामग्याल लगभग 34% मतों के साथ विजयी हुए हैं।

फारूख अब्दुल्ला के बयान पर भाजपा की राज्य इकाई के प्रवक्ता ब्रिगेडियर (सेवानिवृत) अनिल गुप्ता ने पलटवार करते हुए कहा कि अब्दुल्ला और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेतृत्व के पास अनुच्छेद 35ए और 370 को लेकर बड़े-बड़े दावे करने के लिए जम्मू और लद्दाख का जनादेश नहीं है क्योंकि उन्हें जम्मू और लद्दाख की जनता का वोट नहीं मिला है। उनके पास सिर्फ घाटी की सीटें हैं। इसके साथ ही अनिल गुप्ता ने अब्दुल्ला को निशाने पर लेते हुए कहा कि ये घाटी में शांति की माँग तो करते हैं, मगर साथ ही इनकी पार्टी आफस्पा हटाने और जमात-ए-इस्लामी पर बैन हटाने की भी माँग रखती है। अब आतंक के अंत और उसके नेटवर्क को समाप्त किए बिना राज्य में शांति की स्थापना कैसे हो सकती है, ये तो अब्दुल्ला ही बता सकते हैं। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूँ ही कटोरा लेकर नहीं घूम रहा है पाकिस्तान, भारत ने 200% इम्पोर्ट ड्यूटी लगा तोड़ी अर्थव्यवस्था की कमर: पुलवामा हमलों के बाद मोदी...

2019 में भारत ने पाकिस्तान के उत्पादों पर 200% इम्पोर्ट ड्यूटी लगा दी थी। भारत ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा भी छीन लिया था।

ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का इंतकाल, सरकारी मीडिया ने की पुष्टि: हेलीकॉप्टर में सवार 8 अन्य लोगों की भी मौत, अजरबैजान की पहाड़ियों...

ईरान के राष्ट्रपति इब्राहीम रईसी की एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई। यह दुर्घटना रविवार को ईरान के पूर्वी अजरबैजान प्रांत में हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -