Wednesday, May 12, 2021
Home राजनीति J&K: आज डीडीसी चुनाव में कमाल, कल घाटी में हो सकते हैं BJP का...

J&K: आज डीडीसी चुनाव में कमाल, कल घाटी में हो सकते हैं BJP का भविष्य

दक्षिण कश्मीर के काकपोरा 2 से जीत हासिल करने वाली 22 वर्षीय मिन्हा लतीफ़ क़ानून की अंतिम वर्ष की छात्रा है। घाटी में भाजपा की इस युवा उम्मीदवार की जीत सभी के लिए चौंकाने वाली थी।

अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा वापस ले लिया गया था। प्रदेश को दो केंद्र शासित राज्यों में बाँटा गया था। इसके बाद वहाँ पर पहली बार जिला विकास परिषद (डीडीसी) के चुनाव हुए जिसमें भाजपा ने 74 सीटों पर जीत दर्ज की। इस जीत के साथ भाजपा वहाँ एक बड़ी पार्टी बन कर उभरी है। इस जीत में कुछ नाम ऐसे हैं जो आने वाले वक़्त में राज्य में भाजपा की ‘पंचायत से संसद’ की यात्रा में अहम भूमिका निभा सकते हैं।

मिन्हा लतीफ़ 

दक्षिण कश्मीर के काकपोरा 2 से जीत हासिल करने वाली 22 वर्षीय मिन्हा लतीफ़ क़ानून की अंतिम वर्ष की छात्रा है। घाटी में भाजपा की इस युवा उम्मीदवार की जीत सभी के लिए चौंकाने वाली थी। मिनहा ने इस जीत के बाद कहा था, “मैं पढ़ाई पूरी करने के साथ-साथ अपने क्षेत्र के लिए कुछ करना चाहती थी। मैं चाहती थी कि मेरे पास ऐसी पृष्ठभूमि हो जिससे मेरा भविष्य जन सेवा में सुनिश्चित हो सके।” 

मिन्हा के पिता लतीफ़ भट्ट केंद्र शासित प्रदेश के भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के उपाध्यक्ष हैं। उन्होंने ही अपनी बेटी के सामने डीडीसी चुनाव में लड़ने का प्रस्ताव रखा था। काकपोरा सीट महिलाओं के लिए आरक्षित भी थी। मिन्हा पब्लिक सेक्टर में ही कुछ बेहतर करना चाहती थीं, इसलिए उन्होंने चुनाव लड़ने की बात पर सहमति जताई। आखिरकार उन्होंने पीडीपी प्रत्याशी रुकैया बानो को 14 मतों से हराया था। मिन्हा का कहना है कि वह अपनी पढ़ाई जारी रखने के साथ जिले का विकास भी सुनिश्चित करेंगी।

कुमारी श्वेता

30 वर्षीय कुमारी श्वेता पेशे से होम्योपैथ चिकित्सक हैं। उन्होंने पूर्व विधायक और डोगरा स्वाभिमान संगठन पार्टी की उम्मीदवार कांता अंदोत्रा को 1675 मतों के अंतर से हराया। उनका कहना है, “मैं जगतपुर गाँव से आती हूँ। ये लखनपुर स्थित राजमार्ग से सिर्फ 1 किलोमीटर दूर है फिर भी यहाँ सड़क नहीं है। पिछले साल जब मेरी शादी हुई और मैं बाहर आई तब मुझे कहीं भी जाने के लिए पैदल चलना पड़ता था। तभी मैंने तय किया कि मुझे चुनाव लड़ना है और अपने क्षेत्र के हालात बेहतर करने हैं।” 

श्वेता का मानना है कि डीडीसी चुनाव के बाद घाटी में रहने वाले लोगों के स्थानीय मुद्दे सामने आएँगे। इसके अलावा जम्मू और कश्मीर के बीच की दूरी भी कम होगी। दोनों क्षेत्रों के प्रतिनिधि एक-दूसरे पर फंड्स के बड़े हिस्से पर कब्ज़ा करने का आरोप लगाते थे। अब दोनों क्षेत्रों के पास बराबर चुनावी क्षेत्र हैं, ऐसे में बदलाव की आशा की जा सकती है। उन्होंने कहा, “प्रचार अभियान के दौरान मुझे आभास हुआ कि मेरे क्षेत्र में दवाखानों (डिस्पेंसरी) की संख्या बहुत कम है। स्वास्थ्य सुविधाओं को मद्देनज़र रखते हुए उनकी संख्या बढ़ाना मेरी सबसे पहली प्राथमिकता होगी।”        

एजाज़ अहमद खान और एजाज़ हुसैन

दो नाम ऐसे हैं जिन्होंने घाटी के संवेदनशील क्षेत्रों में जीत दर्ज की है। ये हैं, उत्तरी कश्मीर के बांदीपुरा स्थित तुलैल से जीत दर्ज करने वाले एजाज़ अहमद खान और खूनमोह से जीत हासिल करने वाले इंजीनियर एजाज़ हुसैन। भाजपा उम्मीदवार एजाज़ अहमद खान इस जीत का पूरा श्रेय पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को देते हैं। 

उन्होंने कहा कि पार्टी ने क्षेत्र में जिस तरह काम किया उसकी वजह से ही उन्हें जीत हासिल हुई। एजाज़ पूर्व विधायक फ़ाकिर मोहम्मद खान के बेटे हैं। वहीं खूनमोह से भाजपा के टिकट पर जीत हासिल करने वाले इंजीनियर एजाज़ हुसैन ने बताया कि वह 2006 से भाजपा के साथ हैं। वह पार्टी के युवा मोर्चा के पदाधिकारी भी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चढ़ता प्रोपेगेंडा, ढलता राजनीतिक आचरण: दिल्ली के असल सवालों को मुँह चिढ़ाती केजरीवाल की पैंतरेबाजी

ऐसे दर्जनों पैंतरे हैं जिन पर केजरीवाल से प्रश्न नहीं किए गए हैं और यही बात उनसे बार-बार ऐसे पैंतरे करवाती है।

25 साल पहले ULFA ने कर दी थी पति की हत्या, अब असम की पहली महिला वित्त मंत्री

असम में पहली बार एक महिला वित्त मंत्री चुनी गई है। नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने अपनी सरकार में वित्त विभाग 5 बार गोलाघाट से विधायक रह चुकी अजंता निओग को सौंपा।

UP: न्यूज एंकर समेत 4 पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी में गिरफ्तार, ₹55 हजार में कर रहे थे सौदा

उत्तर प्रदेश के कानपुर में चार पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजरी करते पकड़े गए हैं। इनमें से एक लोकल न्यूज चैनल का एमडी/एंकर है।

‘हमारे साथ खराब काम हुआ’: टिकरी बॉर्डर गैंगरेप में योगेंद्र यादव से पूछताछ, कविता और योगिता भी तलब

पीड़ित पिता के मुताबिक बेटी की मौत के बाद उन पर कुछ भी पुलिस को नहीं बताने का दबाव बनाया गया था।

पति से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी केरल की सौम्या, फलस्तीनी आतंकी संगठन हमास के रॉकेट ने उड़ाया

सौम्या संतोष हमास के रॉकेट हमले में मारी गई। जब हमला हुआ उस वक्त वह केरल में रह रहे अपने पति संतोष से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी।

97941 गाँव, 141610 टीम: कोरोना से लड़ाई में योगी सरकार का डोर-टू-डोर कैम्पेन असरदार, WHO ने भी माना लोहा

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए योगी सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों का पूरा ब्यौरा।

प्रचलित ख़बरें

इजरायल पर इस्लामी गुट हमास ने दागे 480 रॉकेट, केरल की सौम्या सहित 36 की मौत: 7 साल बाद ऐसा संघर्ष

फलस्तीनी इस्लामी गुट हमास ने इजरायल के कई शहरों पर ताबड़तोड़ रॉकेट दागे। गाजा पट्टी पर जवाबी हमले किए गए।

मुस्लिम वैज्ञानिक ‘मेजर जनरल पृथ्वीराज’ और PM वाजपेयी ने रचा था इतिहास, सोनिया ने दी थी संयम की सलाह

...उसके बाद कई देशों ने प्रतिबन्ध लगाए। लेकिन वाजपेयी झुके नहीं और यही कारण है कि देश आज सुपर-पावर बनने की ओर अग्रसर है।

‘इस्लाम को रियायतों से आज खतरे में फ्रांस’: सैनिकों ने राष्ट्रपति को गृहयुद्ध के खतरे से किया आगाह

फ्रांसीसी सैनिकों के एक समूह ने राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को खुला पत्र लिखा है। इस्लाम की वजह से फ्रांस में पैदा हुए खतरों को लेकर चेताया है।

‘#FreePalestine’ कैम्पेन पर ट्रोल हुई स्वरा भास्कर, मोसाद के पैरोडी अकाउंट के साथ लोगों ने लिए मजे

स्वरा के ट्वीट का हवाला देते हुए @TheMossadIL ने ट्वीट किया कि अगर इस ट्वीट को स्वरा भास्कर के ट्वीट से अधिक लाइक मिलते हैं, तो वे भारतीय अभिनेत्री को एक स्पेशल ‘पॉकेट रॉकेट’ भेजेंगे।

इजरायल का आयरन डोम आसमान में ही नष्ट कर देता है आतंकी संगठन हमास का रॉकेट: देखें Video

इजरायल ने फलस्तीनी आतंकी संगठन हमास द्वारा अपने शहरों को निशाना बनाकर दागे गए रॉकेट को आयरन डोम द्वारा किया नष्ट

बांग्लादेश: हिंदू एक्टर की माँ के माथे पर सिंदूर देख भड़के कट्टरपंथी, सोशल मीडिया में उगला जहर

बांग्लादेश में एक हिंदू अभिनेता की धार्मिक पहचान उजागर होने के बाद इस्लामिक लोगों ने अभिनेता के खिलाफ सोशल मीडिया में उगला जहर
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,388FansLike
92,652FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe