Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीतिभारत को रेपिस्तान कहने वाले IAS शाह फ़ैसल ने छोड़ी नौकरी, राजनीति में लेगा...

भारत को रेपिस्तान कहने वाले IAS शाह फ़ैसल ने छोड़ी नौकरी, राजनीति में लेगा इंट्री!

शाह फ़ैसल काफी विवादित अधिकारी रहे हैं और अक्सर उलूल-जलूल बयानों के कारण सुर्ख़ियों में बने रहते हैं। इसी साल अप्रैल में उन्होंने भारत को रेपिस्तान कहा था जिसके कारण वो सोशल मीडिया पर लोगों के गुस्से का शिकार हुए थे।

2009 में सिविल सर्विस परीक्षा में भारत में पहला रैंक हासिल करने वाले शाह फ़ैसल ने ब्यूरोक्रेसी छोड़ कर राजनीति में कूदने का फैसला ले लिया है। शाह फ़ैसल इस कठिन परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल करने वाले पहले कश्मीरी हैं। ख़बरों के अनुसार उन्होंने उमर अब्दुल्ला की पार्टी नेशनल कॉन्फ़्रेन्स ज्वाइन करने का मन बना लिया है और कभी भी इसकी घोषणा की जा सकती है। उन्होंने अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया है जिसके मंज़ूर होने के बाद वो NC में शामिल हो जाएँगे। कुपवाड़ा के रहने वाले शाह फ़ैसल के वहीं से लोकसभा चुनाव लड़ने के भी कयास लगाए जा रहे हैं।

जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर उनके इस फ़ैसले का स्वागत करते हुए कहा कि उनके राजनीति में शामिल होने से ब्यूरोक्रेसी का नुकसान है लेकिन राजनीति को उनकी उपस्थिति से फायदा मिलेगा।

वहीं फ़ैसल ने अपने इस्तीफ़े की जानकारी अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से दी। उन्होंने केंद्र सरकार की कश्मीर नीति को अपने राजनीति में आने की वजह बताई।

उन्होंने अपने ट्वीट में कहा:

“कश्मीर में चल रही निर्बाध हत्याओं और केंद्र सरकार द्वारा किसी भी प्रकार के विश्वसनीय पहल के अभाव में, मैंने IAS से इस्तीफ़ा देने का निर्णय लिया है। कश्मीर की ज़िंदगियाँ मायने रखती है। मैं शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मलेन करूँगा।”

इसके अलावे उन्होंने फ़ेसबुक पर अपने विस्तृत बयान में कहा कि मेनलैंड भारत में हाइपर-नेशनलिज़्म के कारण असहिष्णुता और घृणा की भावना बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि हिंदुत्व ताकतों ने 20 करोड़ मुस्लिमों को हाशिये पर भेज दिया है और उन्हें दोयम दर्जे के नागरिकों की तरह सीमित कर दिया गया है। उन्होंने केंद्र सरकार पर NIA, CBI और RBI जैसी संस्थाओं को ध्वंस करने का आरोप भी मढ़ा और कहा कि ये सरकार देश की संवैधानिक सम्पदा को नष्ट करना चाहती है। साथ ही उन्होंने अपने बयान में दावा किया कि इस देश में ज्यादा दिन तक आवाज़ों को दबा कर नहीं रखा जा सकता।

बता दें कि शाह फ़ैसल काफी विवादित अधिकारी रहे हैं और अक्सर उलूल-जलूल बयानों के कारण सुर्ख़ियों में बने रहते हैं। इसी साल अप्रैल में उन्होंने भारत को रेपिस्तान कहा था जिसके कारण वो सोशल मीडिया पर लोगों के गुस्से का शिकार हुए थे।

उनके इस बयान के बाद जनरल एडमिनिस्ट्रेशन विभाग (GAD) द्वारा उन्हें नोटिस जारी किया गया था। अपने नोटिस में GAD ने कहा था कि फ़ैसल आधिकारिक कर्तव्य के निर्वहन में पूर्ण ईमानदारी और अखंडता बनाए रखने में कथित रूप से विफल रहे हैं। इस नोटिस और लोगों के गुस्से का सामना करने के बावजूद उन्होंने अपने ट्वीट को डिलीट करने से इंकार कर दिया था और साथ ही कहा था कि वो भविष्य में फिर से ऐसे ट्वीट करने से नहीं हिचकेंगे। उस समय उन्होंने सरकार को बदल देने की बात भी कही थी। उस समय भी उमर अब्दुल्ला ने उनका समर्थन किया था और उनको नोटिस भेजे जाने की निंदा की थी।

इस से भी पहले 2016 में भी वो इस्तीफा देने की धमकी दे चुके हैं। विवादित अधिकारी फ़ैसल ने उस समय उन्होंने राष्ट्रीय मीडिया पर आरोपों की झड़ी लगाते हुए कहा था कि बुरहान वानी से उनकी उनकी तुलना कर उनके ख़िलाफ़ एक दुष्प्रचार चलाया जा रहा है।

इसके अलावे वह इस साल जुलाई में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का भी समर्थन कर चुके हैं। इमरान ख़ान का समर्थन करते हुए उन्होंने कहा था कि वो तो शांति की प्रक्रिया स्थापित करना चाहते हैं लेकिन भारत में ही ऐसे लोग हैं जो ये होना नहीं देना चाहते। उन्होंने इमरान को बदलाव लाने वाला नेता भी बताया था।

अब देखना यह है कि शुक्रवार को होने वाले प्रेस कॉन्फ़्रेन्स में फ़ैसल क्या करवट लेते हैं और राजनीति में आगे उनका क्या रुख रहेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -