Monday, September 27, 2021
Homeराजनीतिजुटाए ₹72 लाख: दिल्ली दंगे में मारे गए हिन्दुओं के परिवारों के लिए आगे...

जुटाए ₹72 लाख: दिल्ली दंगे में मारे गए हिन्दुओं के परिवारों के लिए आगे आए कपिल मिश्रा और तजिंदर बग्गा

'क्राउडकैश' वेबसाइट पर दंगापीड़ितों के लिए प्रोफाइल बनाया गया है, जहाँ अभी भी लोग अपनी क्षमता व श्रद्धानुसार धनराशि दान कर रहे हैं। दोनों नेताओं का लक्ष्य है कि इन दंगों में मारे गए लोगों की पहचान की जाए और उनके परिवार को वित्तीय सहायता मुहैया कराई जाए।

दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों में कई लोगों की जान चली गई। जहाँ एक तरफ किसी कथित अल्पसंख्यक को कोई थप्पड़ भी लग गया तो उसे मीडिया ने खूब चलाया लेकिन अंकित शर्मा को 400 बार चाकुओं से गोद कर मार डाला तो भी इसके लेकर आवाज़ नहीं उठाई गई। पूर्व मंत्री कपिल शर्मा और दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तजिंदर सिंह बग्गा ने इन दंगों में मारे गए हिन्दुओं के पीड़ित परिवारों का दर्द लोगों के सामने लाने का बीड़ा उठाया। इतना ही नहीं, उन्होंने पीड़ित परिवारों के लिए धनराशि जुटाने का अभियान भी शुरू किया।

बता दें कि कपिल मिश्रा और तजिंदर बग्गा, दोनों ही हालिया दिल्ली विधानसभा चुनाव हार चुके हैं लेकिन फिर भी उनका जोश कायम है। जहाँ एक तरफ तजिंदर बग्गा हारने के बावजूद अपने विधानसभा क्षेत्र की जनता से किए गए वादों को निभा रहे हैं, कपिल मिश्रा ने शाहीन बाग़ और जाफराबाद में रोड जाम कर रहे उपद्रवियों के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई। चुनाव हारने के बावजूद ये दोनों नेता दिल्ली की जनता की सशक्त आवाज़ बन कर हिन्दुओं के लिए लड़ रहे हैं।

दोनों भाजपा नेताओं के प्रयासों के कारण अब तक जनता ने दिल्ली दंगों में मारे गए हिन्दुओं के परिवारों के लिए 72 लाख रुपए का सहयोग दिया है। हालाँकि, उन्होंने 71 लाख रुपए का ही लक्ष्य रखा था लेकिन उससे 1 लाख रुपए ज्यादा ही लोगों ने दिए हैं। ‘क्राउडकैश’ वेबसाइट पर दंगापीड़ितों के लिए प्रोफाइल बनाया गया है, जहाँ अभी भी लोग अपनी क्षमता व श्रद्धानुसार धनराशि दान कर रहे हैं। दोनों नेताओं का लक्ष्य है कि इन दंगों में मारे गए लोगों की पहचान की जाए और उनके परिवार को वित्तीय सहायता मुहैया कराई जाए

इस क्राउडफंडिंग अभियान को शुक्रवार (फरवरी 28, 2020) को लॉन्च किया गया था। कुल 3972 लोगों ने रुपए दानस्वरूप दिए हैं। इनमें से 4 ऐसे लोग हैं, जिन्होंने 1 लाख रुपए या उससे अधिक की राशि सहायतार्थ प्रदान की है। हाल ही में तजिंदर बग्गा ने बेंगलुरु में आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया, जहाँ दिल्ली दंगा में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

‘टोटी चोर’ के बाद मार्केट में AC ‘चोर’, कन्हैया ‘क्रांति’ कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

एक 'आंगनबाड़ी सेविका' का बेटा वातानुकूलित सुख ले! इससे अच्छे दिन क्या हो सकते हैं भला। लेकिन सुख लेने के चक्कर में कन्हैया कुमार ने AC ही उखाड़ लिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,737FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe