Tuesday, November 30, 2021
HomeराजनीतिCM कुमारस्वामी पर टिप्पणी करने के कारण 2 गिरफ़्तार, परिवारवाद की राजनीति से थे...

CM कुमारस्वामी पर टिप्पणी करने के कारण 2 गिरफ़्तार, परिवारवाद की राजनीति से थे नाराज़

दोनों आरोपित लोकसभा चुनाव में जेडीएस के ख़राब प्रदर्शन से नाराज़ थे। जेडीएस को इस लोकसभा चुनाव में पूरे राज्य में मात्र एक सीट आई। यहाँ तक कि पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौडा और मुख्यमंत्री के बेटे निखिल कुमारस्वामी को भी हार...

कर्नाटक में मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के बारे में वीडियो पोस्ट करने के कारण 2 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। इन दोनों लोगों पर मुख्यमंत्री व उसके रिश्तेदारों को गाली देने का आरोप है। दोनों आरोपितों के बारे में कहा जा रहा है कि उन्होंने सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो में मुख्यमंत्री कुमारस्वामी पर आपत्तिजनक टिप्पणी की है। इस वीडियो को लोकसभा चुनाव के मतगणना के दिन फेसबुक पर शेयर किया गया था। आरोप है कि इस वीडियो में मुख्यमंत्री के बेटे एचडी कुमारस्वामी को भी गाली दी गई है। इसके अलावा जेडीएस के प्रथम परिवार के अन्य सदस्यों के बारे में बुरा-भला कहने का भी आरोप लगाया गया है।

दोनों आरोपितों में 26 वर्षीय सिद्दाराजू और 28 वार्षित चमाराजू शामिल हैं। इनमें से एक पेट्रोल पंप पर काम करता है जबकि दूसरा कैब ड्राईवर है। पुलिस ने दोनों आरोपितों के ख़िलाफ़ धारा 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान करना) और धारा 505 (2) (वर्गों के बीच शत्रुता या शत्रुता की इच्छा को बढ़ावा देना) के तहत मामला दर्ज किया गया है। स्थानीय अदालत ने दोनों आरोपितों को पुलिस कस्टडी में रिमांड पर भेज दिया है।

बताया जा रहा है कि दोनों आरोपित हालिया लोकसभा चुनाव में जेडीएस के ख़राब प्रदर्शन से नाराज़ थे। बता दें कि जेडीएस को इस लोकसभा चुनाव में पूरे राज्य में मात्र एक सीट आई। यहाँ तक कि मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के पिता और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौडा और मुख्यमंत्री के बेटे निखिल कुमारस्वामी को भी हार का मुँह देखना पड़ा। जेडीएस के साथ मिल कर कर्नाटक की सत्ता पर काबिज़ कॉन्ग्रेस को भी पूरे राज्य में मात्र एक सीट मिली। वहीं भाजपा ने 28 में से 25 सीटें जीत कर अपना परचम लहराया।

एक पुलिस अधिकारी के अनुसार, दोनों आरोपितों ने बताया कि वे मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के परिवारवाद की राजनीति से नाराज़ थे। उनका मानना था कि जेडीएस के ख़राब प्रदर्शन के पीछे यही वजह थी। पुलिस ने इस मामले में जेडीएस कार्यकर्ताओं द्वारा प्राथमिकी दर्ज कराए जाने के बाद कार्रवाई शुरू की। इससे पहले अगस्त 2018 में 24 वर्षीय प्रशांत पुजारी को कुमारस्वामी के ख़िलाफ़ इन्स्टाग्राम पर आपत्तिजनक पोस्ट करने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था।

मई 2019 के अंतिम सप्ताह में कर्नाटक में एक कन्नड़ समाचारपत्र के संपादक के ख़िलाफ़ सिर्फ़ इसीलिए मामला दर्ज किया गया था, क्योंकि अख़बार में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के बेटे निखिल के बारे में लेख छपा था। इस लेख में कहा गया था कि हार के बाद निखिल ने अपने दादा देवेगौड़ा को खरी-खरी सुनाई।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,547FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe